Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» Water Supply May Be Closed In Lutyens Zone

राष्ट्रपति भवन और पीएम हाउस समेत पूरे लुटियंस जोन में बंद हो सकती है वाटर सप्लाई

जल बोर्ड की एनजीटी में याचिका | हरियाणा से आ रहा जहरीला पानी

Bhaskar News | Last Modified - Feb 13, 2018, 08:15 AM IST

  • राष्ट्रपति भवन और पीएम हाउस समेत पूरे लुटियंस जोन में बंद हो सकती है वाटर सप्लाई
    +1और स्लाइड देखें

    नई दिल्ली.राष्ट्रपति भवन, पीएम हाउस और लुटियंस जोन समेत पूरे नई दिल्ली नगर पालिका परिषद क्षेत्र (चीफ जस्टिस समेत अन्य वीवीआईपी इसी क्षेत्र में रहते हैं) में मंगलवार से जलापूर्ति बाधित रहेगी। कुछ दिन में यह ठप भी हो सकती है। दिल्ली जल बोर्ड ने सोमवार को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) में याचिका दायर कर यह बात कही।

    बोर्ड के अनुसार हरियाणा से आने वाले (रोजाना 683 क्यूसेक) पानी में अमोनिया तय मानकों (0.5 पीपीएम) से पांच गुना ज्यादा (2.8 पीपीएम) है। इस पर हरियाणा सरकार ने कहा कि पानी साफ करके देने की बात नहीं हुई थी। यमुना का बहाव धीमा होने के कारण अमोनिया का स्तर बढ़ा हुआ है। एनजीटी के जस्टिस जावेद रहीम व एक्सपर्ट मेंबर डॉ. नागिन नंदा की बेंच ने हरियाणा सरकार को इस मामले में लिखित जवाब देने का निर्देश दिया है। मामले की सुनवाई 13 फरवरी को होगी।

    जल बोर्ड ने कहा - 43 दिन से आ रहा कैंसरकारक पानी
    दिल्ली जल बोर्ड के वकील प्रयाग त्रिपाठी व सुमित पुष्करणा ने एनजीटी को बताया कि ट्रीटमेंट प्लांट 0.8 पीपीएम से अधिक अमोनिया वाले पानी को साफ नहीं कर सकते। यह पानी कैंसरकारक है। लगातार 43 दिन से ऐसा पानी आ रहा है। पहले 1 से 2 दिन ऐसा पानी आता था। अभी तक हमने दिल्ली के ईस्ट, नार्थ, वेस्ट आदि डिस्ट्रिक में दिल्ली के पानी की सप्लाई में कटौती कर किसी तरह स्थिति काबू में रखी है लेकिन अब यह कंट्रोल से बाहर है। हमने नोटिफिकेशन जारी कर दिया है कि 13 फरवरी से साउथ दिल्ली, नई दिल्ली नगर पालिका परिषद के एरिया में पानी की सप्लाई में कटौती होगी और आगे ठप होने की संभावना है। जल बोर्ड का कहना है कि हरियाणा से गाद भरा काला और बदबूदार पानी आ रहा है। इसे हम अपनी रोजाना पानी सप्लाई में जोड़ रहे हैं, जबकि साफ पानी की बात तय हुई थी।

    पानीपत से गिरता है कचरा
    जल बोर्ड ने कहा कि हरियाणा मुनक नहर से जो पानी दिल्ली को भेजता है। यह पानी ताजेवाला हथिनी कुंड बैराज तक तो साफ होता है लेकिन उसके बाद उसमें पानीपत से औद्योगिक कचरा डाला जा रहा है।

    आखिर क्यों खतरनाक है यमुना का पानी
    वेस्ट दिल्ली, नार्थ दिल्ली, सेंट्रल दिल्ली, साउथ दिल्ली के कुछ क्षेत्रों के अलावा दिल्ली कैंट और एनडीएमसी क्षेत्र के लोगों से दिल्ली जल बोर्ड ने अपील की है कि वे पर्याप्त मात्रा में जरूरत के हिसाब से पानी रखे।

