--Advertisement--

अमेरिका से अपने घर वापस आएगी एक हजार साल पुरानी ‘अप्सरा’

News - भारत से चोरी हुई धरोहरों को स्वदेश लाने की कड़ी में ‘अप्सरा’ का नाम भी जुड़ने वाला है। राजस्थान के बाड़ौली के एक शिव...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 02:10 AM IST
अमेरिका से अपने घर वापस आएगी एक हजार साल पुरानी ‘अप्सरा’
भारत से चोरी हुई धरोहरों को स्वदेश लाने की कड़ी में ‘अप्सरा’ का नाम भी जुड़ने वाला है। राजस्थान के बाड़ौली के एक शिव मंदिर से 1998 के आसपास चोरी हुई अप्सरा की मूर्ति 10वीं शताब्दी की मूर्ति है। अमेरिकी संग्रहालय ने इसे लौटाने के लिए भारतीय दूतावास से संपर्क किया है। अब इस मूर्ति की जांच के लिए भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के विशेषज्ञ वहां जाएंगे और उसे स्वदेश लाएंगे।

वहीं, बाड़ौली के इसी शिव मंदिर से चोरी हुई और लंदन के संग्रहालय में रखी नटराज की मूर्ति की भी जांच पूरी हो चुकी है। इसे भी जल्दी ही वापस लाया जाएगा। अधिकारियों के मुताबिक देश से कितनी मूर्तियां चोरी कर विदेश गई हैं इसका कोई रिकॉर्ड नहीं है। ज्यादातर स्थानों पर तो चोरी की रिपोर्ट ही दर्ज नहीं कराई गई। अंतरराष्ट्रीय मूर्ति तस्कर सुभाष कपूर से पूछताछ के बाद कुछ मूर्तियों का पता लगा, जिसके बाद केंद्र सरकार ने उन्हें वापस लाने की कवायद शुरू की। इन दिनों भारतीय मूल का अमेरिकी नागरिक सुभाष कपूर चेन्नई की जेल में है। उससे पूछताछ के दौरान कई देशों में भेजी गईं मूर्तियों के बारे में पता चला। एंटीक्यूटी को लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी समझौते हुए जिसके अनुसार चोरी की गई मूर्तियों को उनके मूल देश भेजा जाएगा। हालांकि इस समझौते पर कई देशों ने हस्ताक्षर नहीं किए हैं। लेकिन जिन देशों के साथ समझौते हैं वहां से एंटीक्यूटी लाई जा रही हैं।

20 साल पहले राजस्थान के बाड़ौली से चोरी हुई थी

वर्ष 2010 से 2014 के बीच ‘कल्चरल प्रॉपर्टी’ की चोरी के चार हजार से ज्यादा केस दर्ज

लॉस एंजिलिस काउंटी म्यूजियम ऑफ आर्ट्स में रखी अप्सरा की मूर्ति।

नटराज की मूर्ति वापस लाने में हो रही है देरी

एएसआई के प्रवक्ता डीएन डिमरी ने बताया कि 20 साल पहले बाड़ौली से चोरी हुई मूर्ति नटराज को वहां के संग्रहालय में चल रहे आयोजन के कारण रोका गया था। इस आयोजन के लिए उन्होंने छह महीने के लिए मूर्ति को संग्रहालय में रखने का अनुरोध किया था। लेकिन अब आयोजन खत्म हो चुका है, उसे लाने की प्रक्रिया भी तेज कर दी जाएगी।

16 साल में 101 प्राचीन वस्तुओं की चोरी

संस्कृति मंत्रालय के अनुसार, वर्ष 2000 से 2016 के बीच देश के करीब 3650 संरक्षित स्मारकों से 101 प्राचीन वस्तुओं को चुरा लिया गया। ये सिर्फ वो चोरियां है जो रिकॉर्ड में दर्ज हैं। मगर देश के पांच हजार अन्य स्मारक जो संरक्षित सूची में नहीं हैं। यहां का कोई लेखाजोखा सरकार के पास नहीं है। इसके अलावा, 2010 से 2014 के बीच ‘कल्चरल प्रॉपर्टी’ की चोरी के 4,115 केस दर्ज किए गए।

ब्रह्मा ब्रह्माणी

तीन साल में 27 मूर्तियां लाई गईं, 11 मूर्ति तमिलनाडु से हैं

संस्कृति मंत्रालय के अनुसार साल 2014-17 तक 27 बेशकीमती धरोहरें भारत वापस लाईं जा चुकी हैं। इनमें सबसे ज्यादा 11 मूर्तियां तमिलनाडु से हैं। इसके अलावा अन्य ऐतिहासिक मूर्तियों में अमेरिका से लाई गई सैंडस्टोन से बनाई गई ब्रह्मा ब्रह्माणी, दुर्गा, नृत्य करते नटराज और धातु से बनी बाहुबली की मूर्ति शामिल हैं। वहीं, ऑस्ट्रेलिया से बुद्ध और कनाडा से पैरेट लेडी भी लाईं गईं हैं।

X
अमेरिका से अपने घर वापस आएगी एक हजार साल पुरानी ‘अप्सरा’
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..