• Home
  • Union Territory News
  • Delhi News
  • News
  • भाजपा: राहुल का लोकतंत्र में भरोसा नहीं कांग्रेस: डेमोक्रेसी खत्म कर रही है भाजपा
--Advertisement--

भाजपा: राहुल का लोकतंत्र में भरोसा नहीं कांग्रेस: डेमोक्रेसी खत्म कर रही है भाजपा

संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण शुरू हुए 7 दिन हो गए। पर संसद में कामकाज पूरी तरह ठप पड़ा है। मंगलवार को भी हंगामे के...

Danik Bhaskar | Mar 14, 2018, 02:10 AM IST
संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण शुरू हुए 7 दिन हो गए। पर संसद में कामकाज पूरी तरह ठप पड़ा है। मंगलवार को भी हंगामे के चलते लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित कर दी गई। कांग्रेस समेत विपक्षी पार्टियां पीएनबी घोटाले पर पीएम नरेंद्र मोदी से सदन में बयान देने की मांग कर रही हैं। टीडीपी आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग कर रही है। संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने मंगलवार को कहा कि सरकार ने सदन की कार्यसूची में सभी महत्वपूर्ण विषयों को शामिल किया है। सभी सांसदों के लिए हमने व्हिप भी जारी किया है। हम पार्टियों से आग्रह करते हैं कि सदन की कार्यवाही में हिस्सा लें और सार्थक बहस करें। हमने कांग्रेस से सदन चलाने का अनुरोध भी किया है। पर लगता है कि सोनिया और राहुल गांधी का लोकतंत्र पर भरोसा नहीं है। वे संसद के बाहर तो लोकतंत्र पर खूब बातें करते हैं, पर सदन में इस पर अमल नहीं करते।

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने पलटवार करते हुए कहा है कि भाजपा गणतंत्र को खत्म कर रही है। वो (भाजपा) डेमोक्रेसी को खत्म करने के लिए क्या-क्या करना चाहिए वो कदम उठा रहे हैं और दूसरों को पाठ पढ़ा रहे हैं कि कांग्रेस चर्चा नहीं चाहती।

डिनर डिप्लोमेसी |2019 के लिए 20 पार्टियों के नेता एक साथ आए

नई दिल्ली| कांग्रेस ने भाजपा के खिलाफ विपक्ष को एकजुट करने के लिए डिनर डिप्लोमेसी का सहारा लिया। इसमें 20 पार्टियों के नेता शामिल हुए। यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने मंगलवार को गठबंधन में शामिल पार्टियों के नेताओं को डिनर पर आमंत्रित किया। इसमें एनसीपी चीफ शरद पवार, बीएसपी से सतीश मिश्रा, आरजेडी से तेजस्वी यादव, हम पार्टी से जीतन राम मांझी, एनसी के उमर अब्दुल्ला, सपा से रामगोपाल यादव, डीएमके से कनिमोझी, जेवीएम से बाबूलाल मरांडी, शरद यादव आदि ने सिरकत की। डिनर में इन नेताओं ने 2019 चुनाव के लिए रणनीति पर विचार किया।

बिल लोकसभा में 28 विधेयक पेंडिंग

संसद में 67 बिल पेंडिंग हैं। लोकसभा में 28 में से 21 बिल इस सत्र के लिए पेंडिंग हैं। बाकी 7 बिल स्थायी समितियों या संयुक्त समितियों के पास हैं। वहीं, राज्यसभा में 39 बिल पेंडिंग हैं। इन 39 में से 12 बिल ऐसे हैं जो लोकसभा से पारित भी हो चुके हैं। लोकसभा के पास एक भी ऐसा बिल नहीं है जो राज्यसभा में पारित हो चुका है और उसे निचले सदन की मंजूरी का इंतजार है।

वजह 8 पार्टियों का 6 मुद्दों पर हंगामा

कांग्रेस, टीडीपी, एआईएडीएमके, वाईएसआईआर कांग्रेस, आप, शिवसेना, तृणमूल कांग्रेस, सीपीएम आदि दलों के हंगामे के कारण संसद का कामकाज ठप है। इन पार्टियों के 6 मुद्दे प्रमुख हैं। इनमें बैंक घोटाले, सीलिंग, कावेरी बोर्ड प्रबंधन का गठन, आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा, मूर्तियों को तोड़े जाने और मराठी भाषा को पारम्परिक भाषा का दर्जा दिए जाने के मुद्दे शामिल हैं।

डिनर में ये दल शामिल हुए

कांग्रेस, सपा, बीएसपी, टीएमसी, सीपीआईएम, सीपीआई, डीएमके, जेवीएम, जेएमएम, हम, आरजेडी, जेडीएस, केरल कांग्रेस, इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग, आरएसपी, एनसीपी, नेशनल कांफ्रेंस, एआईयूडीएफ, केसीआर शामिल हुईं।