--Advertisement--

दिवाली की रात हमेशा के लिए बुझ गए घर के 2 चिराग, मासूम भाई-बहन की एक साथ मौत, मां खाना बना रही थी; पिता पास में बैठे थे, तभी हुआ हादसा

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2018, 04:11 PM IST

बेटा अक्सर मां से कहता था- मैं बड़ा होकर एक दिन अमीर आदमी बनूंगा जब तुम आराम करना मां

नई दिल्ली. दिवाली की रात सिलेंडर लीकेज की वजह घर में आग लग गई, जिसमें एक परिवार के 5 लोग चपेट में आ गए। घर में सो रहे भाई-बहन की मौत हो गई, वहीं दंपति और उनका एक बेटा झुलस गया। घायलों को इलाज के लिए राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां महिला और उसके बेटे की हालत गंभीर बताई गई है। घटना सेंट्रल दिल्ली के देशबंधु गुप्ता रोड इलाके में तिबिया कॉलेज के नजदीक हुई। संकरी गली होने की वजह से दमकल की गाड़ियां मौके तक नहीं पहुंच सकीं, जिस कारण पाइप के सहारे आग पर काबू पाया गया। आगजनी की यह घटना जिस बिल्डिंग में हुई, वहां अन्य परिवार भी सो रहे थे। उन्हें वक्त रहते आग का पता चल गया, जिस कारण उनकी जान बच गई।

मां खाना बना रही थी उसी दौरान हुआ हादसा

मृत भाई बहन की पहचान गणेश (10) व स्वाति (4) के तौर पर हुई है। पुलिस की जांच में यह बात सामने आई कि घटना के वक्त महिला खाना बना रही थी, पति पास ही बैठा था। इसी दौरान यह हादसा हुआ। तिबिया बस्ती सी ब्लॉक के 2 मंजिला मकान में ओमप्रकाश अपने 3 छोटे भाइयों के साथ रहते हैं। ग्राउंड फ्लोर पर लखन, पहली पर किशन और दूसरे पर ओम प्रकाश व राजेश का परिवार रहता है।

गणेश कहता था- मां मैं बड़े होकर काम करूंगा, तुम आराम करना

हादसे में जिंदा जला गणेश एसडी पब्लिक स्कूल में 5वीं कक्षा का छात्र था। उसकी मां सुमन एक ड्राई फ्रूटस की दुकान पर काम करती है। स्वाति भी स्कूल जाती थी। बच्चों की चाची मंजू ने कहा कि जब भी गणेश अपनी मां को काम करता देखता तो वह परेशान हो जाता था। अक्सर वह मां से कहा था कि बड़े होकर वह एक बड़ा आदमी बनेगा। वह काम करेगा और मां तुम आराम करना। बेटे की इन बातों को यादकर पिता दहाड़े मार-मारकर रोते रहे।

X
Astrology

Recommended