Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» पीजी कॉलेजों के प्रिंसिपल बाय डिफॉल्ट नहीं होंगे अकादमी काउंसिल के मेंबर्स

पीजी कॉलेजों के प्रिंसिपल बाय डिफॉल्ट नहीं होंगे अकादमी काउंसिल के मेंबर्स

पीयू से एफिलिएटेड कॉलेजों में दो या दो से अधिक पोस्ट ग्रेजुएट चलाने वाले कॉलेजों के प्रिंसिपल अब बाय डिफॉल्ट...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 15, 2018, 02:10 AM IST

पीयू से एफिलिएटेड कॉलेजों में दो या दो से अधिक पोस्ट ग्रेजुएट चलाने वाले कॉलेजों के प्रिंसिपल अब बाय डिफॉल्ट एकेडमिक काउंसिल के मेंबर्स नहीं होंगे। पीयू में गवर्नेंस रिफॉर्म के लिए बनी जस्टिस बीबी प्रसून वाली कमेटी ने जो सिर्फ सिफारिशें की हैं, उसमें प्रिंसिपलों को अपने-आप मिलने वाली यह सुविधा अब नहीं मिलेगी। कमेटी की रिपोर्ट ना सिर्फ सीनेटरों के अधिकारों को कम करती है बल्कि एफिलिएटेड कॉलेजों की लॉबी का दबदबा भी कम करती है। इसमें रजिस्ट्रार और वीसी के कुछ अधिकार बढ़ा दिए हैं। हालांकि यह बदलाव मामूली है। अंडर ग्रेजुएट बोर्ड ऑफ स्टडीज में मेंबर्स की नियुक्ति का अधिकार वाइस चांसलर को दिया गया है। सिंडिकेट में पास हो चुके सिर्फ उन्हीं विषयों पर सीनेट में बहस हो सकेगी जिसकी इजाजत वाइस चांसलर देंगे। रजिस्ट्रार के पास सीनेट या सिंडिकेट का एजेंडा भेजने से कम से कम 2 दिन पहले पहुंचने वाले प्रस्ताव को ही मीटिंग में डिस्कशन के लिए जोड़ा जाएगा। वह भी लिखित में होना चाहिए। 23 जून को होने वाली मीटिंग के बाद इस कमेटी की रिपोर्ट पर कोई डिसीजन होगा। यूनिवर्सिटी के फाइनेंशियल क्रंच को लेकर चल रहे कोर्ट केस में अब गवर्नेंस रिफॉर्म भी एक हिस्सा हो गए हैं। ऐसे ही सीनेट से भी काफी सारे काम वापस ले लिए गए जो प्रशासनिक अधिकारियों के स्तर पर ही हो जाएंगे। कमेटी ने डेढ़ साल में करीब 60 मीटिंगों के बाद यह रिपोर्ट तैयार की है।

एकेडमिक काउंसिल में अब लैंग्वेज लिटरेचर एंड फाइन आर्ट, सोशल साइंस, 9 बिजनेस मैनेजमेंट एंड कॉमर्स मेडिकल साइंस और इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के डीन एक्स ऑफिशियो मेंबर्स होंगे। अभी तक इंजीनियरिंग और मेडिकल को यह सुविधा नहीं थी। एकेडमिक काउंसिल के इलेक्शन के लिए टीचरों के 11वीं 12वीं व विशेष कोर्सेज पढ़ाने की शर्त को खत्म कर दिया गया है। इसके बजाय एफिलिएटेड कॉलेज में 12 महीने तक पढ़ाने वाला कोई भी व्यक्ति इसके एलिजिबल होगा।

फैकल्टीज की संख्या भी 11 से घटाकर 6 कर दी गई

कमेटी ने फैकल्टीज की संख्या 11 से कम करके छह कर दी है। पहले लैंग्वेज, आर्ट्स, साइंस, लॉ, मेडिकल साइंसेस, बिजनेस मैनेजमेंट एंड कॉमर्स, इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, एजुकेशन, डेयरी एंड एनिमल हसबेंडरी एंड एग्रीकल्चर, डिजाइन एंड फाइन आर्ट्स और फार्मास्यूटिकल साइंसेस फैकल्टी थीं। अब लैंग्वेज लिटरेचर एंड परफॉर्मिंग आर्ट्स, सोशल साइंसेज, साइंस, लॉ बिजनेस मैनेजमेंट एंड कॉमर्स, मेडिकल साइंसेज और इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी फैकल्टी रहेगी। इंजीनियरिंग फैकल्टी में ही फैकल्टी ऑफ आर्किटेक्चर एंड प्लानिंग को जोड़ दिया जाएगा। 2007 में सीनेट ने इसको पास किया था और 2008 से यह प्रस्ताव केंद्र सरकार के पास गया हुआ है।

सिर्फ एक फैकल्टी में वोट करेंगे सीनेटर...सीनेटरों को अधिकतम दो फैकल्टीज चुनने का अधिकार होगा जिसमें से पहले वह रहेगी जिसमें उन्होंने पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। वह फ़र्स्ट प्रेफरेंस वाली फैकल्टी में ही वोट कर सकेंगे।

उसी फैकल्टी में पीजी, तो ही एडिड मेंबर्स...अब तक यूनिवर्सिटी में प्रावधान था की दो सीनेट मेंबर 3 एडिड मेंबर बना सकते हैं। लेकिन अब सिर्फ वही व्यक्ति एडिड मेंबर बन सकेगा जो संबंधित फैकल्टी का पोस्ट ग्रेजुएट हो।

मेंबर्स की कमेटी चुनेगी डीन...हर फैकल्टी के डीन की अपॉइंटमेंट 31 जनवरी तक हो जाएगी। यूनिवर्सिटी के 10 सीनियर मोस्ट प्रोफेसर के आवेदन मांगे जाएंगे जिस पर वीसी, डीयूआई व तीन सीनियर मोस्ट प्रोफेसर डीन चुनेंगे।

15 साल का अनुभव पेपर बनाने को जरूरी... 15 साल के टीचिंग एक्सपीरियंस और 3 साल तक पढ़ाने वाला व्यक्ति ही पेपर सेटर हो सकेगा। पीजी मेंबरशिप के लिए 10 साल के लिए अब 2000 रुपए फीस अदा करनी होगी।

5 साल टीचिंग एक्सपीरियंस वाला ही वार्डन...कमेटी की सिफारिशों के अनुसार 5 साल से कम टीचिंग एक्सपीरियंस वाले व्यक्ति को यूनिवर्सिटी वार्डन नियुक्त नहीं कर सकेगी। उसे उसकी टीचिंग ड्यूटीज में कोई छूट नहीं दी गई है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Chandigarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: पीजी कॉलेजों के प्रिंसिपल बाय डिफॉल्ट नहीं होंगे अकादमी काउंसिल के मेंबर्स
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×