--Advertisement--

टीवी एक्ट्रेस बोलीं- समझ नहीं आता, समाज को लव मैरिज से इंकार क्यों

इसमें 24 साल के एक लड़के को 42 साल की तलाकशुदा महिला से प्यार हो जाता है। समाज इसे स्वीकार नहीं करता।

Danik Bhaskar | Feb 14, 2018, 05:19 AM IST

नई दिल्ली. हमारा समाज आज भी लव मैरेज को पूरी तरह स्वीकार नहीं कर रहा है। प्यार करने वालों की हत्या की जा रही है। यह बहुत चिंता का विषय है। समझ में नहीं आता कि लोग किसी को अपना जीवनसाथी चुनने का अधिकार क्यों नहीं देते। जाति और उम्र प्यार के बीच दीवार बन कर खड़ी है। यह कहना है कहना है टीवी एक्ट्रेस सुहासी धामी का। सुहासी मंगलवार को दिल्ली में अपने नए शो के प्रमोशन के लिए पहुंची थीं। यह शो एक ऐसे कपल की प्रेम कहानी पर आधारित है जिनकी उम्र में काफी अंतर है। इसमें 24 साल के एक लड़के को 42 साल की तलाकशुदा महिला से प्यार हो जाता है। समाज इसे स्वीकार नहीं करता। वह हैरानी जताती हैं कि प्रेम को लेकर गांवों में ही नहीं, शहरों में भी लोगों की घिसी-पिटी सोच है। उन्होंने डेल्ही भास्कर से कई मुददों पर बात की..

Q. पहले भी ऐसे विषयों पर शो बन चुके हैं। आपको लगता है कि इससे सोच बदलेगी?
A.
ये तो मैं पुरी तरह नहीं कह सकती। लेकिन एक कलाकार होने के नाते हमारा फर्ज है कि हम ऐसे विषयों को सामने लाएं। मेरे पास ऑफर आया कि आपको 42 साल की महिला का किरदार निभाना है। उसकी 15 साल की बेटी है और उसे 24 साल के लड़के से प्यार करना है, जिसे बाद में समाज से बाहर कर दिया जाता है। यह सुनने के बाद मैं थोड़ा घबराई लेकिन जब पता चला कि विषय बहुत गंभीर है तो मैंने एक कलाकार होने के नाते इसकी हां कर दी।


Q. दिल्ली की कौन सी चीज आपको प्रभावित करती है?
A.
मुझे यहां के लोगों की बिंदासियत पसंद है। लेकिन हां, यहां क्राइम बहुत होते है। इससे मुझे लगता है कि दिल्ली सेफ नहीं है। यहां लड़कियों में डर रहता है। वे घर से अकेले निकलने में घबराती हैं। मुझे लगता है कि ऐसे हालात सुधारने के लिए काम होना चाहिए। मैं चाहती हूं कि यहां भी लड़कियां मुंबई की तरह रात में टेंशन फ्री होकर घूमें।

Q. डीयू की एक स्टूडेंट के साथ बस में छेड़छाड़ की गई। क्या कहेंगी?
A.
मुझे तो यहां डर लगता है। सच कहूं तो दिल्ली में लड़कियां ही नहीं, लड़के सेफ नहीं हैं। तभी तो सरेआम अंकित सक्सेना का मर्डर हो जाता है और कोई कुछ नहीं कर पाता है। यह बेहद खराब हालात हैं।

Q. आपका फिल्म में जाने को लेकर क्या विचार है?
A. टेलीविजन में बहुत स्कोप है और यहां ज्यादा सीखने को मिलता है। आज फिल्म इंडस्ट्री की सभी बड़ी हस्तियां टीवी की ओर रुख कर रही हैं। इसीलिए मैंने फिल्मों में जाने के बारे अभी सोचा नहीं है।

Q. लव बर्ड के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर आपका क्या कहना है ?
A. यह कानून की अच्छी पहल है, समाज को भी इसे स्वीकार करना चाहिए। प्यार किसी भी उम्र, कास्ट से हो सकता है। इसे समाज में मंजूरी दी जानी चाहिए। हम 21वीं सदी में जी रहे हैं फिर सोच क्यों 15वीं सदी वाली रखें। सुप्रीम कोर्ट की टिप्प्णी एक नई दिशा दिखाती है।