चंडीगढ़ समाचार

--Advertisement--

जेईई एडवांस्ड के लिए प्रणव रोज 8 से 9 घंटे करते थे स्टडी

जॉइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (जेईई) एडवांस्ड में इस बार चंडीगढ़ के स्टूडेंट ने बाजी मारी है। चंडीगढ़ सेक्टर-15 के प्रणव...

Dainik Bhaskar

Jun 10, 2018, 03:10 AM IST
जेईई एडवांस्ड के लिए प्रणव रोज 8 से 9 घंटे करते थे स्टडी
जॉइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (जेईई) एडवांस्ड में इस बार चंडीगढ़ के स्टूडेंट ने बाजी मारी है। चंडीगढ़ सेक्टर-15 के प्रणव गोयल ने ऑल इंडिया रैंक 1 हासिल किया है। यह दावा चंडीगढ़ सेक्टर-34 के चैतन्य इंस्टीट़्यूट ने किया है। रिजल्ट रविवार 10 बजे आना है लेकिन इंस्टीट्यूट ने सुबह 9.45 पर प्रेस कॉन्फ्रेंस रखी है जिसमें प्रणव को मीडिया से इंटरैक्ट करवाया जाएगा। हालांकि भास्कर ने एक दिन पहले ही शनिवार को प्रणव गाेयल से बात की और जाना कि 12वीं में ट्राईसिटी टॉपर बनने के बाद देश के टॉपर बनने तक उनके लिए क्या चैलेंजेज थे और कैसे उन्होंने इन चैलेंजेज से पार पाया। प्रणव ने इस एग्जाम में 360 में से 337 स्कोर किया है।


दिल्ली पब्लिक स्कूल सेक्टर-40 से 10वीं और भवन विद्यालय पंचकूला से 12वीं कर चुके प्रणव ने 10वीं में सीजीपीए 10 लिया और 12वीं में 97.2 परसेंट लेकर ट्राईसिटी में टॉप किया। हालांकि चौथी क्लास से प्रणव का यह रिकॉर्ड कायम है कि वह हमेशा अपनी क्लास में टॉप पर आते हैं। जेईई एडवांस देने से पहले जेईई मेन्स का रिजल्ट आया था उसमें उन्होंने 360 में से 350 स्कोर लिए थे। यह 150 स्कोर लेने वाले देश के 6 स्टूडेंट थे इसलिए टाई होने की वजह से सब्जेक्ट में नंबर के अाधार पर रैंक दिए गए और प्रणव को चौथा रैंक मिला था।



प्रणव ने कहा कि वह हर रोज आधा घंटा लगाकर यह शेड्यूल बनाता था कि उसे पूरे दिन में क्या कुछ करना है। कोशिश करता था कि जो शेड्यूल बना उसे पूरी तरह फॉलो करूं। 8 से 9 घंटे तक पढ़ाई करता था और कई बार ऐसा होता था कि डिमोरलाइज हो जाता था। ऐसे में अपने पियर ग्रुप को देखकर मोटिवेटेड होता था कि अगर वह कर रहे हैं तो मैं क्यों नहीं कर सकता। पढ़ाई करके जब थक जाता तो नॉवल पढ़ता या टीवी पर कार्टून देखता था।


प्रणव ने कहा कि वह आईआईटी मुंबई में एडमिशन लेंगे। इसके बाद दो साल जॉब फिर एमबीए करने के बाद अल्टीमेट लक्ष्य बिजनेस करने का है क्योंकि वह एंटरप्रेन्योर बनना चाहते हैं। प्रणव ने कहा कि अगर आपको जेईई एडवांस क्रैक करना है तो कैलकुलेटिव और प्लांड तरीके से चलना होगा और यह एंश्योर करना होगा कि अाप पढ़ाई में वही पढ़ रहे हो जिसकी जरूरत पड़ेगी। प्रणव के पिता पंकज गोयल और मां ममता गाेयल दोनों बिजनेस करते हैं और उनकी फार्मा कंपनी है। पेरेंट्स का कहना था कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है।

X
जेईई एडवांस्ड के लिए प्रणव रोज 8 से 9 घंटे करते थे स्टडी
Click to listen..