--Advertisement--

बच्ची की मां चला रही थी कार, एक्सीडेंट से खुले कार के एयरबैग; पापा की गोद में बैठी बच्ची की मौत

- दो कारों की टक्कर, एडवोकेट की सवा 4 साल की बेटी की मौत

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2018, 03:36 AM IST
सेक्टर-46/47-48-49  लाइट प्वाइंट पर दो कारों में हुई टक्कर। पापा और एयरबैग के बीच में फंसी बच्ची। लोगों ने जब निकाला तो बेहोश थी। सेक्टर-46/47-48-49 लाइट प्वाइंट पर दो कारों में हुई टक्कर। पापा और एयरबैग के बीच में फंसी बच्ची। लोगों ने जब निकाला तो बेहोश थी।

चंडीगढ़. फंक्शन से वापस लौट रहे एडवोकेट की कार और एक कैब के बीच टक्कर हो गई। एक्सीडेंट होते ही कार के एयरबैग खुल गए, लेकिन फिर भी एडवोकेट की सवा चार साल की बेटी अबिरा की मौत हो गई। बच्ची पापा की गोद में बैठी थी। एयरबैग खुला तो वह पापा और एयरबैग के बीच में दब सी गई। मौके पर जमा लोगों ने जब सभी को बाहर निकाला तो अबिरा बेहोश मिली, जबकि उसके पापा, मां और बड़ी बहन को थोड़ी चोट लगी थी। बच्ची को तुरंत प्राइवेट व्हीकल में जीएमसीएच-32 दाखिल करवाया गया। यहां पर इलाज के दौरान अबिरा की मौत हो गई।

- सेक्टर-49 थाना पुलिस ने दूसरी कार के ड्राइवर के खिलाफ 279 (रैश ड्राइविंग), 337 (लापरवाही से गाड़ी चलाना), 304ए (हादसे में मौत) के तहत केस दर्ज किया गया है। यह कार एक प्राइवेट कंपनी में लगाई गई है, जिसे हरदेव चला रहा था।

- पुलिस ने मृतक बच्ची के शव का पोस्टमार्टम करवा उसे घरवालों को सौंप दिया है। घरवाले शव को अमृतसर अपने पैतृक गांव में ले गए। पुलिस को अभी पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं मिली है, जिस वजह से अभी क्लियर नहीं है कि आखिर बच्ची की मौत कैसे हुई।
- एडवोकेट गौरव परिवार के साथ सेक्टर-51 न्यू लाइट सोसायटी में रहते हैं। गौरव कार से पत्नी निधि, बेटी अबिरा और आयरा के साथ जीरकपुर में एक फंक्शन अटैंड करने गए थे। सोमवार रात एक बजे वे घर लौट रहे थे। कार निधि चला रही थी, अबिरा साथ वाली सीट पर पापा गौरव की गोद में बैठी थी।
- आयरा पीछे की सीट पर बैठी हुई थी। कार जब फैदां गांव की तरफ से सेक्टर-47/49 डिवाइडिंग रोड से बस स्टैंड चौक की तरफ जा रही थी। वहीं, हरदेव सेक्टर-46/47 डिवाइडिंग रोड से मोहाली की ओर जा रहा था। जब
कारें सेक्टर-46/47-48-49 लाइट प्वाइंट पर पहुंचीं तो दोनों में टक्कर हो गई। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि दोनों कारों का काफी नुकसान हो गया।

एयरबैग खुला लेकिन बच्ची नहीं बची, पूरा परिवार सेफ...

- अबिरा के शरीर पर देखने से कोई गंभीर चोट नहीं थी। हालांकि बच्ची के शरीर में कोई अंदरूनी चोट थी या नहीं इसका खुलासा पोस्टमार्टम के बाद होगा। अंदेशा जताया जा रहा है कि बच्ची की मौत दम घुटने से हुई होगी।

हादसे के बाद एयरबैग खुला, लेकिन पापा की गोद में बैठी बच्ची नहीं बच सकी। हादसे के बाद एयरबैग खुला, लेकिन पापा की गोद में बैठी बच्ची नहीं बच सकी।
X
सेक्टर-46/47-48-49  लाइट प्वाइंट पर दो कारों में हुई टक्कर। पापा और एयरबैग के बीच में फंसी बच्ची। लोगों ने जब निकाला तो बेहोश थी।सेक्टर-46/47-48-49 लाइट प्वाइंट पर दो कारों में हुई टक्कर। पापा और एयरबैग के बीच में फंसी बच्ची। लोगों ने जब निकाला तो बेहोश थी।
हादसे के बाद एयरबैग खुला, लेकिन पापा की गोद में बैठी बच्ची नहीं बच सकी।हादसे के बाद एयरबैग खुला, लेकिन पापा की गोद में बैठी बच्ची नहीं बच सकी।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..