Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» Wodeyar Royal Family Mysore Relief Of 400 Year Old Curse

400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी

वडियार राजवंश की बहु तृषिका सिंह ने एक बच्चे को जन्म दिया है।

DainikBhaskar.Com | Last Modified - Dec 08, 2017, 12:08 AM IST

  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    राजा यदुवीर वाडियार की वेडिंग फोटो।

    नई दिल्ली.मैसूर का वाडियार राजवंश बीते चार सदियों से एक श्राप से जूझ रहा था। खुद वाडियार राजघराना मानता है कि एक श्राप 400 साल से उनका पीछा कर रहा था, जिस कारण उनके वंश में संतान पैदा नहीं हो रही थी। बता दें- मैसूर के 27वें राजा यदुवीर की वेडिंग 27 जून 2016 को डूंगरपुर की राजकुमारी तृषिका सिंह से हुई थी। तृषिका सिंह ने हाल ही में बच्चे को जन्म दिया है। ये श्राप था मैसूर राजघराने के साथ...

    - दिवंगत महाराज श्रीकांतदत्त नरसिम्हराज वाडियार और रानी प्रमोदा देवी की अपनी कोई संतान नहीं थी। इसलिए रानी ने अपने पति की बड़ी बहन के बेटे यदुवीर को गोद लिया और वाडियार राजघराने का वारिस बना दिया।
    - यह घराना राज परंपरा आगे बढ़ाने के लिए 400 सालों से फैमिली के किसी दूसरे मेंबर के पुत्र को गोद लेते आया है।
    - कहा जाता है कि 1612 में साउथ के सबसे पावरफुल विजयनगर साम्राज्य के पतन के बाद वाडियार राजा के आदेश पर विजयनगर की संपत्ति लूटी गई थी।

    - उस समय विजयनगर की तत्कालीन महारानी अलमेलम्मा हार के बाद एकांतवास में थीं, लेकिन उनके पास काफी सोने, चांदी और हीरे-जवाहरात थे।
    - वाडियार ने महारानी के पास दूत भेजा कि उनके गहने अब वाडियार साम्राज्य की शाही संपत्ति का हिस्सा हैं इसलिए उन्हें दे दें।
    - अलमेलम्मा ने जब गहने देने से इनकार किया तो शाही फौज ने जबरन खजाने पर कब्जे की कोशिश की।
    - इससे दुखी होकर अलमेलम्मा ने कथित तौर पर श्राप दिया था कि जिस तरह तुम लोगों ने मेरा घर उजाड़ा है उसी तरह तुम्हारा राजवंश संतानविहीन हो जाए और इस वंश की गोद हमेशा सूनी रहे।

    - श्राप देने के बाद अलमेलम्मा ने कावेरी नदी में छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली थी।

    महल में होती है इस मूर्ति की पूजा

    - आज भी महल में उस श्राप से बचने के लिए अलामेलम्मा की मूर्ति की देवी के रूप में पूजा होती है, लेकिन इससे कोई खास फर्क पड़ा हो, ऐसा नहीं लगता।
    - राजा वडियार के इकलौते बेटे की मौत हो गई थी। तब से हर एक पीढ़ी बाद मैसूर के राजपरिवार को उत्तराधिकारी के रूप में किसी को गोद लेना पड़ता है।
    - राजपरिवार उत्तराधिकारी के रूप में जिसे गोद लेता है वह हमेशा परिवार का ही कोई व्यक्ति होता है।

  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    वडियार राजवंश की बहू तृषिका सिंह बच्चे के साथ।
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    राजमाता प्रमोदा देवी बच्चे के साथ।
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    यदुवीर वाडियार के पेज से शेयर किया गया पत्र।
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    मैसूर के राजा की शादी का जश्न 4 दिनों तक चला था।
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    राजा यदुवीर वाडियार और तृषिका सिंह।
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    27वें राजा यदुवीर वाडियार की वेडिंग 27 जून 2016 को हुई थी।
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    शादी के दौरान राजा यदुवीर और तृषिका सिंह।
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    शादी की रस्मों के लिए 550 फैमिली गेस्ट को बुलाया गया था।
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    मैसूर के राजा
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    मैसूर के राजा रस्म निभाते हुए।
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    राजा की शादी में शादी में फ्रांस, जर्मनी, स्विट्जरलैंड और अमेरिका से भी सेलिब्रिटी, गेस्ट्स वेडिंग में शामिल हुए थे।
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    शादी के दौरान राजमाता के साथ।
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    राजा यदुवीर और तृषिका सिंह।
  • 400 साल बाद इस राजघराने को मिली श्राप से मुक्ति, महल में गूंजी किलकारी
    +14और स्लाइड देखें
    इस रॉयल फैमिली ने मैसूर पैलेस और होटल अंबा विलास पैलेस को ही शादी का वेन्यू बनाया था।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Delhi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Wodeyar Royal Family Mysore Relief Of 400 Year Old Curse
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×