--Advertisement--

भाई ने शव पहचाना, पत्नी का इनकार, डीएनए जांच कराएंगे

शव की पहचान कर ली, वहीं पत्नी और भांजे का अभी भी यही कहना है कि शव जितेंद्र झा का नहीं है। ऐसे में अब पुलिस डीएनए जांच क

Danik Bhaskar | Dec 16, 2017, 05:32 AM IST

नई दिल्ली. रेलवे ट्रैक पर दो हिस्सों में मिला शव पांच दिन से लापता आईसीएएस अधिकारी जितेन्द्र झा का है या नहीं, इसकी पुष्टि शुक्रवार को भी नहीं हो सकी। उनके भाई अमरेन्द्र झा ने जहां शव की पहचान कर ली, वहीं पत्नी और भांजे का अभी भी यही कहना है कि शव जितेंद्र झा का नहीं है। ऐसे में अब पुलिस डीएनए जांच कराएगी।


बिहार के सुपौल से शुक्रवार को दिल्ली पहुंचे भाई अमरेन्द्र झा स्थानीय पुलिस के साथ मोर्चरी पहुंच कर शव की पहचान की। इसके बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए सुरक्षित मोर्चरी में रखवा दिया गया है। शनिवार को शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों को सौंप दिया जाएगा। इसके बाद परिजन जितेंद्र झा केे शव को पैतृक गांव लेकर जाएंगे।

पत्नी के बयान पर दर्ज किया जाएगा मुकदमा
जांच अधिकारी के अनुसार आईसीएएस जितेंद्र झा की आत्महत्या के बाद अब पुलिस उनकी पत्नी के बयान पर केस दर्ज कर जांच शुरू करेगी। इतना ही नहीं पुलिस जितेंद्र झा के फोन और ई-मेल भी देखेगी।

किसी के खिलाफ सबूत मिला तो कार्रवाई
अगर किसी अधिकारी के खिलाफ सबूत मिलता है तो उस पर कार्रवाई की जाएगी। जितेंद्र झा सोमवार सुबह करीब 10.30 बजे अपने घर से अचानक लापता हो गए थे। इसके बाद उनका शव पालम रेलवे स्टेशन के पास सोमवार देर रात मिला था।