--Advertisement--

मुरब्बे से साइंस, नकली नोट से मैथ्स पढ़ेंगे CBSE के स्टूडेंट्स, सिलेबस 50% कम होने की घोषणा

2019-20 सत्र में पहली से 8वीं के सिलेबस में होंगे ये दिलचस्प बदलाव, अब आगे क्या होगा पढ़िए रिपोर्ट

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:02 AM IST
आठवीं क्लास में सामाजिक विज्ञान की कक्षा में पढ़ाया जाएगा कि ईस्ट इंडिया कंपनी अपने आर्थिक हितों को साधते हुए कैसे देश पर काबिज हो गई। - फाइल आठवीं क्लास में सामाजिक विज्ञान की कक्षा में पढ़ाया जाएगा कि ईस्ट इंडिया कंपनी अपने आर्थिक हितों को साधते हुए कैसे देश पर काबिज हो गई। - फाइल

नई दिल्ली/जयपुर/अहमदाबाद. बच्चों के बस्ते का बोझ 2019-20 के शैक्षणिक सत्र से कम हो जाएगा। मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने दो साल के मंथन के बाद 26 फरवरी को इसका एलान किया। दैनिक भास्कर ने सिलेबस में बदलाव के लिए तैयार लर्निंग आउटकम डॉक्युमेंट को खंगाला। इसे एनसीईआरटी से तैयार करवाया गया है।

अचार-मुरब्बे से साइंस और नकली करंसी से मैथ्स समझाया जाएगा
- डॉक्युमेंट के मुताबिक, आठवीं क्लास में सामाजिक विज्ञान की कक्षा में पढ़ाया जाएगा कि ईस्ट इंडिया कंपनी अपने आर्थिक हितों को साधते हुए कैसे देश पर काबिज हो गई। उसके आर्थिक षड्यंत्र को पढ़ाया जाएगा। महात्मा गांधी के चंपारण सत्याग्रह को पढ़ाने के साथ ही यह समझाया जाएगा कि कैसे अंग्रेजों की नील की खेती की नीति ने भारतीय कृषि अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ दी। बच्चों को गणित समझाने के लिए कक्षा एक में 20 रुपए तक की नकली मु्द्राओं के जरिए गिनती समझाई जाएगी। यह मुद्रा बच्चों के खेलने वाली होगी। विज्ञान को घर से समझाने के लिए 8वीं के बच्चों को पढ़ाया जाएगा कि अचार में नमक और मुरब्बे में शक्कर क्यों डाली जाती है।
- इस बारे में सिंधिया स्कूल, ग्वालियर के प्रिंसिपल डॉ. माधवदेव सारस्वत कहते हैं कि वर्तमान में सभी ग्रेडेड कोर्स हैं। सिलेबस कम करने के लिए क्रिस्प का फॉर्मूला अपनाया जा सकता है। 9वीं के बाद स्टूडेंट्स थिएटर की ओर जाना चाहता है तो वह इसके बारे में भी पढ़ना चाहिए। इसलिए 9वीं के बाद ऐसे स्पेसिफिक कोर्स जोड़े जा सकते हैं जो टेक्निकल हैं। इसमें लैब के नंबर बढ़ाना होंगे।

वर्ग-आयत समझने के लिए टाइल्स की मदद
- लर्निंग आउटकम डॉक्यूमेंट के अनुसार कक्षा चार के बच्चों को वर्ग (स्क्वेयर), आयत (रेक्टेंगल) जैसी आकृतियां समझाने के लिए घरों के डिजाइन, उनमें लगी अलग-अलग तरह की टाइल्स की मदद ली जाएगी। आठवीं में जीएसटी के जरिए ब्याज का गणित समझाया जाएगा।

- पर्यावरण की किताब में तीसरी में ही बच्चों को अच्छे-बुरे स्पर्श का फर्क समझाया जाएगा। सामाजिक विज्ञान और भाषाओं जैसे हिंदी, इंग्लिश और उर्दू के पाठ्यक्रमों को इस तरह बनाया जाएगा ताकि वह नैतिक शिक्षा तो दे ही साथ ही उस में समसामयिक घटनाओं और बिंबों का इस्तेमाल भी किया जा सके।

- इतिहास को भी इस तरह पढ़ाया जाना है कि वह युद्धों के वर्णन और तारीखाें को रटने तक सीमित न रहे। सातवीं में सल्तनत काल की इकलौती महिला शासक रजिया सुल्तान और महान मुगल बादशाह अकबर के जीवन को न सिर्फ पाठ्यक्रम में बरकरार रखा जाएगा बल्कि उनको नाटक का मंचन कर बच्चों को समझाया जाएगा।

