• Home
  • Union Territory News
  • Chandigarh News
  • News
  • किसान खुदकुशी पर मुआवजा देना कोई हल नहीं, सरकार बताए कैसे रोकेगी : हाईकोर्ट
--Advertisement--

किसान खुदकुशी पर मुआवजा देना कोई हल नहीं, सरकार बताए कैसे रोकेगी : हाईकोर्ट

चंडीगढ़ . पंजाब में कर्ज के बोझ तले दबे किसानों की आत्महत्याओं के मामले में पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने बुधवार को...

Danik Bhaskar | Jul 12, 2018, 03:20 AM IST
चंडीगढ़ . पंजाब में कर्ज के बोझ तले दबे किसानों की आत्महत्याओं के मामले में पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने बुधवार को टिप्पणी करते हुए कहा कि सरकार की तरफ से दिए जाने वाले मोनेटरी रिलीफ आत्महत्या करने वालों के लिए इंसेंटिव देने जैसा है। चीफ जस्टिस कृष्ण मुरारी और जस्टिस अरुण पल्ली की खंडपीठ ने कहा कि पंजाब सरकार इन मामलों में मुआवजा राशि देकर संतुष्ट नहीं हो सकती। इन मामलों में मुआवजा देना आत्महत्याओं को बढ़ावा देने जैसा भी है। ऐसे में कुछ एक मामले में यह भी हो सकता है की सरकार से राहत पाने की उम्मीद में ही आत्महत्या करने के लिए विवश हो गए। ऐसे में राज्य सरकार मुआवजा देने की जानकारी न देकर इस समस्या के स्थाई समाधान की तरफ उठाए जाने वाले कदमों की जानकारी कोर्ट को दें। हाईकोर्ट ने कहा कि इन मामलों में मुआवजा देना समस्या का समाधान नहीं है। पंजाब सरकार बताए कि उन्होंने किसानों की आत्महत्याओं को रोकने के लिए क्या कदम उठाए हैं और भविष्य में वह इस दिशा में क्या काम करने जा रहे हैं कोर्ट ने इसके लिए 3 सप्ताह का समय देते हुए पंजाब सरकार को एफिडेविट दायर करने को कहा है। इन मामलों में पंजाब सरकार की तरफ से मुआवजा राशि दिए जाने संबंधी सरकार का एफिडेविट कोर्ट ने रिकॉर्ड पर लेने से इंकार कर दिया। खंडपीठ ने कहा कि उन्हें मुआवजे की जानकारी नहीं बल्कि समस्या का समाधान करने की दिशा में उठाए गए कदमों की जानकारी दी जाए।

तीन हफ्ते में मांगा एफिडेविट

सरकार के निकाय विभाग और बठिंडा नगर निगम के कमिश्नर को नोटिस जारी

चडीगढ़ |
बठिंडा में सांड के हमले से कोमा में पड़े 40 वर्षीय बिजनेसमैन रमेश कुमार के परिवार ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर 30 लाख रुपए मुआवजा दिए जाने की मांग की है। इस याचिका पर जस्टिस आरएन रेना ने पंजाब सरकार के स्थानीय निकाय विभाग और बठिंडा नगर निगम के कमिश्नर को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। मामले में 18 अगस्त को अगली सुनवाई होगी। बिजनेसमैन रमेश की प|ी सुखविंदर कौर ने याचिका दायर की है कि उनके पति पर 14 सितंबर 2016 को सांड ने हमला कर दिया था। उसके बाद उन्हें बठिंडा के सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया। वे ट्रॉमा सेंटर में कोमा में है ।