--Advertisement--

एसबीआई और यूनियन बैंक 10,989 करोड़ के NPA अकाउंट बेचेंगे, 42 कंपनियों के खाते शामिल

यूनियन बैंक के खातों में 10,000 करोड़ और एसबीआई के खातों में 988.95 करोड़ रुपए का एनपीए है।

Dainik Bhaskar

Mar 08, 2018, 07:24 AM IST
अकेले एसबीआई के खातों में 988.95 करोड़ रुपए का एनपीए है।   -सिम्बॉलिक अकेले एसबीआई के खातों में 988.95 करोड़ रुपए का एनपीए है। -सिम्बॉलिक

नई दिल्ली. भारतीय स्टेट बैंक और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया 10,989 करोड़ रुपए मूल्य की गैर निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) से जुड़े खाते बेचेंगे। इनमें यूनियन बैंक के 27 और एसबीआई के 15 खाते शामिल हैं। यूनियन बैंक के खातों में 10,000 करोड़ और एसबीआई के खातों में 988.95 करोड़ रुपए का एनपीए है। दोनों बैंकों की ओर से बुधवार को इस बारे में अलग-अलग बोलियां आमंत्रित की गईं। एसबीआई ने 14 कंपनियों के एनपीए खातों को इस सूची में रखा है। इन फंसे कर्जों के लिए बैंकों, असेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनियों, एनबीएफसी और वित्तीय संस्थानों से बोलियां मांगी गई हैं।

बैंक पर है एनपीए का भारी दबाव

- बैंक ने 9 मार्च 2018 तक इस बारे में ईओआई आमंत्रित की हैं। जबकि, ड्यू डिलिजेंस प्रक्रिया 22 मार्च तक पूरी की जानी है। ई-बिडिंग की प्रक्रिया 23 मार्च को होगी।

- यूनियन बैंक ने जीटीएल के लिए 17 मार्च तक बोलियां आमंत्रित की हैं। जबकि, अन्य कंपनियों के लिए 20 मार्च अंतिम तिथि है। बैंक पर एनपीए का भारी दबाव है। अप्रैल-दिसंबर 2017-18 की अवधि में इसका ग्राॅस एनपीए पिछले साल की इसी अवधि के 32,403 करोड़ रुपए से बढ़कर 40,988 करोड़ रुपए हो गया।

किन कंपनियों का नाम है लिस्ट में?

- एसबीआई के मुताबिक, सिंभावली शुगर्स पर 158.57 करोड़ रुपए का कर्ज बकाया है। सिंभावली शुगर्स और मध्य प्रदेश की एमसीएल ग्लोबल स्टील ने कर्ज के बदले कोई भी संपत्ति गिरवी नहीं रखी है। सिंभावली पर ओरिएंंटल बैंक ऑफ कॉमर्स का भी 97.85 करोड़ रुपए कर्ज बकाया है। सीबीआई भी इस कंपनी के खिलाफ जांच कर रही है।

- अन्य प्रमुख एनपीए खातों में अक्शा गोल्ड ओर्नामेंट्स, केबीजे ज्वैल्स इंडस्ट्री और केबीजे होटल वाराणसी शामिल हैं, जिनपर 164.30 करोड़ रुपए का कर्ज बकाया है। गुजरात की 8 कंपनियों ने बैंक का 5.90 करोड़ रुपए से लेकर 63.39 करोड़ रुपए तक का कर्ज नहीं चुकाया है।

- यूनियन बैंक का जहां जीटीएल इंफ्रा पर 4,205 करोड़ रुपए बाकी है, वहीं 26 अन्य कंपनियों पर कुल 5,963.69 करोड़ रुपए बकाया है। इनमें उत्तम गाल्वा ग्रुप की कंपनियां, गेमन इंडिया, आलोक इंडस्ट्रीज, जायस्वाल नेको, जीएमआर छत्तीसगढ़ जैसी प्रमुख कंपनियां भी शामिल हैं। यूनियन बैंक की हैदराबाद, मुंबई, दिल्ली, नागपुर, अहमदाबाद, बेंगलुरू और पुणे शाखाओं से इन कंपनियों को कर्ज दिए गए।


रिजर्व बैंक ने एसबीआई पर लगाया 40 लाख रु. का जुर्माना

वहीं, रिजर्व बैंक ने एसबीआई पर नकली नोटों से जुड़े दिशानिर्देशों के उल्लंघन के मामले में 40 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। केंद्रीय बैंक के अनुसार एक मार्च को एसबीआई की दो शाखाओं के करेंसी चेस्ट के निरीक्षण के दौरान यह पाया गया कि नकली नोटों की पहचान को लेकर जारी दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया गया है। बैंक के लिखित जवाब और सुनवाई के बाद रिजर्व बैंक इस नतीजे पर पहुंचा कि आरोप सही है।

एसबीआई का सिंभावली शुगर्स पर 158.57 करोड़ रुपए का कर्ज बकाया है।   -फाइल एसबीआई का सिंभावली शुगर्स पर 158.57 करोड़ रुपए का कर्ज बकाया है। -फाइल
X
अकेले एसबीआई के खातों में 988.95 करोड़ रुपए का एनपीए है।   -सिम्बॉलिकअकेले एसबीआई के खातों में 988.95 करोड़ रुपए का एनपीए है। -सिम्बॉलिक
एसबीआई का सिंभावली शुगर्स पर 158.57 करोड़ रुपए का कर्ज बकाया है।   -फाइलएसबीआई का सिंभावली शुगर्स पर 158.57 करोड़ रुपए का कर्ज बकाया है। -फाइल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..