--Advertisement--

लड़ाकू विमानों की उड़ान में सबसे करामाती रहे कलाम, इन हस्तियों की खास बातें

विमान पश्चिमी सीमा पर पाकिस्तान तक गया और 24000 फीट की ऊंचाई पर उड़ा।

Danik Bhaskar | Jan 28, 2018, 01:44 AM IST
डॉ. कलाम : सबसे ज्यादा उम्र में उड़ान, खतरनाक करतब भी डॉ. कलाम : सबसे ज्यादा उम्र में उड़ान, खतरनाक करतब भी

नई दिल्ली. आवाज से ढाई गुना तेज यानी 24 से 2500 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से उड़ने वाले लड़ाकू विमान सुखोई 30 एमकेआई में एक दशक में बड़ी हस्तियां उड़ान भर चुकी हैं। हाल ही में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की उड़ान अन्य से कई मायनों में श्रेष्ठ रही है। 45 मिनट की उड़ान में स्पीड 1 मैक यानी 1234 किमी प्रति घंटा से ज्यादा रही। विमान पश्चिमी सीमा पर पाकिस्तान तक गया और 24000 फीट की ऊंचाई पर उड़ा। जानते हैं इससे पहले हस्तियों की उड़ान में क्या खास बातें रही और ये किस तरह एक-दूसरे से अलग रहीं-

डॉ. कलाम: सबसे ज्यादा उम्र में उड़ान, खतरनाक करतब भी

- डॉक्टर कलाम ने 74 की उम्र में जून 2006 में 30 मिनट की उड़ान भरी थी। स्पीड 800 से 1000 किमी प्रति घंटा रही थी। तब विमान 20 हजार फीट की ऊंचाई तक पहुंचे थे।

- उन्होंने हवा में कई खतरनाक मैन्युवर (करतब) भी अपने हिसाब से करवाए।

जॉर्ज फर्नाडिस:  सबसे पहले, सबसे जोखिमभरी उड़ान भरी जॉर्ज फर्नाडिस: सबसे पहले, सबसे जोखिमभरी उड़ान भरी

पूर्व रक्षा मंत्री ने 73 की उम्र में लोहेगांव एयरबेस से जून 2003 में 40 मिनट की उड़ान भरी थी। 16 हजार फीट की ऊंचाई तक पहुंचे। जॉर्ज पहले रक्षा मंत्री थे, जिन्होंने मिग 21 में उड़ान भरी थी। तब इस विमान को ‘उड़न ताबूत’ कहा जाने लगा था, क्योंकि लगातार हादसे हो रहे थे।

राव इंद्रजीतसिंह: सिर्फ 20 मिनट की जॉय राइड ली राव इंद्रजीतसिंह: सिर्फ 20 मिनट की जॉय राइड ली

पूर्व रक्षा राज्य मंत्री ने 2015 सुखोई में उड़ान भरी थी। िसर्फ 20 मिनट की उड़ान में 800 किमी प्रति घंटा की गति तक पहुंचे। इनकी उड़ान सबसे छोटी थी। इनके लिए ये उड़ान महज ‘राइड ऑफ जॉय’ की तरह ही थी। उड़ान के बाद और पहले इन्होंने किसी तरह का अनुभव साझा नहीं किया। न ही कुछ बताया।

किरण रिजीजू:  सबसे युवा नेता पर बिल्कुल जोखिम नहीं किरण रिजीजू: सबसे युवा नेता पर बिल्कुल जोखिम नहीं

गृह राज्यमंत्री ने 44 साल की उम्र 
में पंजाब के हलवारा एयरबेस से मई 2016 में 30 मिनट की उड़ान भरी। स्पीड 800 से 900 किलोमीटर प्रति घंटा रही और 7900 फीट की ऊंचाई को छुआ। इस विमान में उड़ान भरने वाले वे सबसे युवा मंत्री रहे, लेकिन उड़ान में जोखिम नहीं था।