--Advertisement--

शेड्यूल जारी: सीसीईटी में इस बार लेटरल एंट्री के लिए यूटी की 41 और ऑल इंडिया की 7 सीटें

26 जून लास्ट डेट, चंडीगढ़ कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी सेक्टर-26 में कुल 48 सीटें

Dainik Bhaskar

Jun 12, 2018, 06:16 AM IST
सिम्बॉलिक इमेज। सिम्बॉलिक इमेज।

चंडीगढ़. पीयू ने लेटरल इंजीनियरिंग एंट्रेंस टेस्ट के लिए शेड्यूल जारी कर दिया है। इस बार लेटरल एंट्री के जरिये चंडीगढ़ कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी सेक्टर-26 में कुल 48 सीटें उपलब्ध हैं, जिसमें से यूटी के स्टूडेंट के लिए 41 सीटें रिजर्व हैं। इन सीटों पर इंजीनियरिंग का 3 साल का डिप्लोमा करने वाले स्टूडेंट्स अप्लाई कर सकते हैं जिनके अंक कम से कम 60 फीसदी हों। एससी व पीडब्ल्यूडी कैंडिडेट्स को 5 फीसदी छूट मिलेगी। लेटरल एंट्री एडमिशन बीटेक सेकंड ईयर में होती है।

ये है एडमिशन का शेड्यूल

- 26 जून: अप्लाई करने की लास्ट डेट
- 29 जून: एसबीआई की ब्रांच में फीस भरने की डेट
- 2 जुलाई: फोटोग्राफ आदि की इन्फॉर्मेशन डालने की लास्ट डेट
- 10 जुलाई: रोल नंबर मिलेंगे
- 15 जुलाई: एंट्रेंस टेस्ट होगा
- 19 जुलाई से: आंसर कीज उपलब्ध होंगी
- 23 जुलाई: ऑब्जेक्शन और क्रॉस ऑब्जेक्शन इस डेट को दे सकेंगे
- 23 जुलाई: एडमिशन फॉर्म उपलब्ध होगा
- 24 जुलाई: रिजल्ट घोषित होगा
(फॉर्म की हार्ड कॉपी व डॉक्यूमेंट जमा कराने होंगे काउंसिलिंग के समय)

पहली काउंसिलिंग

-सीसीईटी 26 और यूआईईटी होशियारपुर के लिए 25 जुलाई को संभावित, 2:30 बजे से रिजर्व कैटेगरी की काउंसिलिंग होगी और उससे पहले जनरल कैटेगरी की होगी।
- दूसरी काउंसलिंग: दूसरी काउंसिलिंग 30 जुलाई को संभावित है। इसमें 11:00 से दोपहर 12:00 बजे तक रिजर्व कैटेगरी की काउंसिलिंग होगी और 2:00 बजे से खाली रह गई। रिजर्व कैटेगरी की सीटों को जनरल करके उसकी काउंसिलिंग की जाएगी।

इसका रखें ध्यान

-एडमिट कार्ड सिर्फ ऑनलाइन उपलब्ध होंगे और कैंडिडेट्स को ईमेल के जरिये बताया जाएगा।
- होशियारपुर सेंटर पर टेस्ट तभी होगा अगर कैंडिडेट्स की संख्या 50 से अधिक होगी।
-काउंसिलिंग के लिए ₹1000 का नॉन रिफंडेबल डिमांड ड्राफ्ट लाना होगा। सभी डॉक्यूमेंट्स की फोटोकॉपी जरूरी।
- एडमिशन मिलने की सूरत में काउंसिलिंग में 47000 रुपए की फीस अदा करनी होगी।

यह है सीटें:
- स्टेट कोटा में एससी की कुल 6 सीटें हैं जिसमें से एक कंप्यूटर साइंस, दो इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग, एक सिविल इंजीनियरिंग और एक मैकेनिकल इंजीनियरिंग की है। ऑल इंडिया कोटे की सिर्फ एक सीट सिविल इंजीनियरिंग में है।
- मिलिट्री व पैरा मिलिट्री फोर्सेज के परिजनों के लिए स्टेट कोटा में 2 सीटें हैं जिसमें एक कंप्यूटर साइंस और एक इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग की है।
- पर्सन विद डिसेबिलिटी की स्टेट कोटा में 2 सीटें हैं जिसमें एक सिविल इंजीनियरिंग और एक मैकेनिकल इंजीनियरिंग की है
- स्वतंत्रता सेनानियों के परिजनों के लिए 1 सीट है जो मैकेनिकल इंजीनियरिंग में है।
- स्पोर्ट्स कोटे की एक सीट है जो कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग में है
- यूआईटी होशियारपुर में कुल 122 सीटें खाली हैं जिसमें 37 इलेक्ट्रॉनिक एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग, 9 कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग, सतीश मैकेनिकल इंजीनियरिंग और 39 इन्फाॅर्मेशन टेक्नोलॉजी की हैं।

