Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» Daughter E-Mails To Police From America For Father S Funeral

पिता के अंतिम संस्कार के लिए बेटी ने अमेरिका से पुलिस को किया ई-मेल

बुजुर्ग पिता की मौत के बाद उनके अंतिम संस्कार के लिए अमेरिका से बेटी मुक्ता सूद को गुरुवार को दिल्ली पुलिस को ई-मेल करन

Bhaskar news | Last Modified - Dec 22, 2017, 06:11 AM IST

पिता के अंतिम संस्कार के लिए बेटी ने अमेरिका से पुलिस को किया ई-मेल

नई दिल्ली.बुजुर्ग पिता की मौत के बाद उनके अंतिम संस्कार के लिए अमेरिका से बेटी मुक्ता सूद को गुरुवार को दिल्ली पुलिस को ई-मेल करना पड़ा। इसके बाद पुलिस ने उसके चाचा गोविंद सेठ को बुजुर्ग का शव सौंप दिया, जिसके बाद उनका अंतिम संस्कार किया गया। ई-मेल में मुक्ता ने लिखा- मैं मुक्ता सूद अपने पिता की अकेली वारिश हूं। अंतिम संस्कार के लिए पिता के शव को चाचा गोविंद सेठ को दे दिया जाए। मुझे भारत आने के लिए अमेरिका से वीजा नहीं मिल पा रहा है। वीजा मिलते ही मैं भारत आऊंगी।


गत शनिवार को मंदिर से लौटते समय एक अज्ञात वाहन ने सिविल लाइंस निवासी बुजुर्ग राम गोपाल सेठ (84) को टक्कर मार दी थी। इसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गए थे। उन्हें ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया था, जहां से उन्हें सर गंगाराम हॉस्पिटल रेफर कर दिया गया। गुरुवार को इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद उनका शव परिजनों को सौंप दिया।

घर छोड़कर अमेरिका नहीं जाना चाहते थे राम गोपाल
राम गोपाल सेठ सात-आठ साल से अकेले रहते थे। उनकी बेटी मुक्ता सूद पिछले 10 वर्षों से अमेरिका में रहती है। पिता से मिलने के लिए वह साल में एक बार भारत आती है। वहीं, मुक्ता की सास स्नेहा सूद ने कहा कि बहू ने अपने पिता को कई बार अमेरिका चलने को कहा था। उन्होंने यह कहकर मना कर दिया कि वह अपने घर को छोड़कर कहीं नहीं जाएंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Delhi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: pitaa ke antim snskar ke liye beti ne amerika se police ko kiyaa ee-mel
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×