--Advertisement--

प्रॉपर्टी डीलर ने पत्नी-बेटे को मार जान दी, सुसाइड नोट में लिखा-मां मुझे माफ करना

प्रॉपर्टी डीलर अजय पुरी ने सोमवार रात पत्नी और 8 साल के बेटे की हत्या करने के बाद खुदकुशी कर ली।

Dainik Bhaskar

Jan 01, 2018, 03:45 AM IST
ये फोटो कुछ दिन पहले की है, जिसम ये फोटो कुछ दिन पहले की है, जिसम

नई दिल्ली. छावला के श्याम एन्क्लेव में 38 साल के प्रॉपर्टी डीलर अजय पुरी ने सोमवार रात पत्नी और 8 साल के बेटे की हत्या करने के बाद खुदकुशी कर ली। अजय ने 12 साल की बेटी को भी मारने की कोशिश की थी पर वह बच गई। फिलहाल वह आईसीयू में है। अजय ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है, जिसमें लिखा है- “मां मुझे माफ कर देना, मैं बहुत परेशान हूं इसलिए सबको खत्म करके अपनी जान दे रहा हूं।’ शुरुआती जांच में पता चला है कि अजय अपने भाई की मौत से बहुत परेशान थे। अजय ने पहले बच्चों का गला घोंटा, फिर पंखे से लटककर खुदकुशी कर ली। पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।


घटना का ऐसे पता चला
- पुलिस उपायुक्त शिबेश सिंह के अनुसार अजय के घर से थोड़ी दूरी पर अजय के भाई का भी घर है।

- अजय के भाई का बेटा रविवार सुबह मगन को क्रिकेट खेलने के लिए बुलाने आया। जब किसी ने गेट नहीं खोला तो उसने गेट को धक्का दिया।

- दरवाजा खुल गया, बच्चे ने कमरे में देखा, पंखे से अजय का शव लटका था। जबकि पास में मंजू और मगन औंधे मुंह पड़े थे। उसने शोर मचाया तो आसपास के लोग जमा हो गए।

दादी के पास सोई बेटी अचेत मिली
- आसपास के लोगों ने जब दूसरे कमरे में देखा तो बेटी चेतना दादी के पास अचेत पड़ी थी। शोर से ही अजय की मां की नींद खुली।

- इसके बाद लोगों ने चारों को हॉस्पिटल पहुंचाया। जहां डॉक्टरों ने अजय, उनकी पत्नी मंजू और बेटे मगन को मृत घोषित कर दिया।

- चेतना को आईसीयू में भर्ती करके उसका इलाज किया जा रहा है। अस्पताल से ही पुलिस को मामले की सूचना दी गई।

पहले जूस में जहर मिलाकर दिया फिर गला घोंटा

- वारदात को अंजाम देने से पहले अजय पूरे परिवार के लिए जूस लेकर आया था। अजय और उसकी पत्नी ने पूरे परिवार को जूस दिया।

- अजय ने अपनी मां को खुद जूस का गिलास दिया था, उसमें जहर नहीं मिला था। जबकि बेटी चेतना और बेटे मगन को मंजू ने जूस दिया था। इसमें जहर मिला था। मंजू ने खुद भी जहर मिला जूस पिया और उसके बाद सब अपने-अपने कमरे में जाकर सो गए। सोने के बाद अजय ने मगन, मंजू और चेतना का गला भी दबाया था।

- अजय ने रात 12.15 बजे दोस्तों को गुड बाय का मैसेज भेजा था। उसके एक दोस्त ने उससे पूछा भी कि ये गुड बाय का क्या मतलब है? अजय ने कहा कि 2017 जा रहा है इसलिए गुड बाय।

- इसके बाद अजय के दोस्त ने उसे हैप्पी न्यू ईयर का मैसेज भेजा। सुबह 8 बजे ही उसके पास अजय की मौत की खबर पहुंच गई। उसने अस्पताल में ये बात बताई।

2 बजे से पहले ही हो गई थी वारदात
अजय की मां ने बताया कि देर दो बजे चेतना ने उन्हें उठाकर गले में दर्द होने की बात कही थी। उन्होंने अजय को आवाज दी। लेकिन किसी ने गेट नहीं खोला। चेतना को शनिवार से बुखार था। अजय ने एक दिन पहले अपनी मां से कहा था कि चेतना की तबियत खराब हो तो उसे रात को भी उठा लेना।

डेढ़ साल पहले बड़े भाई ने की थी खुदकुशी

अजय बड़े भाई महावीर सिंह द्वारा खुदकुशी करने के बाद से सदमे में था। डेढ़ साल पहले भाई ने आत्महत्या की थी।

महावीर सिंह ने भी सुसाइड नोट छोड़ा था। इसमें लिखा था- मैं घरेलू कलह के कारण जान दे रहा हूं।

- इसके बाद से ही अजय अपने भाई के परिवार को लेकर परेशान रहने लगा था। सुसाइड नोट में लिखा है- पिछले ढाई महीने से मुझे भाई की याद बहुत परेशान करने लगी है।इस कारण मैं कदम उठा रहा हूं। पड़ोसियों की मानें तो अजय शांत रहने वाले व्यक्ति थे।

- पिछले कुछ दिनों से वे पूरे-पूरे दिन घर से बाहर रहते थे। लोगों से बात करना भी बहुत कम कर दिया था।

सभी के गले पर मिले निशान

सभी के गले पर निशान मिले हैं। इसलिए पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत का सही कारण पता चलेगा।
- शिबेश सिंह, पुलिस उपायुक्त, द्वारका जिला

X
ये फोटो कुछ दिन पहले की है, जिसमये फोटो कुछ दिन पहले की है, जिसम
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..