--Advertisement--

मौत के 6 दिन दिन बाद इंडिया पहुंची बेटी की लाश, रोते हुए पिता ने कही ये बात

ऑस्ट्रेलिया से छह दिन बाद फुटबॉलर नितिशा नेगी की डेडबॉडी शनिवार दोपहर आईजीआई एयरपोर्ट पहुंची।

Danik Bhaskar | Dec 17, 2017, 05:52 AM IST

नई दिल्ली. ऑस्ट्रेलिया से छह दिन बाद फुटबॉलर नितिशा नेगी की डेडबॉडी शनिवार दोपहर आईजीआई एयरपोर्ट पहुंची। यहां से उसके पार्थिव शरीर को गढ़वाल भवन लाया गया। ताबूत देख हंसती-खेलती नितिशा को ऑस्ट्रेलिया भेजने वाले घरवालों, रिश्तेदारों और दोस्तों के आंसू नहीं थम रहे थे। रविवार सुबह 9 बजे निगम बोध घाट पर अंतिम संस्कार किया जाएगा।

 

पिता ने कहा- नितिशा खेलना चाहती थी, इसलिए आर्ट्स चुना, साइंस चुनती तो आज जिंदा होती

- नितिशा के पिता पूरन नेगी ने बताया स्कूल उसे साइंस स्ट्रीम देना चाहता था, लेकिन उसने स्पोर्ट्स के चलते आर्ट्स चुना। काश वह साइंस स्ट्रीम से पढ़ाई करती तो वह ऑस्ट्रेलिया नहीं जाती और आज जिंदा होती। इतना कहते-कहते पूरन नेगी फूट-फूट कर रोने लगे।

 

यह है पूरा मामला

- बता दें कि पेसिफिक स्कूल गेम्स के तहत इंडिया से 6 टीमें गईं थीं। बीते रविवार को ग्लेनेलग में होल्डफास्ट मरीना पर भारतीय दल घूमने गया था।

- इस दौरान सेल्फी के चक्कर में फुटबॉल टीम की 5 लड़कियां समुद्री लहरों की चपेट में आ गईं। इनमें से चार को रेस्क्यू टीम ने बचा लिया, लेकिन दिल्ली की नितिशा नेगी की मौत हो गई थी।

- इस घटना की शिकार हुई दीपिका, वाणी और युक्ति मयूर विहार के एल्कॉन स्कूल में पढ़ती हैं, जबकि अनन्या विनोद नगर के समरवीक स्कूल की स्टूडेंट हैं। स्पोर्ट्स मिनिस्ट्री ने नितिशा की फैमिली को 5 लाख का चेक सौंपा।

 

एसजीएफआई के सभी कोच से हो पूछताछ
- पिता का कहना है कि नितिशा की दोस्तों से घटना की जानकारी ली गई है। उनके मुताबिक, जिस समय हादसा हुआ था, उस समय कोच उन्हें अकेले छोड़कर आगे चले गए थे।

- चेतावनी के बारे में भी नितिशा नेगी को कुछ पता नहीं था। कोई उन्हें समझाने वाला भी नहीं था। इसलिए एसजीएफआई के सभी कोच से पूछताछ होनी चाहिए।