Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» कहीं फेल होने के डर से, कहीं एक कक्षा में दूसरी बार फेल होने पर की खुदकुशी

कहीं फेल होने के डर से, कहीं एक कक्षा में दूसरी बार फेल होने पर की खुदकुशी

मयूर विहार के एल्कॉन पब्लिक स्कूल की छात्रा इकिशा शाह के बाद फिर परीक्षा परिणाम को लेकर परेशान 9वीं की दो छात्राओं...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:10 AM IST

मयूर विहार के एल्कॉन पब्लिक स्कूल की छात्रा इकिशा शाह के बाद फिर परीक्षा परिणाम को लेकर परेशान 9वीं की दो छात्राओं ने फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। पहला मामला हर्ष विहार इलाके का है। इसमें छात्रा को यह पता ही नहीं था कि वह पास है या फेल। इसे लेकर वह काफी परेशान थी और आखिरकार उसने फांसी लगा ली। दूसरा मामला अमन विहार इलाके का है, जहां एक ही कक्षा में दूसरी बार फेल होने से परेशान होकर छात्रा ने खुदकुशी कर ली।

दोनों मामलों में परिजनों से पूछताछ कर रही पुलिस

छात्रा रिजल्ट लेने गई तो टीचर ने बताया ही नहीं कि पास है या फेल

मामला हर्ष विहार इलाके का है। यहां रिजल्ट लेने स्कूल गई छात्रा ने घर आकर फांसी लगा ली। नाबालिग छात्रा (17) की पहचान आशा के रूप में हुई है। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद उसके शव को परिजनों को सौंप दिया। कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। पुलिस परिजनों से पूछताछ कर मामले की जांच कर रही है। परिजनों को आशंका है कि आशा शायद फेल हो गई होगी, जिसके चलते उसने खुदकुशी कर ली। पुलिस के अनुसार, आशा परिवार के साथ बुद्ध विहार मंडोली में रहती थी। परिवार में पिता राजे, मां शीला और दो भाई हैं। आशा इलाके के स्कूल में 9वीं की छात्रा थी। शनिवार सुबह वह अपना रिजल्ट लेने स्कूल गई थी। लेकिन महिला टीचर ने रिजल्ट तो नहीं दिया, लेकिन मौखिक बता दिया। इससे आशा को स्पष्ट नहीं हो पाया कि वह फेल हुई है या पास। परिजनों के मुताबिक, स्कूल से लौटने के बाद से वह उदास थी। रविवार सुबह पता चला कि उसने तीसरी मंजिल पर चुन्नी के सहारे पंखे से लटककर फांसी लगा ली है। परिजनों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस फंदे से उतारकर आशा को अस्पताल ले गई, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

केस





1

परिजनों ने लगाई डांट तो कमरे में चली गई, फिर बाहर नहीं निकली

मामला अमन विहार इलाके के इंद्र एंक्लेव का है। यहां 9वीं कक्षा में दूसरी बार फेल होने पर छात्रा आरती ने शनिवार शाम फांसी लगा ली। कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद आरती के शव को उसके परिजनों को सौंप दिया। पुलिस के अनुसार, आरती परिवार के साथ इंद्र एंक्लेव में रहती थी। उसके पिता राजकिशोर जॉब करते हैं। आरती इलाके के सर्वोदय कन्या विद्यालय में 9वीं कक्षा की छात्रा थी। शनिवार को उसका रिजल्ट आया था, जिसमें वह फेल हो गई थी। आरती पहले भी 9वीं में फेल हो गई थी। तभी वह काफी दुखी रहती थी एक ही कक्षा में दूसरी बार फेल होने पर परिजनों ने उसे डांट फटकार लगाई थी। इससे दुखी होकर वह अपने कमरे में चली गई और फिर बाहर नहीं निकली। काफी समय बीत जाने के बाद जब परिजनों ने कमरे का दरवाजा खोलने के लिए कई बार उसे आवाज लगाई। लेकिन दरवाजा नहीं खुला। तब परिजनों ने दरवाजा तोड़कर अंदर गए और वहां देखा कि आरती पंखे से लटकी हुई है। परिजनों ने युवती को तुरंत फंदे से उतारकर उसे फौरन संजय गांधी अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

केस





2

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×