Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» Seventh Pay Commission: Cabinet May Approve Bigger Hike

7th पे कमीशनः आज मिल सकती है कैबिनेट मंजूरी, 30% तक सैलरी बढ़ाने की बात

सेक्रेटरीज की एम्पावर्ड कमेटी ने केंद्र सरकार के 30 लाख से ज्यादा इम्प्लॉइज की सैलरी में 18 से 30% बढ़ाने की सिफारिश की है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jun 29, 2016, 12:01 AM IST

  • नई दिल्ली.7th पे कमीशन की सिफारिशों को मंजूरी मिलने के बाद अब सभी क्लास के इम्प्लॉइज की बेसिक सैलरी 2.57 गुना बढ़ेगी। मिनिमम बेसिक 18 हजार रुपए और मैक्सिमम 2.50 लाख रुपए हो जाएगी। यानी कैबिनेट सेक्रेटरी, आर्मी चीफ और कॉम्पट्रोलर एंड ऑडिटर जनरल (कैग) जैसे हाई रैंक ऑफिसर्स को 2.5 लाख रुपए सैलरी (अलाउंस शामिल नहीं) मिलेगी। ये अमाउंट मोदी और देश के सांसदों की मौजूदा सैलरी से ज्यादा है। अभी पीएम को 1.60 लाख रुपए (अलाउंस शामिल नहीं) और सांसद को 1.40 लाख रुपए (बेसिक, ऑफिस अलाउंस, सेक्रेटरी अलाउंस और चुनाव क्षेत्र के भत्ते को मिलाकर) मंथली सैलरी मिलती है। सांसद भी अपनी सैलरी दोगुनी करने की मांग कर रहे हैं। 70 साल में सबसे कम बढ़ोतरी, हड़ताल की तैयारी में 32 लाख इम्प्लॉई...
    - मोदी सरकार की कैबिनेट ने बुधवार को 7th पे कमीशन की सिफारिशों को मंजूरी दी।
    - फैसले के बाद अरुण जेटली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि अलाउंसेस में इजाफे पर फैसला 4 महीने बाद लिया जाएगा।
    - जेटली ने कहा, ''1 जनवरी 2016 से सिफारिशें लागू होंगी। फायदा सेंट्रल गवर्नमेंट के 47 लाख इम्प्लॉइज और 53 लाख पेंशनर्स को मिलेगा। जून तक का 6 महीने का एरियर्स सरकार मार्च 2017 से पहले ही देगी।'
    - बता दें कि केंद्र के कुल 47 लाख इम्प्लॉइज में से 32 लाख यानी 70% सरकार के इस एलान से नाराज हैं। उनका कहना है कि 14% सैलरी बढ़ाई जा रही है जो 70 साल में सबसे कम है।
    - इन इम्प्लॉइज के ज्वाइंट काउंसिल एनजेसीए का कहना है, 'ये अब तक का सबसे खराब पे कमीशन है। सरकार मिनिमम पे 18 हजार से बढ़ाकर 26 हजार करे। ऐसा नहीं हुआ तो 32 लाख इम्प्लॉई 11 जुलाई से हड़ताल पर जाएंगे।'
    10 Q&A में समझें कैसे और कितना फायदा...
    #1 कब से लागू होगा?
    1 जनवरी 2016 से।
    #2 बढ़ी हुई सैलरी कब से मिलने लगेगी?
    जुलाई की सैलरी, जो अगस्त में आएगी।
    #3 कितनी सैलरी बढ़ेगी?
    सभी कैटेगरी में बेसिक सैलरी में ढाई गुना इजाफा होगा। ब्रिगेडियर के पद ये इजाफा 2.67 गुना होगी।
    #4 तो अब मेरी सैलरी बढ़कर कितनी हो जाएगी?
    - बेसिक तो ढाई गुना बढ़ जाएगा। लेकिन अगले 4 महीनों तक मौजूदा अलाउंस ही मिलेगा।
    - इन दोनों को जोड़कर जो अमाउंट आएगा वही आपकी नई सैलरी होगी।
    #5 मिनिमम और मैक्सिम सैलरी अब कितनी हो गई?
    - 7 हजार रुपए की मिनिमम बेसिक पे बढ़कर 18 हजार रुपए हो गई।
    - मैक्सिमम पे 90 हजार थी वो अब 2.5 लाख होगी। ये अमाउंट एक सांसद की मौजूदा सैलरी से ज्यादा है। बता दें, सांसद की मौजूदा सैलरी सभी भत्ते मिलाकर 1.40 लाख रुपए मंथली है।
    - पेंशनर्स के लिए मिनिमम पेंशन अब 3500 की जगह 9 हजार हो गई है।
    - क्लास-1 अफसर का मिनिमम 56,100 रुपए होगा।
    #6 तो क्या अलाउंस में कोई इजाफा नहीं होगा?
    - फिलहाल कोई इजाफा नहीं होगा।
    - सरकार ने 7th पे कमीशन की अलाउंस से जुड़ी सिफारिशों के रिव्यू के लिए एक कमेटी बनाई है। एक्सपर्ट ग्रुप्स की राय पर कमेटी 4 महीने में सुझाव देगी।
    - सुझाव के आधार पर ही अलाउंस पर फैसला होगा। उसके बाद ही अलाउंस में बढ़ोत्तरी होगी।
    - तब तक मौजूदा रेट से अलाउंस ही मिलता रहेगा।
    - अभी 196 तरह के भत्ते मिलते हैं। वेतन आयोग ने 53 को खत्म करने और 37 को दूसरे भत्तों के साथ मिलाने की सिफारिश की थी। कमेटी इसी पर सुझाव देगी।
    #7 जनवरी से जून 2016 के 6 महीनों के एरियर्स का क्या?

