--Advertisement--

ऐसे थे ये 5 साइको किलर, जिनके कारनामों ने पूरे देश को कर दिया था SHOCKED

30 बलात्कार और 15 हत्याओं से पूरे देश को झकझोर देने वाले सीरियल किलर एम. जयशंकर ने जेल में खुदकुशी कर ली।

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 04:51 PM IST

दिल्ली. 30 बलात्कार और 15 हत्याओं से पूरे देश को झकझोर देने वाले सीरियल किलर एम. जयशंकर ने बेंगलुरू के परप्पन्ना अग्रहारा जेल में खुदकुशी कर ली। खून से लथपथ जयशंकर को अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। तमिलनाडु और कर्नाटक के इस कुख्यात अपराधी पर पिछले साल 'साइको शंकर' नाम से फिल्म भी बनी थी।

बता दें कि जेल प्रशासन ने सीरियल किलर एम. जयशंकर की मौत के जांच के आदेश दिए हैं। जेल अधिकारियों के मुताबिक, जेल में शेविंग करने आए नाई के बैग से जयशंकर ने ब्लेड निकाल लिया होगा। उसे शर्ट में छुपाकर वो अपने साथ ले गया होगा। हालांकि, किसी ने भी उसे अपना गला काटते हुए नहीं देखा है। ऐसे में उसकी मौत की वजह संदिग्ध लगती है।

जेल में रहने के दौरान एक बार वह बांस की बल्ली और चादर के सहारे दीवार फांदकर भाग चुका था। जिसके बाद उसे 6 सितंबर 2013 को बंगलूरू पुलिस ने कुडलीगेट के पास से दोबारा गिरफ्तार किया था।

जुलाई 2009 को जयशंकर ने 45 वर्षीय महिला के साथ बलात्कार की कोशिश के बाद मौत के घाट उतार दिया था। अगस्त 2009 में उसने 12 महिलाओं के साथ रेप करके उनकी हत्या कर दी। जयशंकर जेल में दस साल की सजा काट रहा था।

आगे की स्लाइड्स ऐसे साइको किलर्स के बारे में जिन्होंने अपने कारनामे से पूरे देश को हिला दिया...

- देवेंद्र शर्मा

 

दिल्ली. देवेंद्र एक ऐसा सीरियल किलर था, जिसने 30 से 40 टैक्सी ड्राइवरों को अपना शिकार बनाया था। यह हत्यारा टैक्सी ड्राइवरों का शिकार करने के लिए उन्हें पहले किसी सुनसान जगह के लिए बुक करता था। फिर ड्राइवरों को पीट-पीटकर मार देता था और हत्या करने के बाद उनकी टैक्सी चोरी कर लेता था।

 

करीब 2 साल तक देवेंद्र शर्मा ने चार राज्यों को अपना निशाना बना लिया था, जिनमें दिल्ली, हरयाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान शामिल थे। 2005 में कमल सिंह टैक्सी ड्राइवर की हत्या के केस में देवेंद्र शर्मा और उसके दोनों साथी पुलिस के हत्थे चढ़ गए। इसके बाद 2008 में उसे मौत की सजा हुई।

- आटो शंकर

 

चेन्नई. गौरीशंकर एक ऐसा सीरियल किलर था जिसने करीब 9 से ज्यादा लड़कियों को अपना शिकार बनाया था। कहा जाता है कि यह ऐसा हत्यारा था जो लड़कियों का अपहरण कर पहले रेप करता था, फिर अपने साथियों को दुष्कर्म करने के लिए बेच देता था। जब साथियों का मन भर जाता था तो लड़कियों को मारकर जला देता था और राख बंगाल की खाड़ी में फेंक देता था।

 

1987 दिसंबर में एक स्कूली छात्रा ने ऑटो रिक्शा चालक गौरीशंकर के खिलाफ छेड़छाड़ और अपहरण की कोशिश का केस दर्ज कराया। पुलिस जांच में गौरीशंकर के गुनाहों का काला चिट्ठा सामने आ गया। 27 अप्रैल साल 1995 में ऑटो शंकर को उसके गुनाहों की सजा मिली थी। सालेम जेल में गौरी शंकर उर्फ़ ऑटो शंकर को फांसी पर लटका दिया गया था।

- साइनाइड मोहन

 

बेंगलुरु. कर्नाटक के कुख्यात सीरियल किलर साइनाइड मोहन का असली नाम मोहन कुमार था, जो सुहागरात के बाद महिलाओं की हत्या कर देता था। वो पेशे से स्कूल टीचर था।

 

मोहन अक्सर शादी का झांसा देकर महिलाओं को फंसाता और शादी करके पूरी रात सुहागरात मानता था। अगले दिन गर्भनिरोधक गोली खिलाने के बहाने महिलाओं को साइनाइड खिला देता था। साल 2005 से 2009 के बीच साइनाइड मोहन ने 20 लड़कियों की हत्या कर की।

 

साल 2009 में उसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। चार साल तक कोर्ट में केस चलने के बाद दिसम्बर 2013 में उसे फांसी की सजा दे दी गई।

- साइनाइड मल्लिका

 

बेंगलुरु. साइनाइड मल्लिका का वास्तविक नाम केजी केम्पम्मा है। मल्लिका को देश का सबसे पहला महिला सीरियल किलर माना जाता है। 1999 से 2007 के बीच मल्लिका ने 6 महिलाओं को साइनाइड खिला कर मार डाला था। वो मंदिरों के आसपास मानसिक रूप से परेशान महिलाओं को खोजती था। इसके बाद उनको भरोसा दिलाती थी कि वो सब पूजा-पाठ से सब ठीक कर देगी। लेकिन, उन्हें साइनाइड खिला कर मार डालती थी।

 

2007 में पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। अप्रैल 2012 में सजा-ए-मौत दी गई, जिसे उम्रकैद में बदल दिया गया। उसके खिलाफ कोई सीधा सबूत नहीं मिल पाने के कारण कोर्ट ने इस केस को 'रेयरेस्ट ऑफ़ दी रेयर' केस में डाला।