- बच्चों को धर्मों के बुनियादी मूल्यों को समझाने के लिए उन्हें भजन, कीर्तन, कव्वाली सुनने के लिए धार्मिक स्थलों पर ले जाया जाएगा।

सभी चीजें बच्चों को पढ़ाने की जरूरत नहीं
- एनसीईआरटी के पूर्व निदेशक जेएस राजपूत कहते हैं कि आज के समय में सूचना के स्रोत इतने हो गए हैं कि सभी चीजें बच्चों को पढ़ाने की जरूरत नहीं है। जरूरत है समझ बढ़ाने की। किताबों की साइज बढ़ी है क्योंकि हर बार जब विद्वान किताब बनाने बैठते हैं तो अपना ज्ञान उड़ेलने लगते हैं। सिलेबस को कम करना संभव है। 10वीं तक इंटरेस्ट वाले सब्जेक्ट पढ़ाने चाहिए। जैसे- मैंने अपने समय एनसीईआरटी में एक बदलाव किया था। पहले नागरिक शास्त्र, भूगोल, इतिहास को मिलाकर कुल कुल 800 पन्नों की चार किताबें होती थी। इसे मिलाकर एक किया और 200 पन्नों में उसे समेट दिया।

- "1962 में मैने एमएससी की पढ़ाई के वक्त टर्मन की 700 पेज की किताब पढ़ी जो आज 7-8 पेज तक सीमित हो गई है। यानी जो आवश्यक नहीं है उसे सिलेबस नहीं रखना चाहिए।"

सिर्फ परीक्षा की शिक्षा ही शिक्षा नहीं: जावड़ेकर

- प्रकाश जावड़ेकर कहते हैं कि सिलेबस बदलने के लिए हमने जो छह शिविर किए उसमें 200 से ज्यादा शिक्षा के क्षेत्र में काम करने वाले संगठन, सभी राज्यों के अधिकारी, शिक्षक, मुख्य अध्यापक और शिक्षाविदों से हमारी बारी-बारी से चर्चा हुई। सबने यह माना कि सिर्फ परीक्षा की शिक्षा ही शिक्षा नहीं है। हम इसी हफ्ते हमारी वेबसाइट पर पूछेंंगे कि कौन सा पाठ जरूरी है और कौन सा गैरजरूरी।

- लेखक और शिक्षाविद विजय बहादुर सिंह कहते हैं कि प्रकाशकों और स्कूलों की मिलीभगत से सिलेबस का बोझ बढ़ा दिया जाता है। जो चित्रकला नहीं जानता उसे बचपन में ही चित्रकला सिखाना सही नहीं है। खेलकूद से स्वास्थ्य ठीक रहता है जिसे अनिवार्य किया जाना चाहिए। सामाजिक जीवन से जोड़ने वाली चीजें पाठ्यक्रम में शामिल की जानी चाहिए।

- एनसीईआरटी में साइंस कमेटी के एक्सपर्ट और एम्स के डॉक्टर डॉ. अमित डिंडा कहते हैं कि विज्ञान में कटौती नहीं की जा सकती। लेकिन सूचनाओं को बहुत कम किया जा सकता है। अमेरिका में इस तरह का मॉडल अपनाया जाता है। भारत भी इसी दिशा में कदम बढ़ाएगा।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें: शिक्षाविदों ने दिए सिलेबस में बदलाव के सुझाव...

इनपुट : इमरोज़ खान, सुधीर उपाध्याय, निश्चय बोनिया

बच्चों के बस्ते का बोझ 2019-20 के शैक्षणिक सत्र से कम हो जाएगा। (फाइल) बच्चों के बस्ते का बोझ 2019-20 के शैक्षणिक सत्र से कम हो जाएगा। (फाइल)

शिक्षाविदों ने दिए बड़ी कक्षाओं के सिलेबस में भी बदलाव के सुझाव

 

 

1. राजस्थान के ज्ञान विहार स्कूल के डायरेक्टर कनिष्क शर्मा के मुताबिक, सिलेबस में कम से कम संविधान के आर्टिकल एक से तीस तक की जानकारी होनी चाहिए। 9वीं के चैप्टर में पोस्ट ऑफिस, टेलीग्राम के बारे में विस्तार से पढ़ाया जा रहा है। इसकी जरूरत नहीं है। पानी बचाने पर भी चैप्टर दें। अभी बल्ब के बारे में ही पढ़ाया जा रहा है। जबकि एलईडी आ चुकी है। जीपीएस मोबाइल, इंटरनेट के बारे में विस्तार से पढ़ाने की जरूरत है।

