Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» राव तुलाराम हॉस्पिटल में अतिरिक्त फार्मासिस्ट की जरूरत, शुरू नहीं हो पा रही एयरकंडीशन फार्मेसी

राव तुलाराम हॉस्पिटल में अतिरिक्त फार्मासिस्ट की जरूरत, शुरू नहीं हो पा रही एयरकंडीशन फार्मेसी

आशु मिश्रा | नई दिल्ली aashu.mishra@dbcorp.in राजधानी के बाहरी इलाकों में मौजूद अस्पतालों में मैन पावर की कमी से मरीजों के लिए...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:10 AM IST

राव तुलाराम हॉस्पिटल में अतिरिक्त फार्मासिस्ट की जरूरत, शुरू नहीं हो पा रही एयरकंडीशन फार्मेसी
आशु मिश्रा | नई दिल्ली aashu.mishra@dbcorp.in

राजधानी के बाहरी इलाकों में मौजूद अस्पतालों में मैन पावर की कमी से मरीजों के लिए बनाई गईं बड़ी योजनाएं भी शुरू नहीं हो पा रही हैं। ताजा मामला जाफरपुर के पास स्थित दिल्ली सरकार के राव तुलाराम मेमोरियल हॉस्पिटल का है। यहां मरीजों के लिए एक साल से बनकर तैयार एयर कंडीशन फार्मेसी शुरू ही नहीं हो पाई है। इस फार्मेसी में मरीजों के लिए आठ काउंटर मौजूद हैं। फार्मेसी के शुरू नहीं हो पाने का कारण फार्मासिस्टों की कमी है। इसके लिए अस्पताल प्रशासन की ओर से तीन साल में पांच बार डिमांड बनाकर भेजी जा चुकी है। आखिरी बार डिमांड तीन महीने पहले यानी जनवरी महीने में भेजी गई थी।

इमरजेंसी में दवा के लिए भी नहीं फार्मासिस्ट

मरीजों को इमरजेंसी में दवा देने के लिए भी फार्मासिस्ट मौजूद नहीं हैं। यहां दवा देने का काम इमरजेंसी में भी नर्स ही करती हैं। 24 घंटे दवा देने की सुविधा तक अस्पताल में मौजूद नहीं है।

इमरजेंसी में भी दवा देने का काम नर्स ही करती हैं

ये हैं सरकारी आदेश

चार महीने पहले ही सरकारी आदेश आया था कि ऑर्थो और गायनी डिपार्टमेंट के मरीजों को आम मरीजों के साथ दवा के लिए लाइन में नहीं लगे होना चाहिए। इनके लिए अलग से व्यवस्था की जाए।

विकलांगों के लिए और बुजुर्गों के लिए अलग-अलग काउंटर होने चाहिए।

पुरानी पर्चियों वाले मरीजों का अलग काउंटर होनी चाहिए।

फीवर काउंटर की भी अलग से व्यवस्था होनी चाहिए। जिससे मरीजों को परेशानी न हो।

फार्मेसी शुरू करने का पूरा प्रयास कर रहे

वर्तमान समय में हमारे तीन काउंटर काम कर रहे हैं। हमारा पूरा प्रयास है कि दो-तीन महीने के अंदर एयरकंडीशन फार्मेसी शुरू कर दी जाए, भले ही सभी काउंटर यहां शुरू ना हो सकें। लेकिन कुछ को शुरू कर दिया जा सकेगा। फार्मासिस्टों की कमी है और हमारी तरफ से इसकी कई बार डिमांड भेजी जा चुकी है। - डॉ. संगीता बासू, एमएस, राव तुलाराम मेमोरियल हॉस्पिटल

जूनियर डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए एप बनाएगा डीएमए

नई दिल्ली|
डीएमए के नए चयनित पदाधिकारियों ने शनिवार को जनरल बॉडी मीटिंग में पदभार ग्रहण किया। इस दौरान उन्होंने ऐलान किया कि उनका मुख्य मकसद होगा कि जूनियर डॉक्टरों को असॉल्ट से बचाएं। उनकी सिक्योरिटी के लिए जल्द ही एक एप लॉन्च किया जाएगा। यह जानकारी दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन (डीएमए) के प्रेसिडेंट डॉ. अश्विनी गोयल ने दी। उन्होंने यह भी बताया कि ब्रिज कोर्स के खिलाफ डीएमए हमेशा लड़ाई लड़ेगा।

जरूरत 10 फार्मासिस्टों की, काम कर रहे चार

इस अस्पताल में मरीजों की ओपीडी के अनुसार दस फार्मासिस्टों की जरूरत है, ताकि 8 काउंटर शुरू किए जा सकें। इसके विपरीत यहां वर्तमान समय में तीन काउंटर ही काम कर रहे हैं। फार्मासिस्टाें के 6 पद हैं। इसमें केवल चार पदों पर ही नियुक्तियां हो रखी हैं। दो पद खाली हैं। एयरकंडीशन फार्मेसी के लिए 4 और फार्मासिस्टों की जरूरत है, ताकि इसके अंदर बने 8 काउंटर एक बार में शुरू किए जाएं लेकिन ऐसा नहीं हो पा रहा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×