पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Panchkula News People Of Mdc Sectors Were Angry Due To The Opening Of Liquor Contracts With Mansa Devi Two Years Ago The Contracts Were Removed

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मनसा देवी के पास शराब के ठेके खुलने से एमडीसी सेक्टरोंं के लोग गुस्से में, दो साल पहले भी हटवाए थे ठेके

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मनसा देवी काॅप्लेक्स सेक्टर 5, जो श्री माता मनसा देवी मंदिर के पास है और ऐसे धार्मिक स्थान के आस पास एरियों में शराब के ठेके खुलने से लोग काफी गुस्से में है। लोगों की मानें तो ठीक दो साल पहले उन्होंने इस एरिये में खुले शराब के ठेके बंद करवा दिए थे, जिसके बाद अब दोबारा से इन एरियों में ठेके खुलने से लोगों ने प्रशासन पर आस्था से खिलवाड़ करने का आरोप लगाया है। जिसके बाद अब एमडीसी सेक्टरों के लोग भी प्रशासनिक अधिकारियों से मिलकर घार्मिक स्थल के अास पास खुले शराब के ठेके को बंद करवाने की डिमांड करेंगे। दरअसल, रविवार को दैनिक भास्कर की आेर से एमडीसी सेक्टर 5 में लोगों को होने वाली समस्याओं के बारे विजिट किया गया। इसमें सेक्टर के लोगों से जाना गया कि उन्हें सेक्टर में क्या दिक्कतें आ रही है। इस दौरान फोरा फेडरेशन ऑफ रेजीडेंट्स एसोसिएशन के प्रधान आर.पी मलहोत्रा भी मौजूद रहे। इस दौरान लोगों ने बताया कि उनके सेक्टर में पार्कों की हालत से लेकर गंदे पानी के नाले, स्ट्रे डॉग्स से लेकर एंक्रोचमेंट तक की परेशानी है, जिन्हें हल नहीं किया जा रहा।

धार्मिक स्थान के आसपास शराब के ठेके खुलने से लोगों में भारी रोष है
मनसा देवी, सिंह द्बार के साथ मार्केट मे चल रहा शराब का ठेका, एमडीसी सेक्टर-5 के बीच से बह राहा गंदा नाला

 एमडीसी सेक्टरों का नाम श्री माता मनसा देवी मंदिर से ही पड़ा है। इन सेक्टरों में एंटर करने के लिए सिंह द्वार बनाया गया है। ऐसे में यह धार्मिक स्थल के बिल्कुल पास वाले सेक्टर है और अगर यहां शराब के ठेके खुलेंगे तो सरेआम आस्था से खिलवाड़ माना जाएगा। दो साल पहले ही यहां पर शराब का ठेका खुला था, जिसे हमने बंद करवा दिया था, अब दोबारा से यहां पर शराब का ठेका खुल गया है, जिसे भी बंद करवाया जाएगा। धार्मिक स्थल के आस पास किसी भी तरह से नशे को बढ़ावा नहीं दिया जाएगा। इसके लिए प्रशासन को भी सोचना चाहिए कि कुछ ऐसी जगह है जहां पर नशे के कारोबार को लाइसेंस ना दिया जाए। -विजय गुप्ता, प्रधान

 एमडीसी सेक्टरोंं में सबसे ज्यादा पेइंग गेस्ट रहते है, ऐसे में ना तो कई पीजी की वेरीफिकेशन हो रखी है और ना ही चेकिंग होती है। माहौल पहले से ज्यादा खराब हुआ जा रहा है। रात 9 बजे के बाद ही जहां जहां पीजी है वहां लड़के रात 12 से 2 बजे तक हू-हल्ला करते रहते है। जब उन लड़कों को जाने के लिए बोलते है तो वो बदतमीजी पर भी उतर जाते है। ऐसे हालात में घर से अगर मार्केट में जाना है तो महिलाएं कैसे सेफ है। पुलिस को भी अपनी गश्त पर ध्यान देना चाहिए, यहां ना तो बाइक पर पुलिस कर्मी घूमते है और ना ही पीसीआर आती। हम तो यही डिमांड करते है कि पूरे सेक्टर में पुलिस वेरीफिकेशन भी करवाई जानी चाहिए। -स्नेहलता शर्मा

 नगर निगम वैसे तो स्ट्रे डॉग पर नकेल कसने के लिए करोड़ों रुपए खर्च करने के दावे करता आ रहा है। उसके बाद भी शहर भर में स्ट्रे डॉग लोगों की जान के दुश्मन बने हुए है। एमडीसी सेक्टरों में तो सोसाइटियों से लेकर घरों के बाहर भी स्ट्रे डॉग्स का डेरा रहता है। डॉग कैचर टीम को फोन करके बुलाओ तो कभी उन्हें एड्रेस नहीं मिलता तो कभी वो खुद मौके पर आते भी नहीं। घरों से बाहर सैर करने के लिए निकलो तो कुत्तों का झुंड पीछे लग जाता है और सबसे ज्यादा अटैक बुजुर्गों और छोटे बच्चों पर करते है। नगर निगम तो इन डॉग्स पर काबू पाने के लिए फेल है ही, स्वास्थ्य विभाग भी इलाज देने में फेल है। -सी.एच डोगरा

