Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» Delhi Air Pollution Odd Even Row

स्मॉग पर ऑड-ईवन : सरकार ने अब कम प्रदूषण बता दोपहिया पर मांगी छूट

एनजीटी ने सीपीसीबी से मांगे पॉल्यूशन के दो दिन के आंकड़े, आज आ सकता है फैसला

Bhaskar News | Last Modified - Nov 17, 2017, 08:21 AM IST

  • स्मॉग पर ऑड-ईवन : सरकार ने अब कम प्रदूषण बता दोपहिया पर मांगी छूट
    +1और स्लाइड देखें
    नई दिल्ली के बाहरी इलाके में कूड़े के ढेर में रोज सुबह आग लगा दी जाती है।

    नई दिल्ली. राजधानी के लोगों को पॉल्यूशन से तेज हवा ने भले ही राहत दे दी हो, लेकिन इस पर ऑड-ईवन का ड्रामा थमने का नाम नहीं ले रहा है। दिल्ली सरकार एक बहाना बनाती है तो कभी दूसरा। इधर, एनजीटी की तरफ से उन पर कोई न कोई कमेंट्स या आदेश आ जाता है। 13 नवंबर से ऑड-ईवन लागू करने की घोषणा कर चुकी सरकार अब तक इस पर राजनीति कर रही है। अगर 13 को ऑड-ईवन लागू हो गया होता तो शुक्रवार को इसका आखिरी दिन होता और सरकार इसका श्रेय भी ले चुकी होती कि क्योंकि पिछले दो दिन से स्मॉग कम हो गया है। शुक्रवार को एक्यूआई 363 दर्ज किया गया। एनजीटी शुक्रवार को सरकार की याचिका का निपटारा कर सकती है।


    गुरुवार को ऑड-ईवन में दोपहिया और महिलाओं को छूट को लेकर एनजीटी में चार बार सुनवाई हुई। मामले में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने कहा कि हमने आईटीओ पर पहले ऊंचाई फिर ग्राउंड लेवल से पानी की बारिश की। इससे पीएम 2.5 का स्तर 106 पहुंच गया। प्रदूषण के लेवल में कमी आ रही है। सरकार ने कहा कि पॉल्यूशन कम हो रहा है। ऐेसे में दोपहिया और महिलाओं को छूट दी जा सकती है। इस पर एनजीटी के चेयरमैन स्वतंत्र कुमार ने दिल्ली सरकार व सीपीसीबी से पूछा कि पीएम 10 कितना है। आप पिछले दो दिन का पीएम लेवल बताएं। हमें तो पता चला है कि कई पॉल्यूशन मॉनिटर स्टेशन ही खराब पड़े हैं।


    सीपीसीबी ने बताया कि यह ऑनलाइन डाटा है। हमने मैन्यूअल पीएम का स्तर लिया था, जिसकी रिपोर्ट आने में 48 घंटे का समय लगता है। पीएम 10 का लेवल नहीं है। इस पर एनजीटी ने दिल्ली सरकार व सीपीसीबी को आदेश दिए कि वह पिछले दो दिन के डाटा का एनालिसिस पेश करें। इस पर 17 नवंबर को फैसला सुनाएंगे। पॉल्यूशन का लेवल बहुत खराब है। मामले को लंबा नहीं खींचना चाहते। कल से लैंडफिल साइट पर भी सुनवाई करेंगे।

    ऑड-ईवन को लेकर कब, क्या हुआ

    8 नवंबर: एलजी ने परिवहन विभाग को ऑड-ईवन की तैयारी के निर्देश दिए।

    9 नवंबर: परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने 13-17 नवंबर के बीच ऑड-ईवन का ऐलान किया।

    11 नवंबर: एनजीटी ने दोपहिया, महिला चालक और वीआईपी को ऑड-ईवन से छूट नहीं दी तो मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आपात बैठक कर ऑड-ईवन लागू नहीं करने का ऐलान कर दिया।

    13 नवंबर: दिल्ली सरकार ने दोपहिया और महिलाओं को छूट के लिए एनजीटी में पुनर्विचार याचिका दाखिल की लेकिन छूट नहीं मिली।

    15 नवंबर: कैलाश गहलाेत ने सुप्रीम काेर्ट मॉनिटरिंग कमेटी ईपीसीए को लिखा कि ऑड-ईवन दिल्ली के साथ-साथ पूरे एनसीआर में होना चाहिए।

    स्मॉग खत्म होते ही दो दिन में घटी सांस के रोगियों की संख्या

    राजधानी में स्मॉग खत्म होते ही सांस के रोगियों की संख्या में गिरावट आ गई है। स्मॉग के दौरान अस्पतालों के साथ-साथ डिस्पेंसरियों में भी सांस के मरीजों की संख्या आम दिनों के मुकाबले बहुत अधिक थी। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के ऑफिशियल आंकड़ों के अनुसार स्मॉग के दौरान रोजाना 12 हजार से अधिक सांस के मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे थे, लेकिन स्मॉग खत्म होते ही दो दिन में इन आंकड़ों में 15 प्रतिशत तक कमी आ गई है।

  • स्मॉग पर ऑड-ईवन : सरकार ने अब कम प्रदूषण बता दोपहिया पर मांगी छूट
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |
Web Title: Delhi Air Pollution Odd Even Row
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×