--Advertisement--

एचपीएससी में सीएम खट्‌टर क्यों इतना दखल दे रहे: भूपेंद्र हुड्‌डा

मुख्यमंत्री मनोहर लाल की ओर से एचपीएससी को दिए लेकर रोहतक में आयोजित कार्यक्रम में दिए बयान का सोशल मीडिया पर चल...

Danik Bhaskar | Jun 13, 2018, 03:05 AM IST
मुख्यमंत्री मनोहर लाल की ओर से एचपीएससी को दिए लेकर रोहतक में आयोजित कार्यक्रम में दिए बयान का सोशल मीडिया पर चल रहे वीडियो पर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा ने उन्हें घेरा है।

हुड्‌डा ने कहा है कि अब एचपीएससी चेयरमैन की ओर से सीएम से बातचीत करके ही रिजल्ट जारी किया जा रहा है। जबकि वह स्वतंत्र बॉडी है और मुख्यमंत्री को इसमें दखल नहीं देना चाहिए। एचएसएससी का खुलासा पहले ही हो चुका है। आरोप लगाया कि वह तो परचून की दुकान बन चुकी है, जहां नौकरी के रेट तय हैं। हुड्‌डा मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। पूर्व सीएम ने कहा कि उनके कार्यकाल में नौकरी बिकने का आरोप लगा रही भाजपा ने उनके वक्त एचपीएससी के चेयरमैन रहने वाले को फिर राज्य सभा में क्यों भेजा। मुख्यमंत्री खुद फोन करके रिजल्ट जारी करा रहे हैं। उन्हें इस प्रकार दखल नहीं देना चाहिए। पूर्व सीएम हुड्‌डा ने कहा कि सरकार जनसंपर्क-जनसमर्थन अभियान चला रही है। वह लोगों को उपलब्धि बता रही है, लेकिन कुछ किया नहीं। उन्होंने कहा कि यदि उनसे मुख्यमंत्री मिलकर उपलब्धि बताकर उन्हें जानकारी कर दें तो वे भी उनका समर्थन कर देंगे। मुख्यमंत्री तो अपने हलके करनाल में पूर्व में स्वीकृत एअर पोर्ट के लिए जमीन तक अधिग्रहण नहीं कर पाए हैं।

आरोप

सीएम एचपीएससी चेयरमैन को फोन कर जारी करा रहे रिजल्ट

हुड्‌डा ने सरकार से चार सवालों पर मांगा जवाब

हुड्‌डा ने सरकार ने कुछ सवालों के जवाब भी मांगे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार बताए कि 2015-16 में हरियाणा पर 70 हजार करोड़ का कर्ज था, जो अब एक लाख 60 हजार करोड़ का है। कहां पैसा खर्च हुआ, सरकार बताए। किसानों को टोकन दे दिया लेकिन अभी तक गन्ना किसानों को 747 करोड़ रुपए क्यों नहीं दिए गए। एचपीएससी में मुख्यमंत्री क्यों दखल दे रहे हैं। भाखड़ा व्यास मैनेजमेंट बोर्ड में भाखड़ा डैम के हिस्सेदार राज्यों से कोई चेयरमैन नहीं बन सकता। बोर्ड ने मेंबर इरिगेशन के लिए भी ऐसी शर्त लगा दी कि प्रदेश में कोई यह पूरी नहीं करता। सरकार ने इस पर दखल क्यों नहीं दिया।

भास्कर न्यूज | चंडीगढ़

मुख्यमंत्री मनोहर लाल की ओर से एचपीएससी को दिए लेकर रोहतक में आयोजित कार्यक्रम में दिए बयान का सोशल मीडिया पर चल रहे वीडियो पर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा ने उन्हें घेरा है।

हुड्‌डा ने कहा है कि अब एचपीएससी चेयरमैन की ओर से सीएम से बातचीत करके ही रिजल्ट जारी किया जा रहा है। जबकि वह स्वतंत्र बॉडी है और मुख्यमंत्री को इसमें दखल नहीं देना चाहिए। एचएसएससी का खुलासा पहले ही हो चुका है। आरोप लगाया कि वह तो परचून की दुकान बन चुकी है, जहां नौकरी के रेट तय हैं। हुड्‌डा मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। पूर्व सीएम ने कहा कि उनके कार्यकाल में नौकरी बिकने का आरोप लगा रही भाजपा ने उनके वक्त एचपीएससी के चेयरमैन रहने वाले को फिर राज्य सभा में क्यों भेजा। मुख्यमंत्री खुद फोन करके रिजल्ट जारी करा रहे हैं। उन्हें इस प्रकार दखल नहीं देना चाहिए। पूर्व सीएम हुड्‌डा ने कहा कि सरकार जनसंपर्क-जनसमर्थन अभियान चला रही है। वह लोगों को उपलब्धि बता रही है, लेकिन कुछ किया नहीं। उन्होंने कहा कि यदि उनसे मुख्यमंत्री मिलकर उपलब्धि बताकर उन्हें जानकारी कर दें तो वे भी उनका समर्थन कर देंगे। मुख्यमंत्री तो अपने हलके करनाल में पूर्व में स्वीकृत एअर पोर्ट के लिए जमीन तक अधिग्रहण नहीं कर पाए हैं।