--Advertisement--

17 साल की इनोवेटर से 99 की योगा टीचर तक, इन महिलाओं ने अलग तरह के पेशे में कर दिखाया बेहतर

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर भास्कर बता रहे हैं देशभर की कुछ चुनिंदा ऐसी महिलाओं के बारे में।

Danik Bhaskar | Mar 08, 2018, 04:37 AM IST
नानम्मल के अपने 5 बच्चे, 12 पोते-प नानम्मल के अपने 5 बच्चे, 12 पोते-प

नई दिल्ली. 99 साल की नानम्मल की ऊर्जा और योगमुद्राएं देखकर आप दांतों तले उंगलियां दबा लेंगे। उनके अपने 5 बच्चे, 12 पोते-पोती और 11 पड़पोते-पोती सभी योग करते हैं और योग सिखाते हैं। वहीं 21 साल की अवनी चतुर्वेदी देश की पहली लड़ाकू जेट उड़ाकर चर्चा में आ गईं। ऐसी ही कुछ कहानी है भुसावल की रहने वाली 17 साल की मसिरा बी की। जिसने इस उम्र में 21 आविष्कार कर दिए हैं। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर भास्कर बता रहा हैं देशभर की कुछ चुनिंदा ऐसी महिलाओं के बारे में जिन्होंने अलग तरह के पेशे में कर दिखाया बेहतर।

99 की उम्र में इतनी फिट हैं, रोज लेती हैं 100 लोगों की योग क्लास

99 साल की नानम्मल भास्कर से बातचीत में वे बताती हैं कि उन्होंने अपने दादा और नाना से तीन वर्ष की उम्र में योग सीखना शुरू कर दिया था। अभी वे अपने बेटे बालाकृष्णन के साथ रहती हैं और उनके घर पर 100 से ज्यादा लोग योग सीखने आते हैं। 30 सदस्यों के परिवार की वे मुखिया हैं। जीवन में कभी भी शकर का स्वाद नहीं लिया। कहती हैं, गांधीजी ने इसे सफेद जहर कहा था। न ही कॉफी और चाय का स्वाद पता है। वे सूकू कॉफी पीती हैं। रोस्टेड धनिए, जीरा और अदरक को मिलाकर इसे तैयार किया जाता है। कॉर्न सूप, हरी सब्जियां और फल उनका मुख्य आहार है। जीवन में कभी भी अस्पताल इलाज के लिए नहीं गई हूं।

किचन से हुई थी योग करने की शुरुआत

वे बताती हैं कि 19 की उम्र में शादी हो गई थी। उस समय मैं किचन में ही सोती थी। जल्दी उठने की आदत के कारण किचन में योग करने लगती थी। एक दिन मेरी सास ने मेरे पति से कहा कि ये किचन में क्यों खेलती है। पति वेंकटासामी ने बताया कि ये खेल नहीं बल्कि योग है। नानम्मल की सास को नाभी के हिस्से में दर्द रहता था। नानम्मल ने योग से उन्हें ठीक कर दिया। फिर क्या था औरों का इलाज भी शुरू कर दिया।

रिपोर्ट : जेसी शिबू, कोयम्बटूर।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें- 12 महिलाओं की ऐसी ही और सच्ची कहानियां...