2. हरियाणा के सर्वहितकारी केशव विद्या निकेतन के प्रिंसिपल मनोज कुमार कहते हैं कि नौंवीं- दसवीं कक्षा की हिस्ट्री की किताबों में विश्व इतिहास के कई चैप्टर निकाले जा सकते हैं जिसमें सारा फोकस यूरोप पर है। उन हिस्सों को निकालकर भारत के इतिहास को डाला जा सकता है। गणित और विज्ञान में ‌वैदिक गणित को जोड़ना चाहिए।

3. हरियाणा के शिक्षक जतिंदर सिंह ने बताया कि 11वीं-12वीं में फिजिक्स के 10 यूनिट में से 4 यूनिट हटाने चाहिए। उसकी जगह प्रैक्टिकल होना चाहिए। 10वीं में रे ऑप्टिक्स और मिरर का चैप्टर बिना मतलब डाला गया है। उसे छोटी कक्षाओं में पढ़ाना चाहिए। दसवीं में साइंस के दो भाग होने चाहिए। जिन्हें 11वीं में विज्ञान लेना है वे तो दोनों भाग पढ़ें और जिन्हें दूसरे विषय लेने हैं उन्हें सिर्फ रोजमर्रा का विज्ञान पढ़ाना चाहिए।

4. गुजरात के शिक्षाविद डॉ. किरीट जोशी कहते हैं कि इतिहास में फ्रेंच क्रांति, चीन की स्वतंत्रता का इतिहास आदि छोटा करके पढ़ाना ठीक है। विज्ञान में नैनो टैक्नोलॉजी, रोबोटिक्स, जीनेटिक्स समेत विकसित हो रही नई विधाओं को जगह देनी चाहिए। भाषाओं के विषयों में धर्मनिरपेक्षता को स्थान मिले, इसलिए ऐसी मिसाल पेश करने वाली कहानियां आत्मकथाएं पाठ्यक्रम में शामिल होनी चाहिए।

5. छत्तीसगढ़ के शिक्षविदों ने बताया कि 9वीं में कन्वर्सेशन आॅफ प्लांट एंड एनिमल्स पढ़ाया जाता है। यह सामान्य ज्ञान में पढ़ाया जाता है। इसकी विज्ञान में जरूरत नहीं है। ऐसे ही हिंदी में एक निबंध है - सांस सांस में बांस। ये रोचक नहीं है। ऐसे ही कक्षा 9 में विज्ञान में सम नेचुरल फिनोमिना चैप्टर पढ़ाया जाता है। यह एन्वायरमेंटल स्टडीज में भी पढ़ाया जाता है।

 

चिंतन शिविर में लंबी चर्चा
- मंत्रालय ने पिछले साल अप्रैल से लेकर नवंबर तक देशभर के पांच रीजनल सेंटर पर कार्यशाला का आयोजन किया, जिसके बाद दिल्ली में 6-7 नवंबर को चिंतन शिविर में लंबी चर्चा के बाद इसका एेलान किया गया। इस एेलान के बाद एनसीईआरटी की टीम के साथ जावडेकर ने कई दौर की बैठक कर तत्काल इस दिशा में कदम उठाने का निर्देश दिया है।

- सरकार ने अभी कक्षा एक से आठवीं तक के पाठ्यक्रम में बदलाव का पूरा खाका तैयार नहीं किया है। यह काम देशभर के शिक्षाविदों से परामर्श के बाद किया जाएगा। लेकिन हर क्लास में हर विषय में कुछ बुनियादी बदलावों को मंत्रालय ने हरी झंडी दे दी है। इससे बाकी अध्यायों में बदलाव के लिए शिक्षाविदों को लाइन मिल जाएगी। मंत्रालय ने जो स्पष्ट नीति बनाई है उसके तहत दो कक्षाओं में रिपीट होने वाले पाठ्यक्रम को बाहर कर किताबों का बोझ कम किया जाएगा।

 

कैसा हो बच्चों का सिलेबस? आप भी बता सकते हैं
- सिलेबस बदलने के लिए लर्निंग आउटकम के जरिए वैज्ञानिक तरीका अपनाया जाएगा। लर्निंग आउटकम को एनसीईआरटी ने ही तैयार किया है। बदलाव पर एनसीईआरटी की करिकुलम कमेटी ही अंतिम रिपोर्ट देगी। लेकिन उससे पहले मंत्रालय अब इसी हफ्ते में ही वेबसाइट पर प्रस्ताव का ड्राफ्ट रखेगी। इस पर शिक्षक, शिक्षाविद, पूर्व छात्र, माता-पिता राय दे सकते हैं।

- सूत्रों के मुताबिक पाठ्यक्रम पर सुझाव के लिए मार्च से अप्रैल तक ही समय दिया जाएगा। सरकार की रणनीति दिसंबर के आखिर तक सिलेबस को अंतिम रूप देने की है।