    - मार्च 2017 से पहले ही मिल जाएगा। एक बार में ही पूरा एरियर्स मिलेगा या किश्तों में, ये तय होना बाकी।
    - सूत्रों के मुताबिक, सरकार एरियर्स को एक साथ 30:30:40 के रेशियो में देने की तैयारी कर रही है।
    - इसके तहत एरियर्स के टाेटल अमाउंट का 30% कैश देगी। 30% पीएफ में जमा करेगी और बचे 40% के लिए 10 साल का बॉन्ड देगी।
    #8 और क्या फायदे मिलेंगे?
    - एक बार की जगह साल में दो अलग-अलग डेट यानी 1 जनवरी और 1 जुलाई को इंक्रीमेंट होगा। लेकिन एक इम्प्लॉई को दो बार इंक्रीमेंट नहीं मिलेगा।
    - 7.5 की जगह अब घर बनाने के लिए एडवांस (एचबीए) 25 लाख रुपए ले सकेंगे।
    - ग्रेजुएटी 10 से बढ़ाकर 20 लाख कर दी है। डीए के साथ इसकी सीमा भी बढ़ेगी।
    - एक्स-ग्रेशिया 10 से 20 लाख की जगह 25 से 45 लाख रुपए मिलेगा।
    इन 4 जरूरतों पर मिलेगा इंट्रेस्ट फ्री एडवांस:टूर या ट्रांसफर के ट्रैवल अलाउंस के लिए, लीव ट्रैवल कंसेशन (एलटीसी) पर, मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए और मृत इम्प्लॉई के आश्रितों के लिए टीए की जरूरत पड़ने पर।
    #9 7th पे कमीशन कब तक के लिए है?

    अगले 10 साल तक इसी पे कमीशन के आधार पर सरकार से सैलरी मिलेगी।
    #10 तो क्या अगले 10 साल तक यही सैलरी मिलती रहेगी?
    नहीं, 7th पे कमीशन के मुताबिक जो आपकी सैलरी होगी, उस पर सालाना 3 फीसदी का इन्क्रीमेंट मिलेगा। साथ ही, महंगाई भत्ते में बढ़ोत्तरी होने पर भी सैलरी बढ़ेगी।
    69 साल में 327 गुना बढ़ी सैलेरी
    - पे कमीशन का इतिहास 69 साल पुराना है।
    - 1947 में बने पहले पे कमीशन ने मिनिमम सैलरी 55 रु. तय की थी। तब से अब तक इम्प्लॉइज की सैलरी 327 गुना बढ़ चुकी है।
    70 साल में सबसे कम इजाफे की सिफारिश, पहले कमीशन में 10 रुपए बढ़ी थी सैलरी
    - बेसिक पे के मामले में यह 70 साल में सबसे कम बढ़ोत्तरी की सिफारिश है। क्योंकि इस बार यह 16% बढ़ाने की बात कही गई है। जबकि 6th पे कमीशन में बेसिक सैलरी 20% बढ़ाने की सिफारिश की गर्इ थी।
    - पहले पे कमीशन में रेलवे के क्लास-4 इम्प्लॉई की सैलरी 10 रुपए से 30 रुपए तक बढ़ाई गई थी।
    इंक्रीमेंट से सरकार को वापस मिलेंगे 14 हजार करोड़

