--Advertisement--

25-29 जनवरी को जयपुर में लिट्रेचर फेस्टिवल, छाई रहेगी 'पद्मावती'

दिल्ली में फेस्ट के प्रीव्यू के मौके पर भास्कर से खास बातचीत में बोले फेस्ट के प्रोड्यूसर संजोय के. रॉय

Danik Bhaskar | Dec 13, 2017, 09:33 AM IST

नई दिल्ली. विवादित फिल्म पद्मावती की कहानी जयपुर लिट्रेचर फेस्टिवल में भी छाई रहेगी, हालांकि इस पर कोई विशेष सेशन तो नहीं रखा गया है लेकिन लेखिका मृदुला बिहारी की किताब पद्मिनी इस मौके पर लांच की जा रही है। दैनिक भास्कर से खास बात करते हुए जयपुर लिट्रेचर फेस्ट के प्रोड्यूसर संजोय के रॉय ने यह जानकारी दी। मृदुला बिहारी द्वारा लिखित किताब पद्मिनी को अंग्रेजी में ट्रांसलेट किया गया है। इस मौके पर लेखक अपने विचार रखेंगे।


ताजमहल होटल में मंगलवार को जयपुर लिट्रेचर फेस्ट के प्रीव्यू के मौके पर संजोय रॉय ने फेस्ट के बारे में जानकारी दी। 25 से 29 जनवरी को हाने वाले फेस्ट में ब्रिटिश राइटर एडम निकालसन, एलेक्सजेंद्रा हैरिस, डॉमिनक ड्रूमगूले, होमी भाभा, 1962 की चीन के युद्ध के दौरान चीनी कम्यूनिटी पर किताब लिखने वाली रीता चौधरी के साथ करीब 375 लेखक भाग लेंगे। यहां फेस्ट की सह डायरेक्टर नमिता गोखले और इतिहास की किताबें लिखने वाले विलियम डेलरम्पेल भी मौजूद थे।

डेलरम्पेल ने बताया कि यह अकेला ऐसा लिट्रेचर फेस्ट है जिसमें शिरकत करने वाले लोगों में 61 प्रतिशत युवा होते हैं। 25 साल के कम उम्र के लोग इस फेस्ट से जुड़ रहे हैं तो यह एक अच्छी पहल है। सिडनी, न्यूआर्क जैसे शहरों में आयोजित होने वाले फेस्ट में भाग लेने के लिए लोगों को हजारों रूपये खर्च करने पड़ते हैं, लेकिन जयपुर लिट्रेचर फेस्ट में एंट्री फ्री होती है।

जयपुर की संस्कृति से भी हो सकेंगे रूबरू : नमिता
बुक लवर्स के लिए तो इस फेस्ट में काफी कुछ नया होगा। उन्हें मंझे हुए राइटर से सीखने को मिलेगा। नए राइटर के बुक क्लब को यहां और विस्तार दिया जाएगा। पिछले साल पांच गांवों में बुक क्लब की शुरूआत की गई थी लेकिन इस साल इसकी संख्या यकीनन बढ़ेगी। ज्यादा से ज्यादा नए लेखकों का यहां मंच मिलेगा। खास बात यह है कि इस मंच से भारतीय भाषाओं की किताबें भी काफी संख्या में होंगी। ट्रांसलेशन की दिशा में अब काफी काम किया जा रहा है, दुनिया को भारतीय भाषा में लिखे जा रहे लिट्रेचर के बारे में जानने का मौका मिल रहा है।

पद्मावती फिल्म देखूंगी तो करूंगी कमेंट : ज्योतिका
डिग्गी पैलेस की ओनर ज्योतिका कुमारी ने कहा, फेस्ट में कोई भी कान्ट्रोवर्सी न हो इसका भी हमे हीं ख्याल रखना है। जहां तक पद्मावती फिल्म की बात है, तो मैंने अभी नहीं देखी। ऐसे में इस पर कमेंट करना भी उचित नहीं है। बाकी अभिव्यक्ति की आजादी सभी को है।

शशि थरूर समेत कई सेलेब ने बढ़ाई रौनक
इस आयोजन में कांग्रेस के नेता शशि थरूर कुछ अलग ही अंदाज़ में दिखे। यहां फैशन डिज़ाइनर निकेत मिश्र अपनी दोस्त पल्लवी के साथ आये थे। सोनिया शर्मा, प्रियंका सुकेजा और मानसी ने भी इस फेस्टिवल में होने वाली म्यूजिकल नाइट्स को सराहा।

फेस्ट में अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई, मशहूर तबला वादक जाकिर हुसैन, फिल्म निर्माता अनुराण कश्यप, पुलित्जर अवार्ड विनर हेलेन फील्डिंग, द जॉय लक क्लब की लेखिका एमी टैन, डांसर सोनल मानिसंह, यतीन्द्र मिश्र सहित कई जाने-माने सहित्यकार अपनी बात रखेंगे। इस पार्टी में मेहमानों के लिए एक गज़ल और सूफी संगीत का भी आयोजन किया गया था, जिसमे मशहूर गायक प्रदीप श्रीवास्तव ने कुछ गज़ले पेश कीं।