Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» नगर निगम 40 करोड़ के डिफाल्टर्स से रिकवरी के लिए भेजेगा नोटिस

नगर निगम 40 करोड़ के डिफाल्टर्स से रिकवरी के लिए भेजेगा नोटिस

नगर निगम की टैक्स ब्रांच ने शहर के बड़े रेजिडेंशियल और कमर्शियल डिफाल्टरों की लिस्ट तैयार कर ली है। इनसे निगम ने 40...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 11, 2018, 04:10 AM IST

नगर निगम की टैक्स ब्रांच ने शहर के बड़े रेजिडेंशियल और कमर्शियल डिफाल्टरों की लिस्ट तैयार कर ली है। इनसे निगम ने 40 करोड़ रुपए लेने हैं। इनमें पंजाब-हरियाणा के सरकारी ऑफिस भी शामिल हैं। इस लिस्ट में कमर्शियल प्रॉपर्टी के 50 हजार डिफाल्टर हैं। इनमें 10 डिफाल्टर से लाखों रुपए की वसूली करनी है। डिफाल्टर्स की लिस्ट मेयर और निगम कमिश्नर को भी सौंपी गई है। अब निगम की टैक्स ब्रांच इन सभी डिफाल्टर्स को नोटिस जारी करेगी। वहीं जिन्होंने सेल्फ असेसमेंट स्कीम में टैक्स जमा नहीं करवाया। उन्हें भी 25 फीसदी अतिरिक्त और 12 फीसदी ब्याज के साथ टैक्स जमा करना होगा। निगम की 1 अप्रैल से 31 मई तक चली सेल्फ असेसमेंट स्कीम का अच्छा रिस्पॉन्स रहा। 2 महीने चली स्कीम से 24 करोड़ 50 लाख रुपए आए। इस स्कीम के तहत रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी पर 20 फीसदी और कमर्शियल प्रॉपर्टी पर 10 फीसदी छूट दी गई थी। अब निगम की टैक्स ब्रांच ने डिफाल्टर्स की लिस्ट बना ली है। इनसे 40 करोड़ रुपए की वसूली करनी है। इनसे रिकवरी करके 55 करोड़ रुपए का टारगेट रखा है। पिछले साल निगम ने डिफाॅल्टर्स सहित कमर्शियल और रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी टैक्स से 42 करोड़ रुपए डिफाल्टरों से वसूले थे।

6 लाख से 15 लाख तक के डिफाल्टर्स: निगम ने जो लिस्ट तैयार की है, उसमें शिशु निकेतन सीनियर सेकंडरी स्कूल सेक्टर-22डी, स्टेपिंग स्टोन स्कूल सेक्टर-38ए, गुरु तेग बहादुर पब्लिक स्कूल सेक्टर-15ए, अमर जैन होस्टल सेक्टर-27बी, गुरु गोबिंद सिंह भवन सेक्टर-35, एससीओ सेक्टर-46सी , सेक्टर-40, सेक्टर 41 डी ,17डी और सेक्टर-26 के एससीओ शामिल हैं।

लिस्ट में पंजाब कांग्रेस भवन भी शामिल

इन डिफाल्टर्स की लिस्ट में सेक्टर 15 स्थित पंजाब कांग्रेस भवन और सेक्टर-17 का एक शोरूम भी शामिल है, इनसे निगम ने बकाया राशि वसूलनी है, लेकिन अभी केस कोर्ट में विचाराधीन है। निगम ने पंजाब कांग्रेस भवन को प्रॉपर्टी अटैच करने का नोटिस जारी करना था, इससे पहले ही पंजाब कांग्रेस एमसी के खिलाफ कोर्ट में चली गई। मामला कोर्ट में पहुंचने से एमसी अपनी कार्रवाई नहीं कर सका।

नगर निगम के एडिशनल कमिश्नर अनिल कुमार गर्ग का कहना है कि सभी डिफॉल्टर्स से करोड़ों की वसूली की जानी है। डिफॉल्टर्स की लिस्ट बनाकर निगम कमिश्नर के पास भेजी जा चुकी है। अब इन सभी को जल्द ही नोटिस जारी किए जाएंगे। इनको पहले भी नोटिस दिए जा चुके हैं लेकिन अभी तक बकाया राशि जमा नहीं करवाई है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×