एसडी कॉलेज-32 में कॉमर्स का रिसर्च सेंटर और बीए में जिओग्राफी कोर्स शुरू

- एसडी कॉलेज सेक्टर-32 में इस एकेडेमिक सेशन से पीएचडी इन कॉमर्स शुरू होने जा रही है। पंजाब यूनिवर्सिटी की ओर से अप्रूवल मिल गई है। जुलाई से शुरू होने वाले इस सेशन में इसके लिए एडमिशंस होंगी।

- एसडी कॉलेज शहर का पहला ऐसा कॉलेज है जिसमें कॉमर्स का रिसर्च सेंटर खुल गया है क्योंकि कॉलेज में इस सेशन से कॉमर्स इन पीएचडी शुरू होने जा रही है। इसके अलावा बीए करने वाले स्टूडेंट्स के लिए भी वहां जिओग्राफी का कोर्स भी शुरू होने जा रहा है।

- बीए फर्स्ट ईयर में कॉलेज में करीब 700 स्टूडेंट्स एडमिशन लेंगे और उन्हें इस सब्जेक्ट को चुनने की ऑप्शन मिलेगी। एसडी कॉलेज में पीएचडी करने के लिए पीयू के यूबीएस डिपार्टमेंट में 2 जुलाई तक एडमिशन फॉर्म भरना होगा।

हर साल बढ़ेंगी 4 सीटें

- अभी कॉलेज के पास चार रिसर्च गाइड हैं और कॉलेज में चार सीटों पर ही एडमिशन की जा सकती है। लेकिन हर साल कॉलेज में 4 सीटें बढ़ेंगी। कॉलेज में इसके लिए रिसर्च सेंटर शुरू किया जाएगा।

- इसका कोर्स वर्क यानी रिसर्च मैथडोलॉजी का काम पीयू के यूबीएस में होगा। पहला एक साल एसडी कॉलेज में एडमिशन लेने वाले स्टूडेंट्स यूबीएस में क्लासेज लगाएंगे। अगले तीन साल एसडी कॉलेज में क्लासें लगेंगी। जब कॉलेज में पीएचडी के स्टूडेंट्स 10 से ज्यादा हो जाएंगे तब स्टूडेंट्स को यूबीएस नहीं जाना होगा।

एमबीए, एमकॉम, सीए और सीएस कर चुके एलिजिबल
- एसडी कॉलेज में कॉमर्स डिपार्टमेंट के एचओडी प्रोफेसर अजय शर्मा ने बताया कि जो स्टूडेंट्स एमबीए, एमकॉम, सीए या सीएस कर चुके हैं वह इस पीएचडी में एडमिशन लेने के लिए एलिजिबल होंगे।

- इसमें एडमिशन एंट्रेंस टेस्ट के आधार पर होगा। यह एंट्रेंस भी यूबीएस डिपार्टमेंट की ओर से ही लिया जाएगा। एसडी कॉलेज में इससे पहले भी पीएचडी के कोर्स करवाए जाते हैं। इसमें फिजिक्स, बायोटेक और केमिस्ट्री के सब्जेक्ट्स शामिल हैं।

- हमें गर्व है कि हम चंडीगढ़ के पहले कॉलेज ऐसे हैं जिसमें कॉमर्स में पीएचडी शुरू होने जा रही है। इसके अलावा बीए के स्टूडेंट्स के लिए जिओग्राफी का सब्जेक्ट भी शुरू कर रहे हैं। -भूषण कुमार शर्मा, प्रिंसिपल, एसडी कॉलेज सेक्टर-32

X
सिम्बॉलिक इमेज।सिम्बॉलिक इमेज।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..