--Advertisement--

सरेंडर करने आ रहा था, पुलिस ने पकड़ा तो थाने में लगा ली फांसी

पॉक्सो सहित तीन मामलों में फरार चल रहे युवक दीपक ने करावल नगर थाने में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

Danik Bhaskar | Jan 17, 2018, 06:40 AM IST

नई दिल्ली. पॉक्सो सहित तीन मामलों में फरार चल रहे युवक दीपक ने करावल नगर थाने में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। युवक अपने चाचा के समझाने पर सोमवार को कड़कड़डूमा कोर्ट में सरेंडर करने जा रहा था। इस दौरान करावल नगर थाना पुलिस ने उसे कोर्ट से गिरफ्तार कर लिया। मामले में पुलिस उपायुक्त डॉ. अजीत कुमार ने तीन एएसआई और एक एसआई को सस्पेंड कर दिया है। जबकि एसएचओ की गैरमौजूदगी में थाने का काम देख रहे इंस्पेक्टर को लाइन हाजिर कर दिया गया है। पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजकर मामले की छानबीन शुरू कर दी है। परिजनों ने पुलिस वालों पर युवक की पिटाई करने का आरोप लगाया है।

पुलिस उपायुक्त ने इंस्पेक्टर को किया लाइन हाजिर
- पुलिस के अनुसार दीपक को मंगलवार सुबह कोर्ट में पेश करना था, लेकिन सुबह 10 बजे दीपक थाने के कमरे में अकेला था। इस दौरान उसने फांसी लगा कर अपनी जान दे दी। पुलिसकर्मियों ने उसे देखा और फंदे से उतार कर अस्पताल में पहुंचाया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

- इसके बाद मामले की जानकारी आला अधिकारियों और दीपक के परिजनों को दी गई। सूचना के बाद थाने पहुंचे पुलिस उपायुक्त ने थाने में आरोपी के फांसी लगाने के चलते पांच पुलिसकर्मियों को लापरवाही बरतने का दोषी मना और इंस्पेक्टर को लाइन हाजिर करने के बाद चार पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया।


सस्पेंड पुलिसकर्मी और यह थी इनकी लापरवाही
इंस्पेक्टर नरेंद्र-
एसएचओ की गैरमौजूदगी में थाने का प्रभार इनके पास था। ऐसे में थाने में होने वाली हर गतिविधि की जिम्मेदारी इनकी है।
एसआई संदीप- पीड़ित को गिरफ्तार कर अवैध रूप से कस्टडी में रखाने का आरोप।
सस्पेंड- सस्पेंड किए गए तीन एएसआई सतीश, जयबीर और रामबीर में से दो एएसआई ने आरोपी को रखने के लिए अपना कमरा दिया और एक एएसआई उस समय बतौर ड्यूटी अफसर तैनात था। उसने रोजनामचे में आरोपी की एंट्री नहीं की थी।


आगे की कार्रवाई के लिए दिए मजिस्ट्रेट जांच के आदेश
- मामले में दोषी पाए गए पुलिसकर्मियों पर सख्त कार्रवाई की गई है। जबकि आगे की कार्रवाई के लिए मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए गए हैं। - डॉ. अजित कुमार सिंगला, पुलिस उपायुक्त, उत्तर-पूर्वी दिल्ली