Hindi News »Union Territory News »Delhi News »News» Bangladesi Tourists Visit Increase On Visa

एक साल में टूरिस्ट वीजा पर भारत आने वाले बांग्लादेशी डेढ़ गुना बढ़े लेकिन घुसपैठ में कमी आई

अनूप कुमार मिश्र | Last Modified - Jan 08, 2018, 12:47 PM IST

भारत-बांग्लादेश सीमा पर बॉर्डर सिक्युरिटी फोर्स की सख्ती के बाद बांग्लादेशी नागरिकों की अवैध घुसपैठ में कमी आई है।
  • एक साल में टूरिस्ट वीजा पर भारत आने वाले बांग्लादेशी डेढ़ गुना बढ़े लेकिन घुसपैठ में कमी आई
    +2और स्लाइड देखें
    2016 में 13 लाख बांग्लोदशी इंडिया आए, 2017 में यह संख्या 21 लाख जा पहुंची।

    नई दिल्ली.भारत-बांग्लादेश सीमा पर बॉर्डर सिक्युरिटी फोर्स की सख्ती के बाद बांग्लादेशी नागरिकों की अवैध घुसपैठ में कमी आई है। मगर पिछले एक साल में टूरिस्ट वीजा पर आने वाले बांग्लादेशियों में डेढ़ गुना से ज्यादा का इजाफा हुआ है। इसे लेकर अब सिक्युरिटी एजेंसियों के कान खड़े हुए हैं। 2016 में टूरिस्ट वीजा पर 13 लाख से ज्यादा बांग्लादेशी आए थे। पिछले साल यह संख्या बढ़कर 21 लाख तक पहुंच गई। बीएसएफ अफसरों ने इसे लेकर सरकार के सामने चिंता जताई है।

    - अधिकारियों का कहना है कि टूरिस्ट वीजा पर जितने बांग्लोदशी आ रहे हैं, उतने वीजा अवधि खत्म होने पर वापस नहीं लौट रहे।

    - एक सीनियर अधिकारी ने बताया कि बड़ी समस्या यह है कि टूरिस्ट वीजा बांग्लादेशियों के लिए भारत में दाखिल होने का आसान जरिया बन रहा है।

    - उन्होंने बताया कि भारत-बांग्लादेश बार्डर पर स्थित चांगरबंधा इमीग्रेशन चेक पोस्ट पर पिछले चार सालों में करीब 1.45 लाख बांग्लादेशी भारत की सीमा में दाखिल हुए। वहीं वीजा अवधि खत्म होने से पहले 1.38 लाख ही वापस लौटे। यानी 6485 बांग्लादेशी नागरिक वापस ही नहीं गए। उन्होंने कहा कि यह सिर्फ एक चेक पोस्ट की बात है।

    सीमा पर घुसपैठ की कोशिशें घटीं

    सालपकड़े गए बांग्लादेशी
    20143472
    20154473
    20162907
    20171628 (नवंबर तक)

    टूरिस्ट वीजा पर आने वाले बांग्लादेशी बढ़े

    सालभारत आए बांग्लादेशी
    2014

    9.42

    201511.33
    2016

    13.80

    201721.23*

    आंकड़े : लाख में, * दिसंबर तक का अनुमान, नवंबर तक 19.46 लाख

    सोर्स : टूरिज्म डिपार्टमेंट, बीएसएफ

    आंकड़ों को लेकर मंत्रालयों में ही विरोधाभास

    वीजा लेकर वैध तरीके से भारत आने वाले बांग्लादेशी नागरिकों को लेकर होम मिनिस्ट्री और टूरिज्म मिनिस्ट्री के बीच भारी विरोधाभास है। 2017 के वीजा के आंकड़ों में दोनों मंत्रालयों में 6.5 लाख से ज्यादा का अंतर है।

    टूरिज्म मिनिस्ट्री

    -बांग्लादेशियों को टूरिस्ट वीजा :इस साल नवंबर 2017 तक 19.46 लाख
    -2016 में :13. 80 लाख बांग्लादेशी नागरिक टूरिस्ट वीजा पर भारत आ

    होम मिनिस्ट्री

    - कई कैटेगरी का वीजा :2017 में कुल 12.89 लाख बांग्लादेशियों को वीजा जारी
    - 2016 में : 9.33 लाख बांग्लादेशी नागरिकों को भारतीय वीजा दिया गया।

    बांग्लादेश के साथ भारत की बॉर्डर

    राज्यसीमा (किमी)
    प बंगाल2, 217
    त्रिपुरा

    856

    मेघालय443
    मिजोरम318
    असम

    262

    ऑस्ट्रेलिया की आबादी जितने अवैध बांग्लादेशी

    - 2016 में ऑस्ट्रेलिया की जनसंख्या करीब 2.4 करोड़ थी। नवंबर 2016 में अवैध रूप से भारत में रह रहे बांग्लादेशियों की संख्या करीब दो करोड़ थी।

    - अनुमान है कि 2017 में वैध रूप से भारत आने वाले बांग्लादेशियों की संख्या करीब दो करोड़ थी।

    पहले टूरिस्ट वीजा फिर स्मगलिंग भी...

    - बीएसएफ के रिटायर्ड एडिशनल डायरेक्टर पीके मिश्र ने बताया कि असम और बांग्लादेश में सक्रिय दलाल बांग्लादेशियों की मदद करते हैं। ये फर्जीवाड़ा कर उन्हें टूरिस्ट वीजा दिलवाते हैं। यहां उन्हें कई राज्यों में मौजूद शेल्टर हाउस तक पहुंचा दिया जाता है। कई बार इन लोगों से स्मगलिंग भी कराई जाती है।

  • एक साल में टूरिस्ट वीजा पर भारत आने वाले बांग्लादेशी डेढ़ गुना बढ़े लेकिन घुसपैठ में कमी आई
    +2और स्लाइड देखें
    चार साल में सीमा पर घुसपैठ की काेशिशें 31 फीसदी तक घटीं हैं।
  • एक साल में टूरिस्ट वीजा पर भारत आने वाले बांग्लादेशी डेढ़ गुना बढ़े लेकिन घुसपैठ में कमी आई
    +2और स्लाइड देखें
    टूरिस्ट वीजा पर आने वाले बांग्लादेशियों की संख्या में इजाफा हुआ है।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Delhi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Bangladesi Tourists Visit Increase On Visa
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×