Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» Delhi Hc Asked The Govt To Odd Even Apply In Neighboring States Also

बच्चों को उपहार में संक्रमित फेफड़े मिल रहे हैं और आप लोग पल्ला झाड़ रहे हैं: एनजीटी

ऑड-ईवन: महिलाओं-दोपहिया को छूट से इनकार, सरकार को फटकार

Bhaskar News | Last Modified - Nov 15, 2017, 05:36 AM IST

  • बच्चों को उपहार में संक्रमित फेफड़े मिल रहे हैं और आप लोग पल्ला झाड़ रहे हैं: एनजीटी
    +1और स्लाइड देखें
    नई दिल्ली. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने ऑड-ईवन स्कीम में महिलाओं आैर दोपहिया वाहनों को छूट देने से मंगलवार को फिर इनकार कर दिया। उल्लेखनीय है कि एनजीटी ने 11 नवंबर को जारी आदेश में महिलाओं और दोपहिया वाहनों को ऑड-ईवन स्कीम में शामिल करने का आदेश दिया था। इसके बाद ऑड-ईवन पर अमल को टालते हुए सरकार ने सोमवार को पुनर्विचार याचिका दायर की थी। लेकिन एनजीटी ने अपने आदेश में संशोधन करने से इनकार कर दिया।

    एनजीटी के चेयरमैन स्वतंत्र कुमार की बेंच ने सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि बच्चों को संक्रमित फेफडें उपहार में न दें, स्कूल जाते वक्त उन्हें मास्क की ज़रूरत पड़ती है और आप लोग पॉल्यूशन पर एक-दूसरे राज्यों की जिम्मेदारी होने की बात कहकर पल्ला झाड रहें हैं। सरकार ने एनजीटी का कड़ा रुख देखते हुए अपनी याचिका वापस तो ले ली लेकिन कुछ घंटों के भीतर देर शाम दूसरी पुनर्विचार याचिका दायर कर दी है। इस बार सरकार ने दोपहिया व महिलाओं को छूट देने के साथ यूपी, हरियाणा समेत आसपास के सभी राज्यों में ऑड-इवन लागू करने की मांग की है। 16 नवंबर को इस याचिका पर सुनवाई होगी।
    एनजीटी के आदेश: सरकार 10 साल पुराने डीजल वाहनों को तुरंत सड़कों से हटाएं।
    - जब हम सबको पता है कि दोपहिया से पॉल्यूशन होता है, ऐसे में सरकार बताए कि ऑड-ईवन में इन्हें राहत क्यों मिले?
    - 2016 में सरकार ने कहा था कि 4 हजार बसें आएंगी। अब आप 2500 बसें लाने की बात कह रही है, सच क्या है?
    - सरकार दिल्ली के किसी एक या दो इलाकों को चिन्हित करें, वहां हेलिकॉप्टर से पानी का छिड़काव करें या किसी मल्टी स्टोरी बिल्डिंग से। फिर वहां के पॉल्यूशन पर रिपोर्ट दें।
    - एनजीटी ने मंगलवार को उन इंडस्ट्री को चलाने की अनुमति दी है जो पॉल्यूशन संबंधी तय मानकों को पूरा कर रहें हैं या फिर जिन इंडस्ट्री से पॉल्यूशन नहीं होता है।
    - एनजीटी ने एनएचएआई को कहा कि वह यह हलफनामा दे कि उनकी कंस्ट्रक्शन साइट से धूल नहीं उड़ेगी।
    ट्रकों की एंट्री फिर बंद
    - दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए अगले ऑर्डर तक ट्रकों की एंट्री पर प्रतिबंध। केवल सब्जियां, फल, दूध, ला रहे ट्रकों को एंट्री मिलेगी।
    ...इधर, हाफ मैराथन पर हाईकोर्ट ने मांगा जवाब
    - 19 नवंबर को होने वाली हाफ मैराथन स्थगित करवाने के लिए आईएमए ने दिल्ली हाईकोर्ट को एक पत्र लिखा है।
    - पत्र के आधार पर कोर्ट ने दिल्ली सरकार, पुलिस, दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति और मैराथन के आयोजकों को नोटिस जारी कर 16 नवंबर तक जवाब मांगा है।
    उधर, स्टडी में दावा: प्रदूषण से दिल्ली में 10% तक छोटे हो रहे बच्चों के फेफड़े
    दिल्ली का प्रदूषित माहौल बच्चों के फेफड़ों का विकास बुरी तरह प्रभावित कर रहा है। अमेरिका और भारत में आठ साल तक के बच्चों के फेफड़ों का साइज सामान्य होता है। लेकिन वयस्क होने पर अमेरिकियों की तुलना में फेफड़े 10% कम विकसित रहते हैं। लड़के और लड़कियों दोनों पर ही यह प्रभाव एक जैसा दिखा है। वल्लभ भाई पटेल चेस्ट इंस्टीट्यूट के पूर्व डायरेक्टर प्रो. एसके छाबड़ा की स्टडी में यह दावा किया गया है। यह स्टडी जर्नल ऑफ इंडियन पेडियाट्रिक्स में छपी है।
    राहत: तेज हवाओं ने फिर बचाया दिल्ली को, एयर क्वालिटी इंडेक्स 460 से गिरकर आया 308 पर
    मंगलवार को दिनभर चली तेज हवा ने प्रदूषण से जूझ रही दिल्ली को फिर राहतभरी सांस लेने का मौका दिया। करीब 11 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चली हवा से एयर क्वालिटी इंडेक्स सोमवार के 460 के मुकाबले मंगलवार को गिरकर 308 पर आ गया। पिछले साल भी स्मॉग के समय तेज हवाओं से ही स्थिति सुधरी थी। स्काईमेट के मौसम वैज्ञानिक महेश पलावत के अनुसार जो प्रदूषित कण वातावरण में हवा न चलने से एक जगह ठहरे हुए थे, आसमान की तरफ चले गए। बुधवार को प्रदूषण में और गिरावट आने का अनुमान है।
    दिल्ली के प्रदूषण का हल ढूंढ़ने आज चंडीगढ़ में चर्चा करेंगे खट्टर आैर केजरीवाल
    दिल्ली में प्रदूषण के मुद्दे पर बुधवार को हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्‌टर और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल बैठक करेंगे। केजरीवाल दोपहर करीब 12.15 बजे चंडीगढ़ पहुंचेंगे।
  • बच्चों को उपहार में संक्रमित फेफड़े मिल रहे हैं और आप लोग पल्ला झाड़ रहे हैं: एनजीटी
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×