--Advertisement--

MP बोलीं-राजधानी के फर्स्ट एसी में हमारा सामान चोरी हो जाता है तो आम लोगों का क्या होगा? रेल मंत्री बोले- ये राज्य पुलिस की जिम्मेदारी

एक्सप्रेस के फ़र्स्ट क्लास एसी कोच से दो महिला सांसदों का सामान चोरी हो जाता है, तो आम लोगों का क्या हाल होगा।

Danik Bhaskar | Jan 06, 2018, 06:02 AM IST
बीजू जनता दल (बीजेडी) सांसद सरोजिनी हेम्ब्रम ने ट्रेन में सुरक्षा को लेकर राज्यसभा में सवाल पूछा। बीजू जनता दल (बीजेडी) सांसद सरोजिनी हेम्ब्रम ने ट्रेन में सुरक्षा को लेकर राज्यसभा में सवाल पूछा।

नई दिल्ली. दिल्ली से कोलकाता जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस के फर्स्ट क्लास एसी कोच से 2 महिला सांसदों का सामान चोरी हो जाता है, तो आम लोगों का क्या हाल होगा? शुक्रवार को राज्यसभा में सीपीएम सांसद झरना दास और बीजेडी सांसद सरोजिनी हेम्ब्रम ने ये बात कही। उन्होंने रेल मंत्री पीयूष गोयल से इसका जवाब मांगा। इस पर गोयल ने कहा, "सुरक्षा राज्य का विषय है। रेलवे पुलिस की जिम्मेदारी केवल रेलवे संपत्ति और यात्रियों की सुरक्षा करना है। चोरी आदि के मामलों में रेलवे पुलिस राज्य पुलिस की मदद करती है। राज्य पुलिस ही चोरी आदि के मामलों में केस दर्ज कर आगे की कार्रवाई करती है।"

रिपोर्ट दर्ज कराई, लेकिन नहीं हुई कोई कार्रवाई

- झरना दास ने कहा कि दिल्ली से कोलकाता जाते हुए रास्ते में उनका सामान चोरी कर लिया गया।

- उन्होंने कोलकाता जाकर इसकी रिपोर्ट लिखवाई। इसके बाद वे त्रिपुरा गईं। रिपोर्ट दर्ज कराने के बावजूद अब तक सामान का कोई सुराग नहीं मिला।

- उन्होंने सरकार से पूछा कि ट्रेनों में यात्रियों और उनके सामान की सुरक्षा के लिए क्या इंतजाम किए जा रहे हैं?

- सपा के रामगोपाल यादव ने कहा कि ऐसा देखने में आ रहा है कि दिल्ली-कानपुर के बीच जहरखुरानी के कुछ संगठित गिरोह चलते हैं, जो लोगों को खाने के सामान में जहरीला पदार्थ मिलाकर लूट लेते हैं।

- उन्होंने कहा कि सरकार को ट्रेनों में गैर-कानूनी तरीके से चलने वाले सामान बेचने वालों पर भी पाबंदी लगनी चाहिए।

...फिर जीआरपी और आरपीएफ की भर्ती क्यों?
- दिल्ली पुलिस के एक आला अफसर ने नाम नहीं छापने के शर्त पर बताया कि हम मानते हैं कि चोर का पता लगाने का काम राज्य पुलिस का है। मगर अभी तक अपराध की रोकथाम करना, अपराधियों का पता लगाना, मामलों की जांच करना और रेलवे में कानून-व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी जीआरपी की है, इसीलिए उनकी भर्ती की गई है। वे कहां रहते हैं?

- वहीं, आरपीएफ के एक अफसर ने बताया कि आरपीएफ चोरों के खिलाफ कैम्पेन चला रही है। 2017 में 150 से ज्यादा चोरों को जीआरपी के हवाले किया गया है। 2016 में चोरी के 1380 मामले दर्ज हुए थे, 2017 में यह संख्या महज 630 रह गई, जो करीब आधे से भी कम है।

सीपीएम सांसद झरना दास ने बताया कि दिल्ली से कोलकाता जाते हुए रास्ते में उनका सामान चोरी कर लिया गया। सीपीएम सांसद झरना दास ने बताया कि दिल्ली से कोलकाता जाते हुए रास्ते में उनका सामान चोरी कर लिया गया।
रेलवे मंत्री महिला सांसदो के सवालों का जवाब देते हुए बोले ये राज्य पुलिस की जिम्मेदारी है। रेलवे मंत्री महिला सांसदो के सवालों का जवाब देते हुए बोले ये राज्य पुलिस की जिम्मेदारी है।