Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» Drug Controller Of India Will Prepare Draft For Nano Technology

दुनिया की 8% रिसर्च देश में, पर पेटेंट तक पहुंचती हैं महज 0.2%

13 साल से नैनो टेक्नोलॉजी पर काम चल रहा है। नैनो टेक्नोलॉजी पर 2016 में देश में 11 हजार 66 रिसर्च पब्लिश हुई।

पवन कुमार | Last Modified - Dec 27, 2017, 04:15 AM IST

  • दुनिया की 8% रिसर्च देश में, पर पेटेंट तक पहुंचती हैं महज 0.2%
    +1और स्लाइड देखें

    नई दिल्ली।भारत में 13 साल से नैनो टेक्नोलॉजी पर काम चल रहा है। नैनो टेक्नोलॉजी पर 2016 में देश में 11 हजार 66 रिसर्च पब्लिश हुई। ये वर्ल्ड में कुल रिसर्च का आठ फीसदी हिस्सा है। इस मामले में अमेरिका और चीन के बाद भारत दुनिया में तीसरे नंबर पर है। मगर रिसर्च से आगे जाकर प्रोडक्ट पेटेंट कराने में हम पिछड़ रहे हैं। हालात यह है कि अमेरिकी पेटेंट दफ्तर में कुछ पेटेंट एप्लीकेशंस में भारत का हिस्सा महज 0.2 फीसदी है।

    भारत सरकार नियम-कायदे बनाने की तैयारी में


    - इसी फेलियोर से चिंतित भारत सरकार पहली बार डॉक्टरों और जानकारों के साथ इसके नियम-कायदे बनाने की तैयारी कर रही है।

    - ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया भी इसमें शामिल होगा और सभी सुझावों के साथ एक ड्राफ्ट तैयार करेगा। इसके बाद इस पर जानकारों की फिर राय ली जाएगी।
    - अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में पैथोलॉजी विभाग के प्रोफेसर डॉ. अमित कुमार डिंडा ने बताया कि नैनो टेक्नोलॉजी पर देश में भले ही कितने भी रिसर्च हो जाएं मगर जब तक रेग्युलेशन नहीं होगा सब बेकार है।

    - नियम-कानून न होने के कारण नैनो टेक्नोलॉजी से तैयार इक्यूपमेंट और दवा का इस्तेमाल कानूनी तौर पर नहीं किया जा सकता।

    - पेटेंट के बाद भी भारत इस प्रोडक्ट को ग्लोबल लेवल पर नहीं बेच सकता है और न ही इसका प्रचार-प्रसार कर सकता है। भारत में कोई भी प्रोडक्ट बिकता है तो उसके लिए नियमों का होना जरूरी होता है।

    यहां दौड़ रहे... पांच साल में हो चुके हैं 23 हजार से ज्यादा रिसर्च
    यहां पिछड़ रहे... नैनो टेक्नोलॉजी पर 45% सरकारी फंडिंग घटी

    450 करोड़ कम हो गया बजट

    1000 करोड़ रखे 2007 में नैनो मिशन लांच के वक्त 5 साल के लिए

    650

    करोड़ का आवंटन किया गया 2012 में पांच साल के लिए

    -रिसर्च बढ़ी

    भारत तेजी से बढ़ा :पांच साल में नैनो साइंस पर देश में 23 हजार से ज्यादा रिसर्च प्रकाशित हुए
    चीन-अमेरिका के बाद यह संख्या सबसे ज्यादा रही

    पर यहां ठिठका...2011 में दुनिया के शीर्ष 1%रिसर्च पब्लिकेशन में में भारत के सिर्फ 16 पब्लिकेशन थे

    पेटेंट की गति सुस्त

    2013

    में भारतीय पेटेंट ऑफिस में नैनोटेक्नोलॉजी से सबंधित पेटेंट की संख्या 300 थी

    2016

    के मुकाबले यह दस गुना ज्यादा रही, नैनो मिशन इनिशिएटिव इसकी वजह

    0.2% ही भारत की हिस्सेदारी अमेरिकी पेटेंट ऑफिस में कुल पेटेंट एप्लीकेशन में

    ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया के डॉ. जीएन सिंह ने बताया कि नैनो टेक्नोलॉजी को लेकर देश में अभी कोई नियम नहीं है। एम्स फार्माकोलॉजी, पैथोलॉजी डिपार्टमेंट, इंडियन सोसायटी ऑफ नैनो मेडिसिन मिलकर दिशा-निर्देश तैयार कर रहे हैं। कोशिश है कि भारत में नैनो टेक्नोलॉजी को लेकर जल्द नियम बनें। ताकि इस इर्मजिंग टेक्नोलॉजी का लाभ देश को मिल सके।

  • दुनिया की 8% रिसर्च देश में, पर पेटेंट तक पहुंचती हैं महज 0.2%
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Delhi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Drug Controller Of India Will Prepare Draft For Nano Technology
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×