• Hindi News
  • Union Territory
  • New Delhi
  • News
  • आप ने कहा शहीद दमकल कर्मियों को दिए 1 करोड़, परिवार बोला नहीं दिया चेक
--Advertisement--

आप ने कहा- शहीद दमकल कर्मियों को दिए 1 करोड़, परिवार बोला- नहीं दिया चेक

News - अंकित सक्सेना की मौत के बाद मुआवजे बांटने को लेकर दिल्ली सरकार पर लग रहे भेदभाव के आरोप के बाद मामला और गरमा गया है।...

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2018, 04:05 AM IST
आप ने कहा- शहीद दमकल कर्मियों को दिए 1 करोड़, परिवार बोला- नहीं दिया चेक
अंकित सक्सेना की मौत के बाद मुआवजे बांटने को लेकर दिल्ली सरकार पर लग रहे भेदभाव के आरोप के बाद मामला और गरमा गया है। सत्ता पक्ष के विधायक और कार्यकर्ता शहीदों के नाम लिखकर उनको सहायता राशि के एक करोड़ देने की बात सोशल मीडिया पर बता रहे हैं, पीड़ित के परिवार ने आप के दावों को झूठा बताया है। आप के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने मंगलवार को ट्वीट किया कि दिल्ली सरकार ने ड्यूटी पर शहीद दिल्ली के काकरोल गांव के फायर फाइटर शहीद हरिओम को 1 करोड़ दिए। सबको दिया, देश में सबसे पहले दिया और आगे भी देंगे। इस पर हरिओम की प|ी सुमन ने बताया कि पति की मौत को 1 साल होने वाला है। न तो केजरीवाल ने मिलने का समय दिया और न ही चेक दिया। सुमन ने बताया कि कुछ दिन पहले विधायक नरेश बाल्यान से बात की। उन्होंने बताया कि अभी सीएम समय नहीं दे रहे हैं। उनके समय मिलने पर आपको साथ लेकर मिलने चलूंगा। सुमन ने बताया कि वह रिश्तेदारों से रुपए उधार लेकर बच्चों की पढ़ाई लिखाई कर रही हैं।

पीड़ित परिवार ने सरकार के दावों को झूठा और भ्रमित करने वाला बताया



2015 में बनाई नीति

दिल्ली सरकार ने वर्ष 2015 में यूनिफाॅर्म विभागों के कर्मचारी और अधिकारियों की ड्यूटी पर मौत होने पर 1 करोड़ रुपए देने की नीति बनाई थी।

सीधी बात| नरेश बाल्यान, विधायक, उत्तम नगर

हरिओम के परिवार को सहायता राशि मिल गई?


सौरभ भारद्वाज ने ट्वीट किया है एक करोड़ रुपए दे दिए?


अरविंद केजरीवाल की ओर से मिलने का समय नहीं देने की बात भी पीड़ित परिवार कह रहा है?


हर बार सिर्फ आश्वासन मिला, मुआवजा नहीं

31 मई 2017| 52 वर्षीय विजेन्द्र पाल आनंद पर्वत में हीटर फैक्ट्री में आग बुझाने गए थे। यहां फैक्ट्री का पिछला हिस्सा ढहने से तीन कर्मी चपेट में आ गए। अस्पताल में विजेन्द्र पाल ने दम तोड़ दिया।

नहीं मिल रहा कोई जवाब

हमारे घर मुख्यमंत्री की जगह मंत्री सत्येन्द्र जैन आए थे। उन्होंने अपनी वाहवाही के लिए बयान दिया। यहां सम्मान समारोह करने और सहायता राशि देने की बात कहकर गए। अब विधायक से पूछो तो बोलते हैं मैं बात करता हूं। पर कोई संतोषजक जवाब नहीं मिल रहा।

-केशवती, विजेन्द्र की प|ी

नेता प्रतिपक्ष ने लगाया वाहवाही लूटने का आरोप

28 सितंबर 2016|42 वर्षीय सुनील व 36 वर्षीय मंजीत भोरगढ़ औद्योगिक क्षेत्र में फैक्ट्री में आग की सूचना पर पहुंचे थे। आग बुझाने के दौरान बाॅयलर फट गया। हादसे में दोनों के ऊपर दीवार गिर गई। इसमें दोनों की मौत हो गई।

अभी तक नहीं मिली राशि

अभी तक मेरे परिवार को कोई राशि नहीं मिली है। कई बार विधायक गए तो उन्होंने यह कह दिया कि उनके द्वारा फाइल उपराज्यपाल के पास भेजी गई है इस वजह से अभी देरी लग रही है। कोई विधायक और अधिकारी भी संतोषजनक जवाब भी नहीं दे रहा है। हम कहां जाए। और किससे अपनी बात कहें।

- नरेन्द्र, सुनील का बेटा

ये धोखा है और भावनाओं के साथ खिलवाड़ है। झूठी वाहवाही लूटने का घटिया तरीका है। यह उन परिवारों के साथ घटिया मजाक है, जिन्होंने दूसरों की जान बचाने में अपनों को खो दिया। दिल्ली सरकार सरकारी सहायता को सम्प्रदाय और जाति के आधार पर बांटने की दोहरी और गंदी राजनीति कर रही है। - विजेन्द्र गुप्ता, नेता प्रतिपक्ष

24 फरवरी 2017| 47 वर्षीय हरिओम और उनके साथी हरि सिंह मीणा दुकान में गैस सिलेंडर से रिसाव की सूचना पर पहुंचे थे। दुकान का शटर उठाने पर सिलेंडर में ब्लास्ट हो गया, जिसमें दोनों की मौत हो गई।

वोट के लिए झूठा आश्वासन

चुनावी फायदे के लिए दिया झूठा आश्वासन। यही वजह है कि अब हमारी न तो कोई सुन रहा और न ही हमारी कहीं पूछ हो रही। दूसरों की जान बचाने में मेरे पति ने अपनी जान गंवा दी। अब मैं उधार रुपए लेकर बच्चों को पढ़ा रही हूं। अब हम कहां जाएं। मुख्यमंत्री जी यह ठीक नहीं है।

- सुमन, मृतक हरिओम की प|ी

X
आप ने कहा- शहीद दमकल कर्मियों को दिए 1 करोड़, परिवार बोला- नहीं दिया चेक
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..