Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» पीएमआई ने किया सर्वे, विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर जनवरी में तीन माह के निचले स्तर पर पहुंची

पीएमआई ने किया सर्वे, विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर जनवरी में तीन माह के निचले स्तर पर पहुंची

विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर जनवरी में तीन माह के निचले स्तर पर पहुंच गई। इसकी अहम वजह कारखानों का उत्पादन, नए...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 04:10 AM IST

विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर जनवरी में तीन माह के निचले स्तर पर पहुंच गई। इसकी अहम वजह कारखानों का उत्पादन, नए ऑर्डर और रोजगार वृद्धि का धीमा रहना है। यह बात कंपनियों के परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्सिंग सर्वे में सामने आई है। निक्केई इंडिया का विनिर्माण पीएमआई जनवरी में गिरकर 52.4 पर पहुंच गया जबकि दिसंबर में यह 60 माह के उच्च स्तर यानी 54.7 पर था। हालांकि, यह लगातार छठा महीना है जब विनिर्माण पीएमआई 50 से ऊपर रहा है।

पीएमआई का 50 से ऊपर रहना संबंधित क्षेत्र की गतिविधियों में विस्तार को जबकि 50 से नीचे रहना संकुचन को दर्शाता है। आईएचएस मार्केट में इकोनॉमिस्ट और इस रिपोर्ट को बनाने वाली आशना डोढिया ने कहा कि दिसंबर में बढ़िया प्रदर्शन करने के बाद भारतीय विनिर्माण अर्थव्यवस्था ने अपनी तेजी को जनवरी में खो दिया। इसका प्रमुख कारण उत्पादन और नए ऑर्डर में कमी के साथ रोजगार निर्माण में वृद्धि का धीमा रहना है। डोढिया ने कहा कि 102 वस्तुओं की ड्यूटी में बदलाव से अंतरराष्ट्रीय बाजार में भारत अधिक प्रतिस्पर्धी बनेगा और इससे विदेशों से मांग में आने वाले महीनों में तेजी आ सकती है। वहीं, जीएसटी अभी भी कुछ हद तक व्यापार प्रदर्शन के लिए खतरा बना हुआ है, क्योंकि कंपनियों को देरी से भुगतान का सामना करना पड़ रहा है।

नई दिल्ली। आम बजट पर शेयर बाजारों में सधी प्रतिक्रिया देखने को मिली है। शुरू में बाजारों में तेजी थी, लेकिन दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ (एलटीसीजी) कर की घोषणा के बाद से इसमें गिरावट होने लगी। अब एक साल बाद शेयर बेचने पर अगर एक लाख रुपये का मुनाफा होता है तो इस पर 10 फीसदी कर चुकाना होगा। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 83.97 अंकों की तेजी के साथ 36,048.99 पर खुला और 58.36 अंकों या 0.16 फीसदी की गिरावट के साथ 35,906.66 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 36,256.83 के ऊपरी और 35,501.74 के निचले स्तर को छुआ। सेंसेक्स के 30 में से 13 शेयरों में तेजी रही। महिंद्रा एंड महिंद्रा (4.44 फीसदी), लार्सन एंड टूब्रो (2.77 फीसदी), इंडसइंड बैंक (2.44 फीसदी), बजाज �’टो (2.12 फीसदी) और एशियन पेंट्स (1.89 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही। बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में मिला-जुला रुख रहा। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 93.30 अंकों की गिरावट के साथ 17,270.90 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 0.63 अंकों की तेजी के साथ 18,717.40 पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी सुबह 16.85 अंकों की तेजी के साथ 11,044.55 पर खुला और 0.10 फीसदी की गिरावट के साथ 11,016.90 पर बंद हुआ।

बजट के बाद गिरे बाजार, सेंसेक्स 58 अंक नीचे

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×