    पानी में अमोनिया का स्तर 0.5 पीपीएम होना चाहिए। 0.8 पीपीएम होने पर प्लांट में भी साफ नहीं हो सकता, क्योंकि यह पानी कैंसरकारक है

    चंडीगढ़ में सीईओ की बैठक
    जल बोर्ड के सीईओ सोमवार को चंडीगढ़ में हरियाणा के संबंधित अधिकारियों से इस मुद्दे पर बैठक कर रहे हैं। पिछले एक माह से बैठकों का दौर जारी है। लेकिन हालत नहीं सुधरने के बाद अब यह फैसला लिया है।

    दिल्ली में पानी के स्रोत
    यमुना नदी, गंगा नदी, मुनक नहर, भाखड़ा स्टोरेज, 4 रिसाइकलिंग प्लांट। 40 मिलियन गैलन पान रोज पानी दिया जाता है।
    सरकार के प्रयास- पानी बचाने के लिए दिल्ली सरकार ने वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाने पर पानी के बिल में 10 प्रतिशत छूट तय की है।
    पुराने जल स्रोतों को पुनर्जीवित करने के लिए शहर में कई प्रोजेक्ट चलाए जा रहे हैं।
    रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों की सफाई करने के लिए रिसाइकिल पानी दिया जा रहा है।
    अभी जल बोर्ड के पास 125 क्यूसेक पानी की कमी, यानि रोजाना 70 से 80 मिलियन गैलन पानी प्रतिदिन

    पानी का बहाव स्लो
    हरियाणा सरकार के वकील अनिल ग्रोवर ने एनजीटी में मौखिक रूप से कहा कि पानी साफ करके देना दिल्ली जल बोर्ड का काम है, हमारा नहीं। यह तो तय नहीं हुआ था कि साफ पानी देंगे।

    कम प्रेशर से मिलेगा पानी
    हरियाणा से पानी कम सप्लाई होने और यमुना नदी में बढ़ते प्रदूषण के कारण पानी सप्लाई प्रभावित हो रहा है। जल बोर्ड ने पानी मुहैया करवाने के लिए कम प्रेशर से पानी सप्लाई करने का निर्णय लिया है। जिन क्षेत्रों में बोर्ड दिन में तीन बार पानी सप्लाई करता है वहां एक या दो बार दिया जाएगा। जहां सुबह-शाम पानी दिया जाता था, वहां एक बार दिया जाएगा। जहां 1 बार पानी दिया जाता था, उन क्षेत्रों में कम प्रेशर से सप्लाई होगा।

    सुप्रीम कोर्ट का है आदेश
    सुप्रीम कोर्ट पानी की सप्लाई ठप न हो, इसके लिए आदेश दे रखा है कि वजीराबाद स्थित दिल्ली जल बोर्ड के तीनों प्लांट में पानी की कमी न आए। अगर इन प्लांट में कमी आती है तो लुटियंस जोन में सप्लाई प्रभावित होती है।

    जल में जीवाणु का नाश करने को 15 ली. में 2 क्लोरीन की गोलियां (500मिलीग्राम) या हर 1000 ली. पानी में 3 ग्राम ब्लीचिंग पावडर का घोला जाता है

    पानी के लिए इन नंबरों पर फोन करें
    जल बोर्ड ने लोगों को पानी किल्लत से बचाने को टैंकर उपलब्ध करवाएगा।
    सेंट्रल कंट्रोल रूम- 1916, 23527679, 23513073, 1800117118
    ग्रेटर कैलाश 29234746
    आरकेपुरम 26193218
    पश्चिम विहार 25281197
    जनकपुरी डी ब्लॉक 28521123
    शिवाजी एन्क्लेव 25193140
    अशोक विहार 27308015
    पंजाबी बाग 25223658
    केवल पार्क 27681578
    द्वारका 65290868

  • राष्ट्रपति भवन और पीएम हाउस समेत पूरे लुटियंस जोन में बंद हो सकती है वाटर सप्लाई
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×