--Advertisement--

हेली टैक्सी अब हफ्ते में 3 दिन, 15 से अनाडेल में उतरेगा हेलीकॉप्टर

चंडीगढ़ से शिमला के बीच 4 जून से शुरू हुई हेली टैक्सी सर्विस को मिले अच्छे रिस्पॉन्स को देखते हुए इसके फेरे दो दिन...

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2018, 03:10 AM IST
हेली टैक्सी अब हफ्ते में 3 दिन, 15 से अनाडेल में उतरेगा हेलीकॉप्टर
चंडीगढ़ से शिमला के बीच 4 जून से शुरू हुई हेली टैक्सी सर्विस को मिले अच्छे रिस्पॉन्स को देखते हुए इसके फेरे दो दिन से बढ़ाकर हफ्ते में तीन दिन कर दिए हैं। अब हेलीकॉप्टर जुब्बड़हट्टी एयरपोर्ट पर नहीं बल्कि सेना के हेलीपैड अनाडेल पर उतरेगा। रक्षा मंत्रालय ने राज्य सरकार को अनाडेल में हेलीकॉप्टर की लैडिंग की भी परमिशन दे दी है।

अब सीधे शिमला सिर्फ 30 मिनट में पहुंच जाएंगे। शुक्रवार को चंडीगढ़ से आने वाला हेलीकॉप्टर अब जुब्बड़हट्टी नहीं बल्कि अनाडेल में लैंड करेगा। इससे यात्रियों का 22 किमी का सफर और कम हो जाएगा। उन्हें जुब्बड़हट्टी से शिमला नहीं आना पड़ेगा। इससे पहले यहां सीएम और फौज के हेलीकॉप्टर की लैंडिंग की परमिशन थी। पवनहंस के जॉइंट जनरल मैनेजर राम कृष्ण ने बताया कि ऑक्युपेंसी 80 से 85 फीसदी चल रही है। जून में ऑक्युपेंसी बढ़ने की वजह से इसके फेरे बढ़ा दिए गए हैं।

टूरिस्ट अब हर सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को चंडीगढ़ से शिमला और शिमला से चंडीगढ़ आ-जा सकेंगे। इससे पहले हेली टैक्सी सर्विस शुरू होने के दिन ही हिमाचल के चीफ सेक्रेटरी ने इसके फेरे बढ़ाने की घोषणा कर दी थी। इसके बाद लोगों की डिमांड को देखते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने हफ्ते में तीन दिन हेलीकॉप्टर सेवा शुरु करने की घोषणा कर दी है।

शिमला जाने के लिए हेली टैक्सी सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को, अब नहीं करना पड़ेगा जुब्बड़हट्टी से शिमला तक का डेढ़ घंटे का सफर

इस महीने सीटें फुल...







चंडीगढ़ से शिमला सिर्फ 30 मिनट में पहुंच जाएंगे...

शिमला के ढली बाइपास पर प्रदेश का पहला हेलीपैड बनेगा। 10 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले इस हेलीपोर्ट में एक साथ तीन हेलीकॉप्टर को पार्क करने के लिए (हैंगर) की सुविधा होगी। सरकार ने इसके निर्माण की समय अवधि को दस महीने से घटाकर पांच महीने कर दिया है। टूरिस्ट डिपार्टमेंट ने जिस कंपनी को इस हेलीपैड के निर्माण का काम सौंपा है, उसे नवंबर तक इसे तैयार करना है। ताकि यहां पर हेलिकॉप्टर की लैंडिंग शुरू की जा सके। यह हेलीपोर्ट पर्यटन के क्षेत्र में एक मील का पत्थर साबित होगा। इस हेलीपैड के बन जाने से घंटों का सफर मिनटों में तय किया जाएगा। अभी लोगों को हेलीकॉप्टर या हवाई जहाज में सफर करने के लिए 25 किमी दूर जुब्बड़हट्टी जाना पड़ रहा है। लोगों को और अधिक सुविधा प्रदान करने के लिए सरकार शिमला के ढली में इस हेलीपैड का निर्माण जल्दी से करवाना चाह रही है, ताकि लोगों का समय और पैसा दोनों बच सके।


यह हेलीपैड 50 बाई 50 मीटर का होगा। हेलीपैड के निर्माण को लेकर सारी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई हैं। जमीन पर्यटन विभाग के नाम हो चुकी है। प्रोजेक्ट पर काम शुरू करने के लिए वन विभाग से पहले ही मंजूरी ली जा चुकी है। अब कंपनी द्वारा काम शुरू करने की औपचारिकताओं को पूरा करना है। कंपनी को नवंबर तक इस हेलीपोर्ट को तैयार करना है, ताकि नए साल के मौके पर पर्यटकों की इस हेलीपैड पर लैंडिंग करवाई जा सके। मुख्य सचिव खुद इस प्रोजेक्ट की समीक्षा कर रहे हैं।



X
हेली टैक्सी अब हफ्ते में 3 दिन, 15 से अनाडेल में उतरेगा हेलीकॉप्टर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..