    - इंडिया रेटिंग्स के मुताबिक, इंक्रीमेंट के बाद लोग 45,110 करोड़ रुपए ज्यादा खर्च करेंगे। सेविंग्स में भी 30,710 करोड़ का इजाफा होगा।
    - अभी बैंक डिपॉजिट्स 53 साल के लो-लेवल पर है।
    - लोगों की बढ़ी इनकम पर सरकार को इनकम टैक्स मिलेगा।
    - चीजों की खरीदारी बढ़ने से एक्साइज ड्यूटी कलेक्शन भी बढ़ेगा।
    - दोनों मिलाकर करीब 14,134 करोड़ बतौर टैक्स सरकार को वापस मिल जाएंगे।
    कितनी बढ़ेगी महंगाई?
    - बाजार में पैसा आने से महंगाई डेढ़ फीसदी तक बढ़ सकती है।
    - डिमांड बढ़ने से कीमतों में जो इजाफा होगा, उसकी भरपाई क्रूड ऑयल और दूसरी कमोडिटी की कम हो रही कीमत से हो जाएगी। इसलिए ज्यादा असर नहीं होगा।
    कंज्यूमर ड्यूरेबल इंडस्ट्री में 15% से ज्यादा इजाफे की उम्मीद बनी
    - टीवी-फ्रिज जैसे कंज्यूमर ड्यूरेबल्स और सर्विसेज की मांग बढ़ेगी। सालाना 15% इजाफे की उम्मीद है।
    - अभी इस इंडस्ट्री में प्रोडक्शन कैपेसिटी का करीब 70% ही इस्तेमाल हो रहा है। ये बेहतर होगा।
    ऑटो सेक्टर में 15 से 20% ग्रोथ के आसार

    - ऑटो सेक्टर में 15 से 20% तक ग्रोथ हो सकती है। सिर्फ मारुति ने ही अपनी सेल्स 25% बढ़ने की उम्मीद जताई है।
    - इसके कस्टमर्स में 17% तो सेंट्रल और स्टेट गवर्नमेंट के इम्प्लॉई ही हैं।
    रियल्टी सेक्टर में सुस्ती खत्म होगी
    - पिछले तीन साल से करीब 9 लाख करोड़ रु. का रियल्टी सेक्टर सुस्ती में चल रहा है। बड़ी-बड़ी कंपनियां घाटे में हैं। प्रॉपर्टीज बिक नहीं रही है।
    - बाजार में पैसा आने से इनमें सबसे ज्यादा सुधार आएगा।
    पर्रिकर बोले: जेटली ने नहीं मानी मेरी भी सिफारिशें

    रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर का कहना है कि सेना से जुड़ी कुछ सिफारिशों को उन्होंने जेटली के सामने मजबूती से रखा था। लेकिन 7th पे कमीशन में उन्हें नहीं माना गया। हालांकि, पर्रिकर ने कुछ मांगों को माने जाने की बात कही।
  • केंद्र पर कितना आएगा बोझ
    - सैलरी बढ़ाने से केंद्र पर 1.02 लाख करोड़ रुपए का बोझ आएगा, जो कुल जीडीपी का 0.7% है।
    - 39100 करोड़ रुपए सैलरी, 29300 करोड़ रुपए अलाउंस और 33700 करोड़ रुपए पेंशन बढ़ाने पर खर्च होंगे।
    - आम बजट पर 73650 करोड़ रुपए और रेलवे बजट पर 28450 करोड़ रुपए का बोझ आएगा।
    - इम्प्लॉइज को अगस्त महीने से एरियर के साथ सैलरी दिए जाने की उम्मीद है। जनवरी से अब तक के एरियर्स भी मिलेंगे।
  • तब राज्य सरकारों के पास सैलरी देने के लिए पैसे नहीं थे
    - पांचवें पे कमीशन की सिफारिशें लागू होने के बाद केंद्र ने राज्य सरकारों से भी अपने इम्प्लॉइज की सैलरी का रिव्यू करने को कहा।
    - हालात ये बन गए थे कि 2000 में 13 राज्यों के पास अपने इम्प्लॉइज को सैलरी देने के लिए पैसे नहीं बचे।
    - इस फाइनेंशियल क्राइसिस से उबरने के लिए पश्चिम बंगाल, बिहार, उड़ीसा, असम, मणिपुर, मेघालय और मिजोरम ने एक ऐसा सिस्टम बनाने की मांग की, जिसके तहत केंद्र सरकार राज्य सरकारों से सलाह लिए बगैर सैलरी न बढ़ाए। वर्ल्ड बैंक ने भी इसे क्रिटिसाइज किया था।
  • तब सबसे कम 10 रुपए बढ़ी थी सैलरी
    - पहले पे कमीशन में रेलवे के क्लास-4 इम्प्लॉई की सैलरी 10 रुपए से 30 रुपए तक बढ़ाई गई थी।
    - क्लास-3 इम्प्लॉई की सैलरी में 35 से 60 रुपए का इजाफा हुआ था।
    - कमीशन ने रेलवे इम्प्लॉई के लिए मिनिमम पे 55 रुपए फिक्स किया था।
  • क्या है 7th पे कमीशन?

