--Advertisement--

जिग्नेश की रैली, लोग बोले- इससे ज्यादा भीड़ इंदौर के जलेबी की दुकान पर होती है

मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ निकाली गई इस रैली को लेकर सोशल मीडिया पर बहस का माहौल बना रहा।

Danik Bhaskar | Jan 09, 2018, 09:52 PM IST

नई दिल्ली. गुजरात के दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने मंगलवार को दिल्ली में एक युवा हुंकार रैली का आयोजन किया। इसमें कम लोगों की मौजूदगी के कारण कुछ लोगों ने इसे फ्लॉप बताया तो वहीं उनके समर्थकों ने रैली को सफल करार दिया। मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ निकाली गई इस रैली को लेकर सोशल मीडिया पर बहस का माहौल बना रहा। बीजेपी समर्थकों ने इसे 'सांपों की फुफकार रैली' भी कहा।

- दरअसल, दलित नेता जिग्नेश हाल ही में गुजरात के वडगाम से विधायक चुने गए हैं। उन्होंने कांग्रेस के सपोर्ट पर निर्दलीय चुनाव लड़ा था।
- इस रैली में कन्हैया कुमार, शेहला राशिद, उमर खालिद, सुप्रीम कोर्ट के एडवोकेट प्रशांत भूषण भी मौजूद थे।

जिग्नेश के खिलाफ दर्ज हुआ था केस
- जिग्नेश-खालिद पर भीमा-कोरेगांव इलाके में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में पुणे के विश्रामबाग पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 153(A), 505 और 117 के तहत केस दर्ज किया गया था।
- दोनों पुणे के शनिवारवाड़ा में भीमा-कोरेगांव की लड़ाई के 200 साल पूरे होने के मौके पर आयोजित 'यलगार-परिषद' में शामिल हुए थे।

- इसके बाद पुणे की एक सामाजिक कार्यकर्ता ने दोनों के खिलाफ केस दर्ज करवाया।