Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» गंदे नोट और सिक्के सबसे ज्यादा बुजुर्गों-बच्चों की बिगाड़ रहे सेहत

गंदे नोट और सिक्के सबसे ज्यादा बुजुर्गों-बच्चों की बिगाड़ रहे सेहत

गंदे नोट और सिक्कों के कारण बच्चे, बुजुर्ग और गर्भवती महिलाओं की सेहत को ज्यादा नुकसान हो रहा है। ऐसा इसलिए...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:05 AM IST

गंदे नोट और सिक्के सबसे ज्यादा बुजुर्गों-बच्चों की बिगाड़ रहे सेहत
गंदे नोट और सिक्कों के कारण बच्चे, बुजुर्ग और गर्भवती महिलाओं की सेहत को ज्यादा नुकसान हो रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि इनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है। फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ने यह दावा किया है। संस्था के मुताबिक इस वजह से फूड प्वाइजनिंग, स्किन और पेट में इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। संस्था के मुताबिक सड़क किनारे फूड वेंडर खाना परोसने के साथ ही पैसे का लेनदेन भी करते हैं। पैसे रखने वाली जगह पर गंदगी रहती है। उन्होंने सलाह दी है कि फूड वेंडर्स को ग्लव्स पहनकर खाना परोसना चाहिए। संभव हो तो पैसे के लेनदेन के लिए अलग व्यक्ति होना चाहिए।

नोट गंदा है तो संभलें...दुनिया में हुई रिसर्च बताती हैं कि कितने खतरनाक साबित होते हैं ये

1. हेल्थ कमिश्नर ऑफ न्यूयॉर्क का शोध

इन्होंने कुछ नोटों पर रिसर्च की। कुछ पर उन्हें 1 लाख 35 हजार तक कीटाणु मिले जबकि कुछ पर 1 लाख 26 हजार तक।

2. बोश एंड स्टेन रिसर्च

इसमें पाया गया था कि 1997 में दक्षिण अफ्रीकी बैंक के 90% नोट बैक्टीरिया या फंगस के कारण कंटेमिनेटेड थे।

3. आरएसआईसी, भारत

रीजनल सोफेस्टिकेटेड इंस्ट्रूमेंटेशन सेंटर की रिसर्च के दौरान नोट पर ऐसे कीटाणु पाए गए जो टीबी, मैनिन्जाइटिस, टॉन्सिल्स, पेप्टिक अल्सर, थ्रोट इंफेक्शन जैसी बीमारियों के कारण बन सकते थे।

4. सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल प्रिवेंशन, अमेरिका

संस्था ने पाया कि 36 हजार अमेरिकी हर साल फ्लू संबंधी बीमारी से मर जाते हैं। इनमें से 10% को नोट से फ्लू हुआ था।

5. लंदन में रिसर्च

लंदन में वर्ष 2000 में 5000 बैंक नोटों पर की गई एक रिसर्च में 99% नोटों पर कोकीन के अंश मिले थे। ऐसा अनुमान है कि ब्रिटेन में हर साल 2 लाख हेपेटाइटिस सी के केस आते हैं। इनमें से पांच हजार मामलों की वजह गंदे नोट होते हैं।

नोट पर ये 5 बैक्टीरिया आपके दुश्मन

1. ई कोलाई : डायरिया, पेट दर्द, जी मिचलाना, उल्टी, किडनी फेलियोर।

2. स्टेफाइलोकोकस ऑरियस : स्किन इंफेक्शन से लेकर जानलेवा बीमारी तक। शरीर में दाखिल हो जाए तो ब्रेन, फेफड़े, बोन मैरो पर असर डाल सकता है।

3. सल्मोनेला एंट्रीटाइडिस: सल्मोनैलोसिस। इस बीमारी के लक्षण हैं डायरिया, पेट दर्द, बुखाया और उल्टी।

4. स्ट्रेप्टोकोकस : थ्रोट या त्वचा से संबंधित हल्का इंफेक्शन।

5. प्रोटियस : यूरिनरी इंफेक्शन, किडनी में सूजन।

भारत में रिसर्च

100% नोट कंटेमिनेटड

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ डेंटल क्लीनिक ने 5, 10, 20, 50 और 100 रुपए के 25 नोटों को इकट्‌ठा किया। इन्हें सब्जीमंडी, घर, डेयरी, भिखारी, बैंक, पेट्रोल पंप जैसी जगहों से लिया गया। अध्ययन में पाया गया कि 100% नोट कंटेमिनेटेड थे।

नोट और सिक्कों पर माइक्रोबायोलॉजिकल कंटामिनेशन (गंदगी) होता है। इसकी वजह से कई तरह की बीमारियां हो जाती हैं। लिहाजा लोगों को बीमारियों से बचाने के लिए ऐसी कवायद शुरू की गई है। लोगों को बताया जाएगा कि नोट पर गंदगी कितनी हानिकारक हो सकती है। - पवन कुमार अग्रवाल, मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ), फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×