--Advertisement--

लड़की ने कहा- प्रोफेसर मुझे Kiss me, हग मी और मीट मी जैसे मैसेज भेजता था

Dainik Bhaskar

Feb 08, 2018, 07:32 AM IST

हफ्तेभर में दूसरी बार डीयू प्रोफेसर पर सेक्सुअल हैरासमेंट का आरोप

सांकेतिक सांकेतिक

नई दिल्ली. डीयू (दिल्ली यूनिवर्सिटी) के भारती कॉलेज की एक स्टूडेंट ने प्रोफेसर पर सेक्सुअल हैरेसमेंट का आरोप लगाया है। डीयू के दौलतराम कॉलेज के बाद एक हफ्ते में यह दूसरा मामला सामने आया है।

छात्रा ने डीयू के वाइस चांसलर को कंप्लेंट लेटर भेजा है। 6 फरवरी को लिखे इस पत्र में छात्रा ने शिकायत की है कि भारती कॉलेज का एक प्रोफेसर उसे किस मी, हग मी और मीट मी जैसे भद्दे मैसेज भेजता था। उससे अश्लील बातें भी करता था। अक्सर गलत वक्त पर कॉल करता था। कॉलेज के बाहर मिलने भी बुलाया करता था।

छात्रा ने वाइस चांसलर को एक सीडी भी दी है। इसमें कॉलेज के रूम में छात्राएं प्रोफेसर को थप्पड़ भी मार रही हैं। छात्रा ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर प्रोफेसर का यह वीडियो तैयार किया था। इस वीडियो में प्रोफेसर छात्रों के सामने हाथ जोड़ता हुआ नजर आ रहा है। वहीं, इस मामले को लेकर एनएसयूआई और स्टूडेंट यूनियन ने बुधवार को भारती कॉलेज परिसर में प्रदर्शन किया।


कॉलेज से निकालने की भी दी गई धमकी
भारती कॉलेज की स्टूडेंट इनचार्ज संगीता वर्मा ने बताया कि पीड़िता छात्रा ने जब कॉलेज को इस मामले की जानकारी दी, तो उसे शिकायत वापस लेने और कॉलेज से निकालने की धमकी दी गई। पीड़ित छात्रा और अन्य छात्राओं ने अप्रैल 2017 में टीचर का सामना करते हुए उसका वीडियो तैयार किया था। बाद में टीचर ने मामले को छोड़ने की भी गुजारिश की।

वर्मा ने दावा करते हुए कहा कि छात्रों ने इसलिए इतने दिनों तक कंप्लेंट दर्ज नहीं कराई थी, क्योंकि टीचर ने अपनी गलती मान ली। लेकिन दिसंबर 2017 में छात्राओं को आरोपी प्रोफेसर की जानकारी मिली कि वह शादीशुदा नहीं है। उसने शादीशुदा होने की जानकारी देते हुए मामला खत्म करने के लिए कहा था। इसके बाद जनवरी में पीड़ित छात्रा पर दबाव बनाया गया कि वह कंप्लेंट वापस ले ले, नहीं तो उसे कॉलेज से निकाल दिया जाएगा।

वहीं, बुधवार को इस मामले में प्रदर्शन कर रही छात्राओं ने आरोप लगाया कि कॉलेज में कानून के तहत गठित की जाने वाली इंटरनल कंप्लेंट कमेटी का गठन तक नहीं किया गया है। कॉलेज प्रशासन की यह बड़ी लापरवाही है।

सांकेतिक सांकेतिक
सांकेतिक सांकेतिक
सांकेतिक सांकेतिक
X
सांकेतिकसांकेतिक
सांकेतिकसांकेतिक
सांकेतिकसांकेतिक
सांकेतिकसांकेतिक
Astrology

Recommended

Click to listen..