Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» Pollution Level In Delhi Is Very Poor In The Morning

स्कूलों में सुबह आउटडोर एक्टिविटी बंद करें, बच्चों के फेफड़ों पर पड़ता है असर

आईएमए ने उपमुख्यमंत्री को लिखी चिट्‌ठी, राजधानी में सुबह प्रदूषण का स्तर बहुत खराब, हमारी सलाह...

Bhaskar News | Last Modified - Nov 07, 2017, 04:50 AM IST

  • स्कूलों में सुबह आउटडोर एक्टिविटी बंद करें, बच्चों के फेफड़ों पर पड़ता है असर
    +2और स्लाइड देखें
    धुंध और धूल के कण बढ़ा रहे हैं पॉल्यूशन लेवल
    नई दिल्ली. मौजूदा समय में दिल्ली में प्रदूषण का स्तर सामान्य से तीन गुना ज्यादा है। इसके कारण सुबह के समय स्कूलों में आउटडोर एक्टिविटी करने से बच्चों के फेफड़ों पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है। यही नहीं दिल्ली के 14 एयर मॉनिटरिंग स्टेशन पर वायु गुणवत्ता बहुत खराब है। यहां एयर क्वालिटी इंडेक्स 300 है, जबकि 100 को सामान्य माना जाता।
    इसे लेकर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के प्रेसिडेंट डॉ. केके अग्रवाल ने दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया को पत्र लिख कर सुबह के समय स्कूलों में आउटडोर एक्टिविटी पूरी तरह से बंद करने की अपील की है।

    डॉ. अग्रवाल ने लिखा है कि बच्चे जब शारीरिक परिश्रम करते हैं तो उन्हें ज्यादा ऑक्सीजन की जरूरत होती है। ऐसे में सांस के साथ प्रदूषण की बड़ी मात्रा बच्चों के शरीर में जाती है। यह बच्चों के फेफड़ों में ग्रोथ का समय होता है ऐसे में यदि प्रदूषण की बड़ी मात्रा शरीर में जाती है तो फेफड़ों के विकास पर असर पड़ता है और भविष्य में उन्हें नुकसान उठाना पड़ सकता है।
    रेडियो, टेलीविजन के अलावा सोशल मीडिया से भी प्रचार-प्रसार किया जाना चाहिए कि मार्निंग वॉक से बचें। तब एक सामान्य आदमी को भी सांस लेने में दिक्कत है। इसलिए हृदय और अस्थमा के मरीजों के अलावा बुजुर्ग और बच्चों को कम से कम घर से बाहर निकलना चाहिए।
    अलर्ट : नाइट्रोजन ऑक्साइड का स्तर साढ़े सात गुना बढ़ा
    नई दिल्ली | दिल्ली में सर्दियां शुरू होने के बाद इस सीजन में पहली बार नाइट्रोजन ऑक्साइड जैसे बेहद खतरनाक प्रदूषित कणों का स्तर साढ़े सात गुना तक बढ़ गया है। रविवार रात डेढ़ बजे नाइट्रोजन ऑक्साइड का स्तर 600 एमजीसीएम तक पहुंच गया। इसका सामान्य स्तर 80 एमजीसीएम होता है। वहीं, सोमवार को आनंद विहार और आरकेपुरम में इसका स्तर 120 से ज्यादा दर्ज हुआ। आरकेपुरम में शाम छह बजे नाइट्रोजन डाइऑक्साइड का स्तर 170 एमजीसीएम दर्ज हुआ।
    गाड़ियों के प्रदूषित कण होते हैं नाइट्रोजन ऑक्साइड
    एक्सपर्ट का कहना है कि नाइट्रोजन ऑक्साइड गाड़ियों से निकलने वाले प्रदूषित कण होते हैं। इनका स्तर सुबह, शाम और रात में ज्यादा हो रहा है। इसका कारण तापमान कम होना शुरू हो गया है। जिससे ये ऊपर न उठकर पृथ्वी के करीब ही रह जाते हैं। सोमवार को शहर के 17 पॉल्यूशन मॉनिटरिंग स्टेशनों में पीएम 2.5 और पीएम 10 की एयर क्वालिटी इंडेक्स में 24 घंटे की वैल्यू 354 दर्ज हुई। यह और बढ़ने की आशंका है।
    असर : बढ़ेगी आंखों में जलन बच्चों के लिए भी खतरनाक
    इंडियन एसोसिएशन फॉर एयर पॉल्यूशन कंट्रोल के जनरल सेक्रेटरी श्याम कृष्ण गुप्ता का कहना है कि गाड़ियों के प्रदूषण से पीएम 2.5 और पीएम 10 के स्तर में 50% तक बढ़ोतरी हो रही है। इससे नाइट्रोजन ऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड का स्तर ज्यादा दर्ज हो रहा है। इससे आंखों में जलन होने लगती हैं। यह फेफड़ों की कोशिकाओं में भी असर डालता है। इनसे दिल की धमनियों पर भी असर पड़ सकता है। ऐसे में बच्चों को आउटडोर एक्टिविटी में कम-से-कम हिस्सा लेना चाहिए।
    धुंध और धूल के कण बढ़ा रहे हैं पॉल्यूशन लेवल
    12 पॉल्यूशन मॉनिटरिंग स्टेशनों में पीएम 2.5 का स्तर 150 से ज्यादा दर्ज हो रहा है। स्काइमेट के मौसम वैज्ञानिक महेश पलावत ने बताया कि पहले 12 किमी प्रतिघंटा से ज्यादा तेज हवा चल रही थी। सोमवार से यह 3 किमी रही। इससे दिल्ली में पीएम 2.5 और पीएम-10 जैसे प्रदूषित कणों के साथ गाड़ियों से निकलने वाले प्रदूषित कणों में भी इजाफा हो रहा है। सुबह के वक्त धुंध के साथ धूल के कण मिलकर पॉल्यूशन को बढ़ा रहे हैं।
    क्यों बढ़ रहे प्रदूषित कण
    12 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से पहले चल रही थी हवाएं, सोमवार से इसकी रफ्तार तीन किमी प्रति घंटे हो गई।
  • स्कूलों में सुबह आउटडोर एक्टिविटी बंद करें, बच्चों के फेफड़ों पर पड़ता है असर
    +2और स्लाइड देखें
    गाड़ियों के प्रदूषित कण होते हैं नाइट्रोजन ऑक्साइड
  • स्कूलों में सुबह आउटडोर एक्टिविटी बंद करें, बच्चों के फेफड़ों पर पड़ता है असर
    +2और स्लाइड देखें
    गाड़ियों से निकलने वाले प्रदूषित कणों से पीएम 2.5 और पीएम 10 के स्तर में 40 से 50% तक की बढ़ोतरी हो रही है
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×