पूरे शहर में एन्क्रोचमेंट को लेकर पब्लिक परेशान है। एमडीसी सेक्टरों में भी मार्केटों से लेकर सडक किनारे एन्क्रोचमेंट की भरमार है। पिछले चार-पांच सालों में पता नहीं कितनी बार कंप्लेंट कर ली है हमने, लेकिन आज तक ना तो कोई ड्राइव चलाई जा सकी है और ना ही एन्क्रोचमेंट को जरा सा भी खत्म किया जा सका है। एचएसवीपी और नगर निगम के अधिकारी प्रोफेशनली काम नहीं कर रहे, ऐसे में इन अफसरों पर भी एक्शन होना चाहिए। एंक्रोचमेंट के मामले में तो खुद डीसी को आगे आना पड़ेगा और उसके बाद ही शहर में कुछ हो पाएगा। जब तक इस मैटर कोे सीरियस नहीं लिया जाएगा, तब तक आम जनता ऐसे ही परेेशान होती रहेगी। -अोपी शर्मा

एमडीसी सेक्टरों में बच्चों के खेलने के लिए कोई प्ले ग्राउंड नहीं है। पार्कों में ओपन जिम इक्विपमेंट तक भी नहीं लगवाए गए। ज्ञानचंद गुप्ता की ओर से शहर के दूसरे पार्कों में तो ओपन जिम खोले गए है, लेकिन हमारे यहां जितने भी पार्क है वहां जिम को क्या खोलना है, पार्कों की हालत तक खस्ता पड़ी है। प्ले ग्राउंड नहीं होने से बच्चों को पार्क में भी तब भेजें जब वहां काेई खेलने की सुविधा हो, लेकिन अब क्या करें, बच्चे भी मोबाइल में लगे रहते है। हमारी विधायक से अपील है कि एमडीसी में जितने बड़े पार्क है वहां पर भी जिम खोले जाएं। -हरीओम

हम अपने घरों के अलावा आस पास एरिया में तो साफ सफाई कर ही रहे है, लेकिन इस साल एक बार भी हमारी सोसायटियों में न तो हेल्थ डिपार्टमेंट की टीम पहुंची और न ही नगर निगम ने फोगिंग करवाई। मच्छरों की भरमार हुई पड़ी है, वायरल इनफेक्शन इतना फैल रहा है कि हर तीसरे-चौथे घर में कोई ना कोई बीमार पड़ा है। उसके बाद हमें समझ नहीं आता जब डीसी अधिकारियों की मीटिंग बुलाते है तो अधिकारी झूठ क्यों बोलते है। हमसे पूछा जाए कि टीमें काम कर रही है या नहीं, बस अफसरों को रिपोर्ट में बता देते है कि सब कुछ ठीक है। एमडीसी सेक्टरों में जितनी भी सोसाइटियां है उनमें अलग से ड्राइव चलाई जानी चाहिए। -अमृत लाल शर्मा

एमडीसी सेक्टर-5 मार्केट के एग्जिट में पार्किंग की सड़क का हाल कुछ ऐसा है।

 पिछले कई सालों से एमडीसी सेक्टरों के बीच से एक गंदे पानी का नाला गुजर रहा है। यह नाला सेक्टर 7 पंचकूला होते हुए चंडीगढ़ हाउसिंग बोर्ड बॉर्डर तक भी जा रहा है। यहां पर सर्वे भी किया गया था, उसके बाद इन नालों को ढकने के लिए पुल के उपर लोहे के शैड तो खड़े कर दिए, लेकिन अब भी न तो इन नालों की सफाई हो रही और न ही इनकी ब्यूटीफिकेशन के लिए कोई काम किया जा रहा। पूरे सेक्टर से जो नाला निकल रहा है उसे कवर करने के लिए हमने डिमांड भेजी थी, लेकिन उस पर भी अधिकारियों की ओर से ना तो हां है और ना ही ना। इस नाले को कवर किया जाए और इसकी ब्यूटीफिकेशन के लिए भी काम दोबारा शुरू हो। -आई.के कॉल

 पंचकूला-चंडीगढ़ रोड पर सेक्टर 7 से एमडीसी सेक्टरों में एंटर करने के लिए श्राइन बोर्ड की ओर से सिंह द्वार बनाया गया है। यह धार्मिक गेट है और पुलिस की गश्त नहीं होने के कारण इसी सिंह द्वार पर बैठकर लोग शराब पीते है। यहां पर पुलिस की ओर से कोई पाबंदी नहीं लगाई जाती, जिस कारण यहां पर हर रोज शाम को शराबियों की महफिल लगती है। इसके आस पास एरिया में सडक पर ही रेहड़ी फड़ी लगाई जाती है, जिस कारण कई बार तो सडक पर जाम भी लग जाता है। इस बारे में हमने कई बार पुलिस काे भी बताया था, लेकिन उस पर कोई एक्शन ही नहीं हुआ। -निर्मल तिवारी

 इतने बड़े एमडीसी सेक्टर-5 मार्केट में एचएसवीपी ने मार्केट तो बना दी है और अब यहां पर जो पब्लिक टॉयलेट बनाए है उन्हें ही मेंटेन नहीं किया जा रहा। यहां जो महिलाएं बाहर से आ रही है उन्हें इस कारण काफी प्रोब्लम आती है। वैसे तो पंचकूला को स्मार्ट सिटी की दौड में शामिल किया गया जा रहा है, लेकिन जब सहूलियतों की बात करें तो सिर्फ दिखावे और स्मार्ट सिटी के डॉक्यूमेंट्स में ही लिखने के लिए सुविधाएं है, ग्राउंड पर लोगों को कोई सुविधा मिल नहीं रही। एक तरफ तो पंचकूला को खुले में शौच मुक्त किया जा रहा है। लाखों करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे है और वहीं, पब्लिक मार्केटों में अनमेंटेन पड़े टॉयलेट के कारण परेशान है। अगर अधिकारी कंप्लेंट पर विश्वास नहीं करते तो खुद आकर चेकिंग कर सकते है। -कमलेश शर्मा

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें