Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» 33 परसेंट से कम रिजल्ट वाले 450 टीचर्स को शोकॉज नोटिस

33 परसेंट से कम रिजल्ट वाले 450 टीचर्स को शोकॉज नोटिस

गवर्नमेंट स्कूलों के जो टीचर स्कूलों में बच्चों को पढ़ाने की बजाय नेतागिरी करते हैं, स्कूल से गायब रहते हैं और...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 15, 2018, 02:10 AM IST

गवर्नमेंट स्कूलों के जो टीचर स्कूलों में बच्चों को पढ़ाने की बजाय नेतागिरी करते हैं, स्कूल से गायब रहते हैं और ग्रुपिज्म करके लड़ाई झगड़ों में व्यस्त रहते हैं अब ऐसे टीचर्स को एजुकेशन डिपार्टमेंट किसी भी सूरत में बख्शेगा नहीं। ऐसे में लगभग 450 टीचर्स जिनका सब्जेक्ट वाइज सीबीएसई का दसवीं का रिजल्ट 33 प्रतिशत से कम है उन्हें एजुकेशन डिपार्टमेंट वाय नेम शोकॉज नोटिस करेगा।

स्क्ूल हेड को जारी हो चुके हैं नोटिस: गवर्नमेंट स्कूलों का दसवीं क्लास का रिजल्ट डाउन आने पर एजुकेशन डिपार्टमेंट ने अब हेड के बाद टीचर्स को बाय नेम शोकॉज नोटिस देने की तैयार कर ली है। इससे पहले लगभग 30 स्कूलों के हेडमास्टर और हेड मिस्ट्रेस को भी शोकॉज नोटिस दे दिया गया है, जिनका ओवरऑल रिजल्ट 40 परसेंट से नीचे रहा है। अब हेड्स से एजुकेशन डिपार्टमेंट ने उन टीचर्स की बाय नेम लिस्ट मांगी है जिनका रिजल्ट 33 परसेंट से नीचे रहा है।

टीचर्स की लापरवाही से डाउन आया रिजल्ट

डीईओ अनुजीत कौर का कहना है कि स्कूलों के रिजल्ट में आई गिरावट की पूरी जिम्मेदारी स्कूल टीचर्स और हेड की ही है। इनकी गलती को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता, क्योंकि ऐसे ही स्कूलों का रिजल्ट गिरा है जहां पर स्कूल हेड लापरवाह हैं और टीचर्स हेडस की सुनते ही नहीं। रिजल्ट का खामियाजा टीचर्स और हेड काे ही भुगतना होगा। एसीआर भी पूरी तरह से रिजल्ट को ध्यान रखकर ही तैयार होगी। जिनका रिजल्ट अच्छा नहीं होगा उसकी एसीआर भी अच्छी नहीं लिखी जाएगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Chandigarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 33 परसेंट से कम रिजल्ट वाले 450 टीचर्स को शोकॉज नोटिस
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×