--Advertisement--

​2017 में देश में 115 बाघों की मौत, सबसे ज्यादा 29 बाघों की मौत एमपी में

2017 देश में टाइगर के लिए संकट का साल रहा। इस दौरान देश में 115 टाइगर की मौत हो गई।

Dainik Bhaskar

Jan 03, 2018, 05:53 AM IST
more than hundred tigers die in country, most of in Madhya pradesh

नई दिल्ली. 2017 देश में टाइगर के लिए संकट का साल रहा। इस दौरान देश में 115 टाइगर की मौत हो गई। नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथॉरिटी की रिपोर्ट के मुताबिक 2017 में देश में 98 बाघों के शव, जबकि 17 बाघों के अवशेष बरामद किए गए। इन्हें मिलाकर कुल 115 बाघों की मौत हुई। इनमें 32 फीमेल और 28 मेल हैं। बाकी बाघों की पहचान नहीं हो सकी। बाघों की मौत के मामले में मध्यप्रदेश अव्वल रहा। वहां 29 बाघों की मौत हुई। इसके बाद महाराष्ट्र, कर्नाटक, उत्तराखंड और असम है। 84% बाघों की मौत इन्हीं 5 राज्यों में हुई। बाघों की मौत के पीछे करंट लगना, शिकार, जहर, आपसी लड़ाई, प्राकृतिक मौत, रेल या सड़क हादसों को बताया गया है। सरकार ने प्रोजेक्ट टाइगर शुरू किया था...

- बाघों के संरक्षण के लिए सरकार ने 1973 में प्रोजेक्ट टाइगर शुरू किया था। तब से लेकर अब तक देश में 50 टाइगर रिजर्व बनाए गए हैं, जो देश के कुल ज्योग्राफिकल एरिया का 2.12% है। 2014 की काउंटिंग के मुताबिक देश में कुल 2,226 टाइगर थे। यह दुनिया के कुल टाइगर का करीब 70% है। दुनिया भर में कुल 3,890 टाइगर हैं।

इस साल होगी बाघों की काउंटिंग, एप का होगा इस्तेमाल

- बाघों की काउंटिंग हर 4 साल बाद होती है। इस साल भी होगी। इसके लिए वाइल्डलाइफ इंस्टीट्यूट ने एक एप बनाया है। मॉनिटरिंग सिस्टम फॉर टाइगर इंटेंसिव प्रोटेक्शन एंड इकोलॉजिकल स्टेटस(एम-स्ट्राइप्स) नाम के इस एप से बाघों के पदचिह्न, क्षेत्र को रिकॉर्ड किया जाएगा। इसमें 18 राज्यों का 4 लाख वर्ग किमी क्षेत्र कवर होगा।

2014 की गणना के मुताबिक देश में 2226 बाघ, इनमें से 63% सिर्फ 5 राज्यों में

115 में से 97 टाइगर की मौत इन 5 राज्यों में

राज्य कुल बाघ मौत
मध्यप्रदेश 308 28
महाराष्ट्र 190 21
कर्नाटक 406 16
उत्तराखंड 340 16
असम 167 16
5 साल में 414 बाघों की मौत
वर्ष बाघों की मौत
2013 63
2014 66
2015 70
2016 100
2017 115

विश्व के 70% बाघ भारत में

देश बाघ
भारत 2,226
रूस 433
इंडोनेशिया 371
मलेशिया 250
नेपाल 198

X
more than hundred tigers die in country, most of in Madhya pradesh
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..