--Advertisement--

वकील ने पत्नी और दो बेटियों संग खेली खून की होली, पहले रेंत दिया गला फिर की सुसाइड

दिल्ली में दिल दहला देने वाला हादसा।

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 08:30 AM IST
पत्नी मिनाक्षी, बेटी दीपिका और नेहा के साथ वकील जितेंद्र। पत्नी मिनाक्षी, बेटी दीपिका और नेहा के साथ वकील जितेंद्र।

नई दिल्ली. दक्षिणी दिल्ली में दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है। पैसों की तंगी के चलते होली न मना पाने पर पेशे से वकील एक युवक ने पत्नी और दो बेटियों का गला रेतकर आत्महत्या कर ली। मामला संगम विहार थाना क्षेत्र का है। पड़ोसियों ने सूचना मिलने के बाद पहुंची पुलिस ने दरवाजा तोड़कर घर में प्रवेश किया और घायलों को अस्पताल में भर्ती किया। 42 वर्षीय जितेंद्र बहादुर सिंह को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। जबकि 38 वर्षीय पत्नी मिनाक्षी और बेटियों दीपिका (10) व नेहा (8) का उपचार चल रहा है। उधर, पुलिस ने नेहा के बयान पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। प्राथमिक जांच में मामला आर्थिक तंगी से जुड़ा लग रहा है। ये था मामला...


पुलिस उपायुक्त रोमिल बानिया के मुताबिक मूलरूप से देवघर (झारखंड) निवासी जितेंद्र पेशे से वकील थे। पिछले एक साल से पत्नी मीनाक्षी, बेटी दीपिका व नेहा के साथ ई-ब्लॉक संगम विहार में एक कमरे के मकान में किराए पर रह रहे थे। जितेंद्र की वकालात कुछ दिनों से ठीक नहीं चल रही थी। इसके चलते उसकी आर्थिक स्थिति गड़बड़ा गई। आर्थिक तंगी के कारण वह अपने मकान मालिक को पिछले छह महीने से मकान का किराया भी नहीं दे पा रहे थे।

पहले पत्नी, फिर बेटियों पर किया चाकू से वार
नेहा व दीपिका दोनों संगम विहार में ही एक सरकारी स्कूल में पढ़ती हैं। पुलिस को दिए बयान में नेहा ने कहा है कि पिता ने पहले उसकी मां के गले पर फिर दोनों बहनों के गले पर चाकू से वार किया। विरोध करने पर वह मां-बेटियों का गला ठीक से नहीं काट पाए, लेकिन गुस्से में अपना गला रेत लिया। पुलिस की जांच में पता चला कि जितेंद्र ने कई लोगों से कर्ज लिया था, जो पैसों की मांग को लेकर उसके घर भी आते थे।

मकान मालिक के बेटे ने दी पुलिस को सूचना
रात 8:30 बजे मकान मालिक के बेटे ने पुलिस को कॉल कर शाम 4 बजे से ही जितेंद्र के घर का दरवाजा बंद होने की सूचना दी। संगम विहार पुलिस ने दरवाजा खुलवाने की कोशिश की लेकिन अंदर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई। इस पर पुलिसकर्मियों ने दरवाजा तोड़ा। कमरे में घुसते ही बिस्तर पर मीनाक्षी व उनकी दोनों बेटियां खून से लथपथ हालत में पड़ी थीं। तीनों की सांसें चल रही थीं।

फर्श पर जितेंद्र भी खून से लथपथ पड़ा था। थानाध्यक्ष उपेंद्र सिंह ने अपनी जिप्सी से चारों को एम्स ट्रॉमा सेंटर में भर्ती करवाया, जहां डॉक्टरों ने जितेंद्र को मृत घोषित कर दिया। उनकी सांस की नली कटने से मौके पर ही मौत हो गई थी। मीनाक्षी व नेहा की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। उन्हें आईसीयू से वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। दीपिका अभी आईसीयू में भर्ती है।