Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» महंगा इलाज हर साल 8 करोड़ लोगों को बना देता है गरीब

महंगा इलाज हर साल 8 करोड़ लोगों को बना देता है गरीब

हर साल देश के आठ करोड़ लोगों की आर्थिक सेहत सिर्फ बीमारियों की वजह से बिगड़ जाती है। स्वास्थ्य सेवा व्यवस्था ऐसी है...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 04:05 AM IST

हर साल देश के आठ करोड़ लोगों की आर्थिक सेहत सिर्फ बीमारियों की वजह से बिगड़ जाती है। स्वास्थ्य सेवा व्यवस्था ऐसी है कि 40 फीसदी मरीजों को इलाज के लिए खेत-खलिहान तक बेचने पड़ जाते हैं। एम्स की स्टडी ने भी इस बात को साबित भी किया है। दिल्ली एम्स और हरियाणा के कॉम्प्रहेंसिव रुरल हेल्थ सर्विसेज प्रोजेक्ट में इलाज कराने आए 374 मरीजों पर अध्ययन किया गया। ग्रामीण क्षेत्रों में बीमारी की वजह से पहले 53.3 फीसदी लोग नौकरी कर रहे थे लेकिन बीमारी होने के बाद ऐसे लोगों की संख्या आधी रह गई। वहीं शहरी क्षेत्र में 65.5 फीसदी मरीज नौकरी कर रहे थे जबकि बीमारी के बाद 23.4 फीसदी ही नौकरी में रह पाए।

एम्स की स्टडी

बीमारी के चलते हर दिन 4300 रुपए तक का घाटा

दिल्ली समेत अलग-अलग राज्यों से एम्स आने वाले 456 मरीजों पर हुए अध्ययन के मुताबिक दिल्ली के मरीज को एक विजिट पर 1900 रुपए का नुकसान होता है जबकि बाहर से आए मरीज को 4300 रुपए का नुकसान होता है। इसमें मरीज और तीमारदार की एक दिन की आय और आने-जाने और खाने का खर्च जुड़ा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×