--Advertisement--

अखिलेश बोले- ‘हम सोशल मीडिया से अफवाह फैलाने वाले गिरोह तैयार नहीं करते’

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दैनिक भास्कर संवाददाता से विशेष बातचीत में भविष्य की रणनीति के संकेत दिए।

Dainik Bhaskar

Mar 15, 2018, 03:46 AM IST
पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव। - फाइल पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव। - फाइल

नई दिल्ली. गोरखपुर और फूलपुर के संसदीय उपचुनाव में जीत के बाद सपा अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भविष्य की रणनीति के संकेत दिए हैं। उन्होंने घर में किसी तरह के मनमुटाव की बात को नकार दिया। साथ ही कहा कि मोदी की अहंकारी नीतियों की हार हुई है। दबे-कुचलों की एकता देश में फैलेगी। गोरखपुर की जीत को इसलिए अहम बताया क्योंकि यह बीजेपी का गढ़ है। उन्होंने अगले आम चुनाव से पहले बड़े गठबंधन के संकेत देते हुए कहा कि बदलाव के लिए सबका साथ जरूरी है। पढ़ें दैनिक भास्कर संवाददाता पीयूष बबेले से अखिलेश की खास बातचीत...

Q: चुनाव नतीजों से पहले सोनिया गांधी ने 20 पार्टियों के नेताओं को डिनर पर बुलाया। इसमें आपकी पार्टी भी शामिल हुई। क्या यह बड़े गठबंधन की आहट है?

A: अभी देश आर्थिक और सामाजिक दोनों फ्रंट पर जिस तरह की परेशानियों से गुजर रहा है, ऐसे में विपक्ष आंख मूंदकर नहीं बैठ सकता। बदलाव के लिए सबका साथ आना जरूरी है। इस साथ का स्वरूप समय के साथ तय हो जाएगा।

Q: तो 2019 में सपा-बसपा-कांग्रेस साथ लड़ेंगे?
A: हम तो मिलकर लड़ ही रहे हैं। इस चुनाव में सबने देखा। हमने नारा दिया कि हमें अपने हिंदू होने पर गर्व है, पर उससे पहले हमें भारतीय होने पर गर्व है। दबे-कुचलों की यह एकता यूपी से पूरे देश में फैलेगी।

Q: आपने एक मोर्चा तो फतह कर लिया है, लेकिन सोशल मीडिया के मोर्चे पर आप बीजेपी से बहुत पीछे हैं?
A: मैं ही वह मुख्यमंत्री था जिसने यूपी में लाखों बच्चों को लैपटॉप बांटे। डिजिटल इंडिया और आईटी का जमीनी काम समाजवादियों ने ही किया है। अगर सोशल मीडिया से आपका आशय अफवाहें फैलाने वाला गिरोह तैयार करना है तो वह काम समाजवादी न कभी करते हैं और न कभी करेंगे। सपा की डिजिटल फोर्स सोशल मीडिया पर सक्रिय है।

Q: आपकी अगली रणनीति क्या है?
A: राज्यसभा चुनाव में लोगों को आशा से बेहतर परिणाम देखने को मिलेंगे। यूपी मेंं होने वाले किसी उपचुनाव को बीजेपी नहीं जीत पाएगी। 2019 के लिए सपा की तैयारी शुरू हो चुकी है। हर बूथ पर समाजवादी कार्यकर्ता सक्रिय हो चुके हैं। वरिष्ठ नेता संगठन को चुस्त कर रहे हैं। समान विचार के दलों के कार्यकर्ताओं के साथ उठना-बैठना और अनौपचारिक मुलाकातें करना हमने शीर्ष पर रखा है। लोकसभा चुनाव से पहले मैं खुद प्रदेश के सभी जिलों का दो-दो बार दौरा कर चुका होऊंगा।

Q: गाेरखपुर और फूलपुर में सपा की जीत का सबसे बड़ा कारण क्या मानते हैं?
A: लोग योगी सरकार के कुशासन से त्रस्त हैं। यह मोदी सरकार की अहंकारी नीतियों की हार है। जैसे बसपा, कांग्रेस ने हमें सहयोग किया उससे बड़ी जीत मिली।

Q: आप दूसरे दलों से कैसे तालमेल बैठाएंगे। आप अपने घर को ही एक नहीं कर पा रहे हैं?

A: सपा पूरी तरह एकजुट है। गोरखपुर में सपा की जीत सिर्फ इसलिए महत्वपूर्ण नहीं है, क्योंकि यह मुख्यमंत्री की सीट थी। इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह बीजेपी का गढ़ था।

सपा नेता राम गोविंद जीत के बाद मायावती से यूं मिले। सपा नेता राम गोविंद जीत के बाद मायावती से यूं मिले।
X
पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव। - फाइलपूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव। - फाइल
सपा नेता राम गोविंद जीत के बाद मायावती से यूं मिले।सपा नेता राम गोविंद जीत के बाद मायावती से यूं मिले।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..