    - कमीशन के चेयरमैन अशोक कुमार माथुर हैं। उन्होंने कुछ महीने पहले फाइनेंस मिनिस्टर जेटली को सिफारिशें सौंपी थीं।
    - यह कमीशन यूपीए सरकार ने फरवरी 2014 में बनाया था। इसे 18 महीने में रिपोर्ट सौंपनी थी। लेकिन इसका टर्म अगस्त 2015 में चार महीने के लिए बढ़ा दिया गया था।
  • सरकारें क्यों बनाती हैं पे कमीशन?
    बढ़ती महंगाई और इम्प्लॉइज बेनिफिट के तकरीबन हर 10 साल बाद केंद्र सरकार पे कमीशन बनाती है। यह केंद्र के इम्प्लॉई का पे स्केल, रिटायरमेंट के बेनिफिट और दूसरे बेनिफिट्स पर चर्चा करता है।
  • कब-कब बने कमीशन?
    पहला पे कमीशन :जनवरी 1946 में बना था। इसकी रिपोर्ट मई 1947 में भारत की अंतरिम सरकार को सौंपी गई थी।
    दूसरा पे कमीशन :अगस्त 1957 में बना। इसकी रिपोर्ट 1959 में सौंपी गई। इससे सरकार पर करीब 40 करोड़ रुपए का बोझ बढ़ा।
    तीसरा पे कमीशन :अप्रैल 1970 में बना। मार्च 1973 में रिपोर्ट सौंपी। इससे सरकार पर 144 करोड़ रुपए का बोझ बढ़ा।
    चौथा पे कमीशन :जून 1983 में बना। चार साल में तीन फेज में इसकी रिपोर्ट सब्मिट की गई। सरकार पर 1,282 करोड़ रुपए का बोझ बढ़ा।
    पांचवां पे कमीशन :9 अप्रैल 1994 को आयाेग बना। तीन साल बाद इसकी रिपोर्ट सौंपी। सरकार पर 17,000 करोड़ रुपए का बोझ बढ़ा।
    छठा पे कमीशन :अक्टूबर 2006 में बना। मार्च 2008 में रिपोर्ट सौंपी। 1 जनवरी 2006 में सिफारिशें लागू की गईं। इससे सरकार पर 22,000 करोड़ रुपए का बोझ बढ़ा।
  • क्या थीं कमीशन की बाकी अहम सिफारिशें?
    - केंद्र के सभी इम्प्लॉइज के लिए भी वन रैंक-वन पेंशन हो। इसके दायरे में 10 साल पहले रिटायर हुए इम्प्लॉइज भी होंगे।
    - जब भी डीए 50% बढ़ेगा, ग्रैच्युटी लिमिट 25% बढ़ेगी।
    - सैलरी तय करने के लिए पे बैंड और ग्रेड पे का सिस्टम खत्म।
    - 56 तरह के अलाउंस खत्म किए जाएं, सभी को एक जैसी पेंशन।
    - पैरा मिलिट्री फोर्स के लिए भी शहीद का दर्जा। मिलिट्री सर्विस पे दोगुना होगा। यह सिर्फ आर्मी पर लागू होगा। बाकी पर नहीं।​
  • सेक्रेटरीज की कमेटी ने ज्यादा बढ़ोत्तरी की सिफारिश की थी
    - पीके सिन्हा की अगुआई वाली सेक्रेटरीज की कमेटी ने पे कमीशन की सिफारिशों से भी 30% ज्यादा सैलरी तय करने की बात कही थी।
    - यानी 18,000 की जगह करीब 27,000 और 2, 25,000 की जगह 3, 25,000 रुपए सैलरी करने का प्रपोजल दिया था।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Delhi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Seventh Pay Commission: Cabinet May Approve Bigger Hike
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×