Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» Facts About MBA Student Ranbir Singh Fake Encounter In Dehradun

इंटरव्यू देने गया था MBA स्टूडेंट, पुलिसवालों ने फेक एनकाउंटर में मारी 22 गोलियां

रणबीर सिंह फर्जी एनकाउंटर केस में दिल्‍ली HC ने 7 पुलिसकर्मियों की उम्रकैद की सजा बरकरार रखी है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Feb 07, 2018, 07:53 PM IST

  • इंटरव्यू देने गया था MBA स्टूडेंट, पुलिसवालों ने फेक एनकाउंटर में मारी 22 गोलियां
    +4और स्लाइड देखें
    पुलिस ने रणवीर के फर्जी एनकाउंटर के बाद लुटेरे को मार गिराने की झूठी कहानी प्रसारित की।

    दिल्ली. देहरादून में 3 जुलाई 2009 को एमबीए छात्र रणबीर सिंह के फर्जी एनकाउंटर केस में दिल्‍ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को उत्तराखंड पुलिस के सात कर्मियों की उम्रकैद की सजा बरकरार रखी है। कोर्ट ने कहा कि कानून के शासन में गैर कानूनी हत्याओं के लिए कोई जगह नहीं है। हालांकि, अपहरण और हत्या की साजिश के दोषी ठहराए गए 11 अन्य पुलिसकर्मियों को हाईकोर्ट ने बरी कर दिया। 18 पुलिसकर्मियों को कोर्ट ने माना था दोषी...

    - बता दें कि 2014 में तीस हजारी कोर्ट ने 17 पुलिसकर्मियों को हत्या, अपहरण, सबूत मिटाने और आपराधिक साजिश रचने और गलत सरकारी रिकॉर्ड तैयार करने के आरोप में दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

    - इसके अलावा कोर्ट ने 18वें पुलिसकर्मी को आरोपियों को बचाने के लिए दस्तावेजों से छेड़छाड़ के आरोप में दो साल की सजा सुनाई थी। तीस हजारी कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ 18 पुलिसकर्मियों ने दिल्ली हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

    इंटरव्यू देने गया था देहरादून

    - गाजियाबाद के शालीमार गार्डन में रहने वाला एमबीए का छात्र रणबीर 2 जुलाई 2009 को अपने दोस्त के साथ नौकरी के लिए इंटरव्यू देने देहरादून गया था।

    आगे की स्लाइड्स में जानें क्यों हुई थी दारोगा और रणवीर के बीच हाथापाई...

  • इंटरव्यू देने गया था MBA स्टूडेंट, पुलिसवालों ने फेक एनकाउंटर में मारी 22 गोलियां
    +4और स्लाइड देखें

    दारोगा की पूछताछ पर भड़क गया था रणवीर

    - 3 जुलाई 2009 की दोपहर को रणवीर अपने दो साथियों के साथ देहरादून के मोहिनी रोड पर खड़ा था। तभी वहां से दारोगा जीडी भट्ट गुजर रहे थे। उन्होंने इन लड़कों को संदिग्ध मानते हुए उनसे सवाल-जवाब किए।

    - दारोगा की पूछताछ से रणवीर नाराज हो गया और इसके बाद दारोगा और रणवीर के बीच काफी कहासुनी हुई। देखते ही देखते दोनों के हाथापाई की नौबत आ गई।

    - दारोगा के साथ मारपीट की सूचना जब पुलिस कंट्रोल रूम को मिली तो पुलिस फोर्स वहां पहुंच गई और रणवीर को चौकी उठा लाई। यहां, रणवीर को थर्ड डिग्री से टॉर्चर किया गया। इसके बाद उसकी हालत बिगड़ गई।

  • इंटरव्यू देने गया था MBA स्टूडेंट, पुलिसवालों ने फेक एनकाउंटर में मारी 22 गोलियां
    +4और स्लाइड देखें

    जंगल में ले जाकर किया फेक एनकाउंटर

    - मामले को दबाने के लिए पुलिस रणवीर को अपने साथ पास के जंगल में ले गई और मुठभेड़ की झूठी कहानी रचकर उसकी हत्या कर दी।

    - पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला कि रणवीर के शरीर में 28 चोट के निशान थे। इसके साथ ही करीब 22 गोलियां रणवीर के सीने में मारी गई थी। इसी हकीकत को आधार बनाकर रणवीर के परिजनों ने पुलिस के खिलाफ जंग लड़ी।

  • इंटरव्यू देने गया था MBA स्टूडेंट, पुलिसवालों ने फेक एनकाउंटर में मारी 22 गोलियां
    +4और स्लाइड देखें

    पुलिस ने बताई ये झूठी कहानी

    - वहीं, पुल‌िस ने इसे एनकाउंटर करार देते हुए एक अलग ही कहानी गढ़ दी। पुलिस के मुताब‌िक- "3 जुलाई 2009 को तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल का मसूरी में दौरा था, जिसके चलते सघन जांच की जा रही थी। तभी सरकुलर रोड पर दारोगा जीडी भट्ट वाहनों की चेकिंग कर रहे थे।"

    - पुलिस ने कहा था- "इस दौरान बाइक पर आए तीन युवकों को रोका गया तो उन्होंने भट्ट पर हमला कर उनकी सर्विस रिवाल्वर लूट ली। लूटपाट के बाद तीनों बदमाश फरार हो गए। कंट्रोल रूम में सूचना प्रसारित होने के बाद सक्रिय हुई पुलिस ने बदमाशों की तलाश शुरू की गई।"

  • इंटरव्यू देने गया था MBA स्टूडेंट, पुलिसवालों ने फेक एनकाउंटर में मारी 22 गोलियां
    +4और स्लाइड देखें

    अफसरों ने थपथपाई थी पुलिसवालों की पीठ

    - पुलिस के अनुसार- "करीब दो घंटे बाद लाडपुर के जंगल में बदमाशों से एनकाउंटर हुआ। आमने-सामने की फायरिंग में पुलिस ने रणवीर पुत्र रवींद्र निवासी खेकड़ा बागपत को मार गिराया गया। जबकि, उसके दो साथी फरार हो गए।"

    वहीं, पुलिस ने मौके पर ही ड्राइविंग लाइसेंस के आधार पर उसकी पहचान एक लुटेरे के रूप में कर दी थी। उस समय अफसरों ने भी मौके पर पहुंचकर पुलिस की पीठ थपथपाई थी।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×