Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» Most Troubled Village In The Country Report In Bhaskar

देश का सबसे अशांत गांव, लोगों ने बनाए बंकर; बुलेट प्रूफ स्कूल

दो ग्राउंड रिपोर्ट बता रही हैं कैसे विपरीत हालात में भी खुशहाल हैं लोग

जम्मू-कश्मीर के नौशेरा सेक्टर के झंगड़ क्षेत्र से ननु जोगिंदर सिंह की रिपोर्ट, इनपुट- विजय कुमार | Last Modified - Jan 22, 2018, 05:39 AM IST

  • देश का सबसे अशांत गांव, लोगों ने बनाए बंकर; बुलेट प्रूफ स्कूल
    +8और स्लाइड देखें
    पाकिस्तानी सेना की फायरिंग से बचने के लिए लोगों ने घरों में बनाए बंकर

    जम्मू-कश्मीर. यहां नौशेरा सेक्टर के झंगड़ क्षेत्र में सीमा पार से गोलीबारी आम बात है। हथगोला गिरने से गांव के प्राइमरी और मिडिल स्कूल बंद हो चुके हैं। सुरक्षा कारणों से उन्हें वापस नहीं खोला जा सकता है। बच्चों की पढ़ाई पंचायती भवन में मोबाइल स्कूल में जारी है। यहां पहली से 8वीं तक के बच्चे एकसाथ पढ़ रहे हैं। 5वीं तक के बच्चों को एक टीचर पढ़ाते हैं। बाकी क्लासेस की जिम्मेदारी तीन टीचर्स पर है। शिक्षक बताते हैं कि स्कूल में प्रार्थना की बजाय जीरो पीरियड होता है।


    - वहीं, दूसरी ओर एक निजी स्कूल ने पाकिस्तानी फायरिंग से बचने के लिए बुलेट प्रूफ क्लास रूम बनाकर इस समस्या का भी हल निकाल लिया है। यहां जैसे ही घंटी बजती है सभी स्टूडेंट बुलेट प्रूफ क्लास रूम में चले जाते हैं। टीचर भी वहीं आ जाते हैं और पढ़ाई जारी रहती है। हर सप्ताह ऐसी घटना सामान्य है।

    - प्रिंसिपल मनजीत सिंह का कहना है कि हमारे 10वीं तक के स्कूल में 100 स्टूडेंट्स पढ़ते हैं। हमने अपने सभी स्टूडेंट्स को गोलीबारी या बमबारी होने पर छिपने की ट्रेनिंग भी दी है।
    - भास्कर टीम जब इस गांव पहुंची तो बच्चे माता-पिता के साथ स्कूल जा रहे थे। घर और दुकानों का काम सामान्य रूप से चल रहा था। लोगों ने बताया कि रातभर पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी होती रही। जो तड़के 3:30 बजे बंद हुई। फिर भी मई के बाद घर छोड़कर नौशेरा के बेस कैंपों में बसे ज्यादातर ग्रामीण अब लौटने लगे हैं।

    अगले माह शादी

    - यहां रहने वाले चांद हीर की अगले माह शादी है। इतनी गोलीबारी और अशांति के बावजूद यह शादी गांव में ही होगी। तैयारियां शुरू हो गई हैं।

    - 73 वर्षीय महिला कैलाश कहती हैं कि फायरिंग तो यहां रोज होती है। हमारे घर के बाहर गोलियों के निशान देख सकते हैं। हथगोले ने दरवाजा तोड़ दिया है, लेकिन घर छोड़कर नहीं जाएंगे।

    - इस गांव के सरपंच संजय कुमार की पत्नी भी इन दिनों नौशेरा के राहत शिविर मेें हैं, क्योंकि उनके बच्चे छोटे हैं।

    - गांव में किराना दुकान चलाने वाले अमित बताते हैं कि अब ज्यादातर लोगों ने बंकर बनाने शुरू कर दिए हैं ताकि बार-बार भागना ना पड़े। सरकार से ढाई लाख रुपए तक की मदद मिल रही है। हालांकि गरीब लोगों के लिए खुद के बंकर बनाना आसान नहीं है फिर भी वे मिल-जुलकर बना रहे हैं।

  • देश का सबसे अशांत गांव, लोगों ने बनाए बंकर; बुलेट प्रूफ स्कूल
    +8और स्लाइड देखें
    नौशेरा के स्कूल की दीवारों पर लगी गोलियों के निशान (लाल घेरे में) बताते हैं कि यहां बच्चों का स्कूल आना तक खतरों से खाली नहीं है। फिर भी वे नियमित आते हैं।
  • देश का सबसे अशांत गांव, लोगों ने बनाए बंकर; बुलेट प्रूफ स्कूल
    +8और स्लाइड देखें
    यहां कई घरों में गोले गिरने से छतों में ऐसे छेद हो गए हैं।
  • देश का सबसे अशांत गांव, लोगों ने बनाए बंकर; बुलेट प्रूफ स्कूल
    +8और स्लाइड देखें
    हर जगह दिखते हैं गोलीबारी के ऐसे निशान।
  • देश का सबसे अशांत गांव, लोगों ने बनाए बंकर; बुलेट प्रूफ स्कूल
    +8और स्लाइड देखें
    छतों को ऐसे ढका गया है।
  • देश का सबसे अशांत गांव, लोगों ने बनाए बंकर; बुलेट प्रूफ स्कूल
    +8और स्लाइड देखें
    घर के आगे बनाई गई दिवार।
  • देश का सबसे अशांत गांव, लोगों ने बनाए बंकर; बुलेट प्रूफ स्कूल
    +8और स्लाइड देखें
    घर के अंदर ऐसे बनाए गए हैं बंकर।
  • देश का सबसे अशांत गांव, लोगों ने बनाए बंकर; बुलेट प्रूफ स्कूल
    +8और स्लाइड देखें
    कई जगह ऐसे दिखते हैं गोलियों के निशान।
  • देश का सबसे अशांत गांव, लोगों ने बनाए बंकर; बुलेट प्रूफ स्कूल
    +8और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Delhi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Most Troubled Village In The Country Report In Bhaskar
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×