Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» Supreme Court Verdict Navjot Singh Sidhu Road Rage Case

सिद्धू को 30 साल पुराने गैर इरादतन हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 1 हजार रुपए का जुर्माना लगाकर बरी किया

ट्रायल कोर्ट ने सिद्धू को बरी कर दिया था। हाईकोर्ट ने 3 साल की सजा बरकरार रखी थी।

dainikbhaskar.com | Last Modified - May 15, 2018, 11:53 AM IST

  • सिद्धू को 30 साल पुराने गैर इरादतन हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 1 हजार रुपए का जुर्माना लगाकर बरी किया
    +1और स्लाइड देखें
    सिद्धू को जब हाईकोर्ट ने सजा सुनाई थी तब वह भाजपा से सांसद थे। -फाइल

    नई दिल्ली/चंडीगढ़. रोडरेज के दौरान गैर इरादतन हत्या के 30 साल पुराने केस में पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को सुप्रीम कोर्ट ने बरी कर दिया उन पर एक हजार रुपए जुर्माना लगाया गया। पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने सिद्धू को 3 साल जेल की सजा सुनाई थी। इसके खिलाफ उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। वहीं, पंजाब सरकार ने हाईकोर्ट का फैसला बरकरार रखने की दलील दी थी। जस्टिस जे चेलमेश्वर और एसके कौल की बेंच ने 18 अप्रैल को इस पर फैसला रिजर्व रख लिया था।

    ट्रायल कोर्ट से बरी हो चुके सिद्धू

    - 1988 में पटियाला में रोड रेज के दौरान सिद्धू से झगड़े के बाद गुरनाम सिंह की मौत हो गई थी।

    - इस मामले में 2006 में हाईकोर्ट से सिद्धू और एक अन्य आरोपी रुपिंदर सिंह संधू को 3 साल की सजा सुनाई थी। इसके खिलाफ सिद्धू ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी।

    - सुप्रीम कोर्ट ने 2007 में दोनों को दोषी ठहराने के फैसले पर रोक लगा दी थी, जिससे सिद्धू अमृतसर से चुनाव लड़ सके थे। हालांकि, इससे पहले 1999 में ट्रायल कोर्ट से सिद्धू समेत दोनों आरोपी बरी हो गए थे।

    सजा बरकरार रखने की सरकारी वकील ने दी थी दलील

    - पिछले महीने 30 साल पुराने मामले की सुनवाई कर रही जस्टिस जे चेलमेश्वर और जस्टिस संजय किशन कौल की बेंच के सामने पंजाब सरकार के वकील ने कहा कि तीन साल की सजा को बरकरार रखा जाए। उन्होंने दलील दी कि सबूतों के मुताबिक पटियाला निवासी गुरनाम सिंह की मौत सिद्धू के मुक्का मारने के बाद हुई। ऐसा एक भी सबूत नहीं है जिससे साबित होता हो कि मौत का कारण हार्ट अटैक था, ब्रेन हैमरेज नहीं। ट्रायल कोर्ट ने मौत का कारण ब्रेन हैमरेज नहीं, बल्कि हार्ट अटैक माना था और सिद्धू को बरी कर दिया था। सरोन ने कहा कि हाईकोर्ट ने ट्रायल कोर्ट के फैसले को रद्द कर सही फैसला दिया था।

  • सिद्धू को 30 साल पुराने गैर इरादतन हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 1 हजार रुपए का जुर्माना लगाकर बरी किया
    +1और स्लाइड देखें
    इस केस में जस्टिस जे चेलमेश्वर और जस्टिस संजय किशन कौल की बेंच फैसला सुनाएगी।
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×