--Advertisement--

पीयू के गर्ल्स हॉस्टल में नोटिस: सही कपड़े पहनने के बाद ही आएं कॉमन रूम या फंक्शन में

पहली गर्ल प्रेसिडेंट बनने के 2 दिन बाद ही पीयू प्रशासन ने लगाई लड़कियों पर पाबंदी

Danik Bhaskar | Sep 09, 2018, 05:42 AM IST
पंजाब विश्वविद्यालय (फाइल फोट पंजाब विश्वविद्यालय (फाइल फोट

चंडीगढ़. पीयू में पहली बार कोई लड़की स्टूडेंट काउंसिल की प्रेसिडेंट चुनी गई है और इसको सोच में बड़ा बदलाव कहा जा रहा है। दूसरी तरफ अब पीयू के ही गर्ल्स हॉस्टल में एक नोटिस लगा है जो फिर से लड़कियों के प्रति बदली हुई सोच पर सवाल खड़ा कर रहा है।

दरअसल इस नोटिस में कहा गया है कि लड़कियां प्रॉपर ड्रेस में फंक्शन या कॉमन रुम या बाकी जगह नहीं आती हैं तो उन पर कार्रवाई की जाएगी। पीयू अथॉरिटी के इस नोटिस पर अब पीयू की सभी स्टूडेंट ऑर्गेनाइजेशन खिलाफ हो गई हैं। दरअसल माता गुजरी गर्ल्स हॉस्टल नंबर-1 के नोटिस बोर्ड में एक नोटिस लगाया गया है। इसमें हॉस्टल में रहने वाले रेजिडेंट्स को कहा गया है कि वे कॉमन रुम, डाइनिंग हॉल और हॉस्टल ऑफिस या फंक्शन में प्रॉपरली ड्रेस्ड होकर ही आएं। ऐसा न करने पर हॉस्टल वार्डन पेनल्टी लगा सकती है जिसके लिए हॉस्टल रुल बुक पेज नंबर-5, पॉइंट नंबर-20 का हवाला दिया गया है।

स्टूडेंट्स ने किया प्रोटेस्ट शुरू : नोटिस का अब पीयू के सभी स्टूडेंट्स ने विरोध करना शुरू कर दिया है। स्टूडेंट्स की तरफ से कहा गया है कि इस तरह के नियम लड़कियों के लिए ही क्यों बनाए गए हैं इसलिए इस तरह के नियमों को खत्म करना चाहिए। वहीं एबीवीपी ने इस नोटिस को लेकर कहा है कि ये गलत निर्णय है और ये नहीं होना चाहिए। इसके साथ ही कहा कि ये भी तब हो रहा है जब हम पहली बार एक वुमन प्रेसिडेंट के जीतने की खुशी मना रहे हैं। इसलिए स्टूडेंट्स काउंसिल को इसका आरोप किसी और पर न डालकर इसकी जिम्मेदारी खुद लेनी चाहिए। वहीं स्टूडेंट्स फॉर सोसाइटी (एसएफएस) ने भी इसका विरोध किया है और कहा कि कोई क्या पहनेगा या नहीं, इसको लेकर किसी को निर्देश नहीं देने चाहिए। एसएफएस रविवार को मीटिंग करेगी। स्टूडेंट्स काउंसिल इस मामले को पीयू अथॉरिटी के सामने रखकर सुलझाएगी।