--Advertisement--

तिहाड़ जेल के कैदियों ने बनाए कागज के ये फूल, पेंटिंग भी बनाते हैं कैदी

जेल का प्रयास है कि कैदी जेल की चारदीवारी के अलावा समाज की मुख्यधारा में पूरे आत्मविश्वास से जुड़ें।

Danik Bhaskar | Mar 08, 2018, 06:36 AM IST
जेल में महिला कैदी फूल बनाते हुए। जेल में महिला कैदी फूल बनाते हुए।

नई दिल्ली. तिहाड़ जेल दक्षिण एशिया की सबसे बड़ी जेल है। यहां के कैदी डिजायनर जूलरी से लेकर तरह-तरह की पेटिंग्स बनाते हैं। 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की खूबसूरती बढ़ाने के लिए यहां की महिला कैदी सजावटी सामान भी बना रही हैं। ये है इसके पीछे का कारण...

- कुछ दिन पहले भी जेल में बनी तिहाड़ कला दीर्घा में 200 पेंटिग्स रखी थीं। जिनमें से अधिकतर को कैदियों ने तैयार किया था।
- इस दीर्घा में कैदियों द्वारा बनाए गए पेंटिग्स के साथ अन्य आर्टिस्टों की पेंटिग्स को भी रखा गया था।
- जेल महानिदेशक सुधीर यादव के मुताबिक उनकी पूरी कोशिश रहती है कि कैदी जेल की चारदीवारी से बाहर निकलें और समाज की मुख्यधारा में पूरे आत्मविश्वास के साथ जुड़ें।
- इस दिशा में जेल परिसर में कई तरह के सुधारात्मक प्रयास किए गए हैं।
- कई ऐसे कैदी जो कई सालों से यहां कैद हैं उन्हें जेल से बाहर की दुनिया में ले जाया जा रहा है।

कैदियों की पेंटिंग एग्जीबिशन का उद्घाटन करने केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री डॉ महेश शर्मा पहुंचे थे। कैदियों की पेंटिंग एग्जीबिशन का उद्घाटन करने केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री डॉ महेश शर्मा पहुंचे थे।
कैदी पेंटिंग बनाते हुए। कैदी पेंटिंग बनाते हुए।